पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Barabanki Coronavirus Today News Updates। 82 Year Old Elderly Died In Home Quarantine No One Took Care Insects Found In Dead Body After Death Uttar Pradesh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बाराबंकी:बुजुर्ग को क्वारैंटाइन खत्म होने के बाद घर में रहने की हिदायत दी; किसी ने सुध नहीं ली, मौत के बाद शव पर कीड़े रेंगने लगे

बाराबंकी 7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासन ने पूरे गांव का सैनिटाइजेशन शुरू कर दिया है। फिलहाल मृतक की रिपोर्ट नहीं आई है। यहां रहने वालों में कोरोना संक्रमण फैलने का डर है। 
  • 82 साल के बुजुर्ग को 22 मार्च को होम क्वारैंटाइन किया गया था, क्वारैंटाइन खत्म होने केे बाद घर में रहने की हिदायत दी गई
  • दुर्गंध आने पर गांववालों ने पुलिस को सूचना दी; प्रशासन ने शव दफन कराया, पूरा गांव सील

उत्तर प्रदेश में कोरोना से लड़ाई के लिए योगी सरकार के दावों की पोल खुल गई। बाराबंकी जिले में होम क्वारैंटाइन में रहे एक बुजुर्ग (82 साल) ने दम तोड़ दिया। दुर्गंध आने पर गांववालों ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद रविवार को जब अधिकारी मौके पर पहुंचे तो शव पूरी तरह से सड़ चुका था और उस पर कीड़े रेंग रहे थे। प्रशासन ने आनन-फानन में शव दफन कराया। उसके कोरोना सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी है। एहतियातन पूरे गांव को सील कर सैनिटाइजेशन का काम शुरू कर दिया गया है।

बुजुर्ग मार्च में गुजरात से अपने गांव बढ़नापुर लौटा था। इसके बाद 22 मार्च को प्रशासन ने उसे होम क्वारैंटाइन कर दिया था। फिर आशा वर्कर ने 4 अप्रैल को घर के बाहर दूसरा नोटिस चस्पा कर दिया। जिसमें लिखा था कि कोई भी इस घर में प्रवेश न करे। बुजुर्ग को लॉकडाउन खत्म होने तक घर में ही रहने की हिदायत दी गई।  इसके बाद प्रशासन की ओर से किसी ने उसकी सुध नहीं ली। बुजुर्ग का परिवार गुजरात में है। घर में अकेले होने के कारण वह खुद ही खाना बनाता था। 

प्रधान के पति बोले- काम में उलझा था, ध्यान नहीं दे पाया
गांव की आशा वर्कर का कहना है कि 22 मार्च को क्वारैंटाइन किए जाने के वक्त वह बुजुर्ग के घर गई थी। उसके बाद 4 अप्रैल को नोटिस चस्पा किया। इस दौरान किसी अनहोनी की भनक भी नहीं लगी। ग्राम प्रधान के पति महेन्द्र वर्मा ने कहा- मृतक अपने पोते के साथ गुजरात से गांव लौटा था, पोता बाराबंकी शहर में रहता है। 1 अप्रैल को बुजुर्ग राशन और 4 अप्रैल को डॉक्टर से दवा भी लेकर आया था। वह अस्थमा का मरीज था। मौत कब हुई किसी को इसकी जानकारी नहीं है। वर्मा ने अपनी लापरवाही मानते हुए कहा कि मैं कई दिनों से दूसरे कामों में उलझा था, इसलिए बुजुर्ग पर ध्यान नहीं दे पाया।

सीएमओ ने दिया गैर-जिम्मेदाराना जवाब
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर रमेश चन्द्रा ने कहा- शायद आशा वर्कर बुजुर्ग के घर के बाहर से लौटकर आ जाती होगी। कीड़े पड़ने के लक्षणों के बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। बुजुर्ग में कोरोना के लक्षण नहीं थे, फिर भी हमने सैम्पल लेकर भेज दिया है। जिसकी रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कह पाना संभव होगा। होम क्वारैंटाइन का अर्थ यह नहीं है कि हम रोज देखने जाएं। इसमें हमें सिर्फ इतना देखना होता है कि संदिग्ध 14 दिनों तक किसी से मिले न और घर से बाहर न निकले।

प्रशासन ने कहा- मौत 9 मार्च को हुई, शरीर में नहीं पड़े कीड़े

मामला सामने आने के बाद प्रशासन ने कहा कि बुजुर्ग की मौत क्वारैंटाइन अवधि में नहीं हुई। ना ही उसके शव में कीड़े पड़े थे। प्रशासन के मुताबिक बुजुर्ग ने 9 मार्च को दम तोड़ा था। चौबीस घंटे के अंदर इसकी जानकारी प्रशासन को मिली और उसका तत्काल अंतिम संस्कार कराया गया। 

नोट: हमने इस खबर में पहले 21 दिन का क्वारैंटाइन बताया था। इमसें क्वारैंटाइन अवधि के बाद बचे लॉकडाउन के दिनों की हिदायत को भी जोड़ दिया गया था। इस त्रुटि को सुधार दिया गया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें