पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Crowds Of Devotees Gathered In Balrampur To Visit Maa Pateshwari, Anjana Devotees From Corona Shouted Mata's Shout, Did Not See Social Distancing

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना महामारी पर आस्था पड़ी भारी:बलरामपुर में मां पाटेश्वरी देवी के दर्शन के लिए उमड़ी भक्तों की भीड़, सुबह से ही मंदिर में लगी कतार

बलरामपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यूपी के बलरामपुर में स्थित मां पाटेश्वरी देवी के मंदिर में दर्शन के लिए सुबह ही भक्तों की लंबी कतार लग गई।
  • सुबह से ही मंदिर में लग गई भक्तों की लंबी कतार
  • मां के दरबार में आन वाले की हर मुराद पूरी होती है

उत्तर प्रदेश में बलरामपुर जिले से 28 किलोमीटर की दूरी पर तुलसीपुर क्षेत्र में स्थित 51 शक्तिपीठों में एक शक्तिपीठ देवीपाटन का अपना एक अलग ही स्थान है। नवरात्र के दौरान यहां दूर दूर से श्रद्धालु माता के दर्शन के लिए आते हैं। इस कोरोना महामारी के बीच भी भक्तों की काफी भीड़ देखने को मिली। लोग सुबह से ही मंदिर में दर्शन के लिए पहुंच रहे थे। हालांकि इस दौरान न तो कहीं सोशल डिस्टेंसिंग दिखाई दी और न ही ज्यादातर लोग मास्क लगाए नजर आए।

शनिवार की सुबह 4 बजे से ही शक्ति पीठ देवीपाटन पर श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है। यहां पहुंचने के लिए प्रमुख साधन रेलवे को माना जाता है लेकिन रेलवे की सुविधा बन्द होने के कारण लोग अपने साधन जीप, कार व बसों से यहां पहुंच रहे है जिससे मंदिर के आस पास काफी भीड़ है। भोर के वक्त से लोग लाइन में लगकर माँ पाटेश्वरी के दर्शन के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे है।

देवीपाटन के पीठाधीश्वर मिथिलेश नाथ योगी द्वारा भोर के वक्त मा पटेश्वरी के दर्शन पूजन के बाद सभी भक्तों के लिए मंदिर में जाने के द्वार खोल दिये गए। महंथ मिथलेश नाथ के द्वारा हवन कोरोना गाइडलाइंस के अनुसार हवन पूजन किया गया।

शक्तिपीठ देवीपाटन के मुख्य द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही मंदिर में प्रवेश दिया जा रहा है। हालांकि दूर दराज से आने वाले तमाम लोग कोरोना जैसी भयंकर महामारी के प्रति लापरवाह दिख रहे है। मंदिर आये करीब 30% लोग न तो मास्क लगाए हुए हैं न ही अपने मुह और नाक को ढकते हुए शोशलडिस्टेंसिंग पालन ही कर रहे हैं जिसके चलते कोरोना संक्रमण का खतरा बना हुआ है।

मंदिर में दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु।
मंदिर में दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु।

अपनी मान्यताओं और पौराणिक कथाओं के अनुसार इस शक्तिपीठ का सीधा सम्बन्ध देवी सती, भगवान शंकर और गोखक्षनाथ के पीठाधीश्वर गोरक्षनाथ जी से है। यह शक्तिपीठ सभी धर्म जातियों के आस्था का केन्द्र है। यहां देश-विदेश से तमाम श्रद्धालु माँ पटेश्वरी के दर्शन को आतें हैं। ऐसी मान्यता है कि माता के दरबार में मांगी गई हर मुराद पूर्ण होती है। कोई भी भक्त यहां से निराश नही लौटता है।

मंदिर में दर्शन के दौरान हालांकि कुछ लोग मास्क लगाए भी नजर आए।
मंदिर में दर्शन के दौरान हालांकि कुछ लोग मास्क लगाए भी नजर आए।

जानिए क्या है शक्तिपीठ देवीपाटन का इतिहास

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव की पत्नी देवी सती के पिता दक्ष प्रजापति द्वारा एक यज्ञ का आयोजन किया गया था लेकिन उस यज्ञ में भगवान शंकर को आमंत्रित तक नही किया गया जिससे क्रोधित होकर व अपने पति भगवान शंकर के हुए अपमान के कारण यज्ञ कुण्ड में अपने शरीर को समर्पित कर दिया था।

इस बात की सूचना जब कैलाश पति भगवान शंकर को हुई तो वह स्वयं यज्ञ स्थल पहुंचे और भगवान शिव ने अत्यंत क्रोधित होकर देवी सती के शव को अग्नि से निकाल लिया और शव को अपने कंधे पर लेकर ताण्डव किया। जिसे पुराणों में शिव तांडव के नाम से जाना जाता है। भगवान शिव के तांडव से तीनों लोकों में त्राहि-त्राहि मच गई जिसके बाद भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से देवी सती के शरीर को विच्छेदित कर दिया। जिससे भगवान शिव का क्रोध शांत हो सका।

विच्छेदन के बाद देवी सती के शरीर के भाग जहां जहां गिरे वहां वहां शकितपीठों की स्थापना हुई। बलरामपुर जिले के तुलसीपुर क्षेत्र में ही देवी सती का वाम स्कन्द, पट के साथ यहीं गिरा था। इसीलिए इस शक्तिपीठ का नाम देवीपाटन पड़ा और यहां विराजमान देवी को मां पाटेश्वरी के नाम से जाना जाता है।

देवीपाटन मंदिर में नवरात्र के मौके पर हवन पूजन करते श्रद्धालु।
देवीपाटन मंदिर में नवरात्र के मौके पर हवन पूजन करते श्रद्धालु।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें