थप्पड़ के बदले दोस्त को त्रिशूल से मार डाला:प्रयागराज में फाफामऊ गंगा पुल के नीचे युवक की मिली लतपथ लाश, पुल के नीचे ही छिपे आरोपी दोस्त गिरफ्तार

प्रयागराज3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ईश्वरचंद ने थप्पड़ का बदला लेने के लिए संजय को सोते समय त्रिशूल से ताबड़तोड़ वार कर मौत के घाट उतार दिया। - Dainik Bhaskar
ईश्वरचंद ने थप्पड़ का बदला लेने के लिए संजय को सोते समय त्रिशूल से ताबड़तोड़ वार कर मौत के घाट उतार दिया।

प्रयागराज में एक सनसनीखेज वारदात में एक दोस्त ने थप्पड़ का बदला लेने के लिए युवक की त्रिशूल मारकर हत्या कर दी। फाफामऊ गंगा पुल के नीचे रविवार सुबह उसका लतपथ शव मिला। शव की हालत देखकर पुलिस के भी होश उड़ गए। जिसके बाद जैसे तैसे पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

घाट पर दाह संस्कार का काम करता था युवक
रविवार सुबह 8 बजे के आसपास कुछ लोग फाफामऊ गंगा घाट पर स्नान करने जा रहे थे। लोगों ने देखा कि एक युवक का शव लहूलुहान हालत पड़ा हुआ है। उसकी उम्र लगभग 32 साल दिख रही थी। लोगों ने इसकी सूचना सूचना दी। पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि शव गंगा घाट पर अंतिम संस्कार कराने वाले संजय का है।

कोरोना काल से ही वह घाट पर रहकर दाह संस्कार का काम करता था। वह फाफामऊ में गंगा घाट के किनारे ही सोता था। पुलिस ने जब शव की हालत देखी तो उसके होश उड़ गए। संजय के शरीर पर गहरे जख्म के निशान थे। शव खून से सना हुआ था।

गंगा पुल के नीचे ही छिपा था कातिल, पुलिस ने दबोचा
इस सनसनीखेज हत्याकांड की जांच-पड़ताल कर रही पुलिस ने आसपास के लोगों से संजय के बारे में पूछताछ शुरू की। पता चला कि तेलियरगंज के रहने वाले ईश्वरचंद और संजय दोनों आपस में गहरे दोस्त थे। दोनों का एक साथ खाना-पीना था।

आसपास के लोगों ने बताया कि शनिवार को दोनों के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। इसके बाद संजय ने ईश्वरचंद को थप्पड़ मार दिया था। इस बात से ईश्वरचंद काफी आहत था और उसने बदला लेते हुए संजय की हत्या कर दी।

शव ठिकाने लगाने की नाकाम कोशिश
ईश्वरचंद ने बदला लेने के लिए रविवार की रात 1 बजे संजय को सोते समय त्रिशूल से ताबड़तोड़ वार कर मौत के घाट उतार दिया। उसने संजय पर तब तक वार किए जब तक कि उसके प्राण नहीं निकल गए। हत्या के बाद ईश्वरचंद ने शव को छिपाने की भी कोशिश की। संजय के शव को ठिकाने लगाने के लिए उसने कुछ दूर तक पुल के नीचे खींचा भी, लेकिन वह सफल नहीं हो सका। रविवार की सुबह मामले की जानकारी होने पर पुलिस ने ईश्वरचंद को जब खोजना शुरू किया तो वह पुल के नीचे ही बैठा मिला।

प्रभारी निरीक्षक फाफामऊ वीरेंद्र कुमार सोनकर ने बताया कि संजय और ईश्वरचंद में बहुत गहरी दोस्ती थी। एक थप्पड़ के विवाद में ईश्वरचंद ने संजय की हत्या कर दी। उसने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।