पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आजम खान अब खतरे से बाहर:7 दिन बाद ICU से जनरल वार्ड में शिफ्ट किए गए सपा सांसद, डॉक्टर्स ने कहा- अब डरने की कोई बात नहीं

लखनऊ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
9 मई को सीतापुर जेल से आजम खान को लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
9 मई को सीतापुर जेल से आजम खान को लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के रामपुर से सांसद और समाजवादी पार्टी (SP) के नेता आजम खान के स्वास्थ्य में तेजी से सुधार हो रहा है। डॉक्टर्स ने अब उन्हें खतरे से बाहर बताया है। रविवार 9 मई को उन्हें सीतापुर जेल से लखनऊ के मेदांता अस्पताल लाया गया था। अगले ही दिन हालत बिगड़ने पर उन्हें ICU में ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया था। अब पहले की अपेक्षा वह काफी बेहतर हैं। उन्हें डॉक्टर्स ने ICU से जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया है।

पिछले 14 महीने से सीतापुर जेल में बंद थे आजम
आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला पिछले 14 महीने से सीतापुर जेल में बंद थे। दोनों 1 मई को कोरोना संक्रमित पाए गए थे। अभी तक उनका जेल में इलाज चल रहा था, लेकिन ऑक्सीजन लेवल कम होने के बाद रविवार को उन्हें लखनऊ के मेदांता अस्पताल में शिफ्ट किया गया। आजम के साथ उनके बेटे अब्दुल्ला को भी मेदांता में ही भर्ती कराया गया था।

मार्च 2020 में पत्नी-बेटे के साथ जेल भेजे गए थे आजम
आजम, उनकी पत्नी रामपुर सदर से विधायक तंजीन फातिमा और बेटे अब्दुल्ला के खिलाफ फरवरी 2020 में रामपुर के अपर जिला न्यायाधीश धीरेंद्र कुमार की अदालत ने कुर्की का वारंट जारी किया था। यह वारंट पूर्व विधायक अब्दुल्ला आजम के दो जन्म प्रमाणपत्र बनवाने से संबंधित मुकदमे में जारी किए गए थे। अदालत में पेश न होने के कारण तीनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट पहले ही जारी किए जा चुके थे।

20 दिसंबर को रिहा हो चुकी है आजम की पत्नी
तीनों ने अपर जिला न्यायाधीश की अदालत में समर्पण किया था। जहां उन्हें 2 मार्च 2020 तक के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया था। सांसद आजम समेत तीनों नेताओं को रामपुर जेल में रखा गया था। लेकिन, कानून व्यवस्था का हवाला देकर तीनों को सीतापुर जेल में शिफ्ट कर दिया गया था। इससे पहले 20 दिसंबर को फातिमा जेल से रिहा हुई थीं। हालांकि, उनके बेटे अब्दुल्ला और खुद सांसद आजम खान जेल में रहे।

इस प्रकरण में जेल गया था आजम कुनबा
दरअसल, रामपुर के गंज थाने में आकाश सक्सेना ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। आरोप लगाया गया था कि आजम के बेटे अब्दुल्ला आजम खान ने 28 जनवरी 2012 और 21 अप्रैल 2015 को नगर निगम रामपुर से दो जन्म प्रमाण पत्र जारी करावाए। इसमें अलग-अलग जन्म तिथि है, एक में उनकी जन्म तिथि 1 जनवरी 1993 है, तो दूसरे में 30 सितंबर 1990 है। ऐसा उनके द्वारा सरकारी लाभ व चुनाव लड़ने के लिए किया। उनके इस धोखाधड़ी में उनके पिता आजम खान व उनकी मां डॉ. तंजीन फातिमा शामिल हैं। इसी जन्म प्रमाणपत्र के आधार पर अब्दुल्ला आजम खान की विधायकी भी रद्द की जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...