पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Coronavirus Ayurvedic Vaccine | Varanasi News Updates On Banaras Hindu University (BHU) Ayurveda Department Claims To Make Medicine

वाराणसी:40 साल पहले जिस दवा की खोज हुई उसे कोरोना के लिए बताया जा रहा उपयोगी, बीएचयू आयुर्वेद विभाग के दावे के बाद आयुष विभाग ने दी ट्रॉयल की मंजूरी

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के आयुर्वेंद विभाग ने दावा किया है कि उसने ऐसी दवा का इजाद किया है जिससे कोरोना के मरीज ठीक हो सकते हैं। फिलहाल आयुष मंत्रालय ने दवा के ट्रॉयल की मंजूरी दे दी है।
  • आयुर्वेद विभाग का कहना है कि बीएचयू कोविड अस्पताल में भर्ती मरीजों पर इस दवा की टेस्टिंग की जाएगी
  • विभाग की माने तो इसके लिए मंत्रालय की तरफ से दस लाख रुपए भी आयुर्वेद विभाग को स्वीकृत किया है

योग गुरु बाबा रामदेव के बाद अब काशी हिंदू विश्वविद्यालय के आयुर्वेद संकाय ने कोरोना की आयुर्वेदिक दवा बनाने का दावा किया है। आयुष मंत्रालय ने बीएचयू के आयुर्वेद विभाग के इस दावे पर कोरोना मरीज़ों पर ट्रायल के लिए इस दवा को मंजूरी दे दी है। काशी हिंदू विश्वविद्यालय के कोविड अस्पताल में भर्ती युवा मरीज़ों पर कोरोना के आयुर्वेदिक दवा का ट्रायल किया जाएगा। 

अधिकारियों ने बताया कि इस ट्रायल के तीन महीने बाद बीएचयू आयुर्वेद विभाग अपनी रिपोर्ट आयुष मंत्रालय को सौपेंगा। बीएचयू के आयुर्वेद विभाग ने 40 साल पहले ही इस दवा की खोज की थी जो अब कोरोना के लिए उपयोगी बताई जा रही है। 

आयुर्वेद विभाग और बीएचयू कोविड अस्पताल के जॉइंट वेंचर में इसका ट्रायल किया जाएगा। कोरोना में बिलकुल वैसे ही लक्षण है जैसे आम तौर पर सांस रोग के मरीज़ो में होते हैं। ऐसे में ये दवा उन मरीज़ों पर कारगर साबित हो सकती है।

आयुर्वेद संकाय के एक अधिकारी के मुताबिक, 22 मार्च को आयुर्वेद संकाय द्वारा पत्र लिखकर आयुष मंत्रालय से 1980 में सांस रोग के लिए खोजी गई दवा 'शिरीषादि कसाय' के ट्रायल की मंजूरी मांगी थी। अब आयुष मंत्रालय ने इसके ट्रायल की अनुमति दे दी है, जल्द ही इस आयुर्वेदिक दवा का ट्रायल शुरू किया जाएगा। आयुष मंत्रालय ने इस काम के लिए 10 लाख रुपए की राशि भी स्वीकृत की है। 

1980 में ही खोजी गई थी यह औषधि

आयुर्वेद संकाय के प्रमुख प्रो याई बी त्रिपाठी ने बताया कि मंत्रालय द्वारा ट्रायल को 10 लाख रुपए मिलना।आते ही कोविड के मरीजों पर ट्रायल शुरू हो जाएगा। खास बात है कि आयुर्वेदिक मेडिसीन 1980 में इनके पिता डां एसएन त्रिपाठी के देख रेख में श्वास रोग के लिए औषधि खोजी गई थी।अब 2020 में उसी को री पर्पजिंग का प्रस्ताव हम लोगों ने 22 मार्च को आयुष मंत्रालय में भेजा था और ट्रायल की अनुमति मांगी थी। 10 अप्रैल को सीएम योगी को भी प्रस्ताव भेजा गया था। मई में केंद्र सरकार को ट्रॉयल को लेकर प्रस्ताव भेजा गया और 23 जून को सरकार और मंत्रालय अनुमति प्रदान कर दिया है। 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपका कोई सपना साकार होने वाला है। इसलिए अपने कार्य पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित रखें। कहीं पूंजी निवेश करना फायदेमंद साबित होगा। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता संबंधी परीक्षा में उचित परिणाम ह...

और पढ़ें