विधानसभा के सामने आत्मदाह का मामला:लखनऊ में खुद को आग लगाने वाली महिला की 4 दिन बाद मौत, पड़ोसी से विवाद में पुलिस कार्रवाई नहीं होने से नाराज थी

लखनऊ2 वर्ष पहले
सोफिया ने 17 जुलाई को खुद को आग लगा ली, वह 80% जल गई थी। सोफिया की बेटी ने भी आत्मदाह की कोशिश की थी, उसका इलाज चल रहा है।
  • लापरवाही के आरोप में अमेठी में 3, लखनऊ में 4 पुलिसवाले सस्पेंड किए गए थे
  • पुलिस का दावा- महिला को एक नेता समेत 3 लोगों ने उकसाया था

चार दिन पहले विधानसभा भवन और मुख्यमंत्री ऑफिस के बाहर खुद को आग लगाने वाली महिला सोफिया की मंगलवार रात मौत हो गई। उसकी बेटी गुड़िया की हालत गंभीर है। सोफिया का शव लखनऊ में पोस्टमॉर्टम के बाद अमेठी के जामो भेजा जाएगा। वहां पुलिसबल तैनात किया गया है।

सोफिया और गुड़िया ने 17 जुलाई को खुद को आग लगा ली थी। साेफिया 80% से ज्यादा जल गई थी, जबकि गुड़िया करीब 20% जल गई। दोनों को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सिविल अस्पताल के निदेशक डॉ. डीएस नेगी के मुताबिक, सोफिया के शरीर में इंफेक्शन फैल गया था। सेप्टिसीमिया की वजह से उसकी मौत हो गई।

पड़ोसी से नाली को लेकर विवाद हुआ था
पुलिस के मुताबिक, 9 मई को नाली के विवाद में सोफिया का पड़ोसी से झगड़ा हुआ था। सोफिया की बेटी गुड़िया ने पड़ोसी के बेटे समेत चार लोगों पर छेड़छाड़ का केस दर्ज कराया था। क्रॉस एफआईआर में सोफिया और गुड़िया समेत तीन लोगों पर भी केस दर्ज हुआ था।

अमेठी में 3, लखनऊ में 4 पुलिसवाले सस्पेंड
लापरवाही पाए जाने पर पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई हुई थी। मां और बेटी को आत्मदाह के लिए उकसाने वाले नेता समेत 3 लोग गिरफ्तार भी किए गए। कुछ और लोगों की तलाश की जा रही है। पुलिस का कहना है कि मां और बेटी को उकसा कर कानून व्यवस्था को भंग करने और सरकार को बदनाम करने की कोशिश की गई। साेफिया और उसकी बेटी को आरोपी आसमा और सुल्तान अमेठी से लखनऊ लाए थे। दोनों अमेठी के जामो थाना इलाके के रहने वाले हैं। लखनऊ में कादिर, कबीर और अनूप ने सोफिया और उसकी बेटी को आत्मदाह के लिए उकसाया था।