पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Former CM Mayawati Praised The 'Tika Utsav' Campaign, Said The Government Should Declare Free Vaccine To The Poor

केंद्र के समर्थन में उतरीं माया ?:पूर्व CM मायावती ने `टीका उत्सव` अभियान को सराहा, कहा- प्रवासी मजदूरों के लिए कदम उठाने की जरूरत, गरीबों का मुफ्त में हो वैक्सीनेशन

लखनऊ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बाहुज समाज पार्टी (BSP) की मुखिया और UP की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने बाबा साहब डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की जयंती पर कहा कि, "देश में इस वर्ष फिर से कोविड-19 महामारी की रफ्तार बढ़ने की वजह से जो लोग पलायन कर अपने-अपने राज्यों में लौटने का मन बना रहे हैं या लौट रहे हैं, उन्हें वहीं रोक कर वहां की राज्य सरकारें उनके रहने और खाने की समुचित व्यवस्था करें, वरना ये लोग कोरोना महामारी की चपेट में आ सकते हैं।

मायावती ने कहा कि मजदूरों का पलायन रोकने के लिए केंद्र की सरकार भी राज्य सरकारों की मदद करे। मायावती ने अम्बेडकर जयंती तक टीका उत्सव मनाए जाने की तारीफ करते हुए कि, गरीब और जरूरत मंद को टीका लगाया जाए।

टीका उत्सव की तारीफ़
मायावती ने सरकार से सभी गरीबों और जरुरतमंदों को कोविड-19 का टीका मुफ्त लगाने की मांग दोहराते हुए कहा, "सरकार ने टीका लगवाने को लेकर 14 अप्रैल तक टीकाकरण उत्सव मनाने का विशेष अभियान चलाया है। यह अच्छी बात है लेकिन अगर यह उत्सव देश के गरीब एवं अन्य सभी जरूरतमंदों को मुफ्त में टीका लगाने के रूप में मनाया जाता तो यह ज्यादा उचित होता।

बसपा के कार्यकर्ता कोविड नियमों का करें पालन

मायावती ने कहा कि इस साल भी कोरोना नियमों का पालन करते हुए बसपा के सभी सदस्य बाबा साहब अंबेडकर की जयंती मना रहे हैं। ये दिन हमारी पार्टी के लिए खास है, क्योंकि इसी दिन बसपा की शुरुआत की गई थी। बसपा प्रमुख ने कहा कि देश में इस वक्त BSP ऐसी पार्टी है, जो जातिवाद की राजनीति करने वाली पार्टियों का मुकाबला कर रही हैं।

प्रवासी मजदूरों के लिए कदम उठाएं सरकारें

कोरोना संकट को मायावती ने कहा कि देश के गरीबों को वैक्सीन दी जानी चाहिए। केंद्र जो टीका उत्सव मना रहा है, उसमें गरीबों को मुफ्त में टीका मिलना चाहिए। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच शुरू हुए पलायन पर मायावती ने कहा कि प्रवासी मज़दूरों के लिए राज्य सरकारों को खाने और रहने की व्यवस्था करनी चाहिए, ताकि उन्हें पलायन ना करना पड़े और वो कोरोना की चपेट में ना आएं।