• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Health Department Team Reached Hiramau Village Within 24 Hours; Door to door Sampling Started Investigating, 20 People Died In A Month

अमेठी; दैनिक भास्कर इम्पैक्ट:केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने CMO को दिए निर्देश; 24 घंटे में हारीमऊ पहुंची हेल्थ टीम, डोर टू डोर शुरू हुई टेस्टिंग

अमेठी5 महीने पहले
अमेठी के हारीमऊ गांव पहुंची हेल्थ विभाग की टीम ग्रामीणों की टेस्टिंग कर रही है। भास्कर ने इस गांव की खबर रविवार को प्रमुखता से चलाया था।
  • यूपी में अमेठी जिले के हारीमऊ गांव में एक महीने के भीतर ही 20 लोगों की मौत हुई है

उत्तर प्रदेश के अमेठी में दैनिक भास्कर की खबर चलाए जाने के बाद आखिर स्वास्थ्य विभाग की नींद टूट गई है। आज पूरे तंत्र के साथ स्वास्थ्य कर्मचारी यहां जगदीशपुर के हारीमऊ गांव पहुंचे हैं और डोर टू डोर जाकर वो लोगों की कोरोना जांच करके उनकी सैंपलिंग कलेक्ट कर रहे हैं। इस गांव में एक महीने के अंदर 20 लोगों की मौत हो चुकी है, जिससे लोग दहशत में हैं।

रविवार को दैनिक भास्कर ने "अमेठी के गांव से डरावनी तस्वीर: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र के एक ही गांव में 20 की मौत; एक घर से निकली तीन-तीन लाशें, न सैंपलिंग हो रही, न सैनिटाइजेशन" शीर्षक से खबर प्रकाशित किया था। नतीजा ये हुआ कि सोमवार को दिन में करीब 11 बजे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारी गांव में पहुंचे। गांव में गहरा सन्नाटा पसरा था लेकिन जब गांव वालों को पता चला कि टीम कोरोना की जांच करने आई है तो सभी दरवाजे खोलकर बाहर आ गए। सूत्रों के अनुसार केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने खबर का संज्ञान लेते हुए सीएमओ को निर्देश दिया। उसके बाद हेल्थ विभाग की टीम हीरामऊ गांव में आज टेस्टिंग के लिए भेजा गया है।

अमेठी के गांव से डरावनी तस्वीर:केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र के एक ही गांव में 20 की मौत; एक घर से निकली तीन-तीन लाशें, न सैंपलिंग हो रही, न सैनिटाइजेशन

स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी एक-एक घर जा रहे हैं और बच्चों से लेकर बुज़ुर्गों तक की जांच कर उन्हें दवाएं उपलब्ध करा रहे हैं। इस मौके पर ग्रामीणों ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और दैनिक भास्कर को धन्यवाद भी कहा है।

यूपी में अमेठी जिले के हारीमऊ गांव में जांच करती हेल्थ विभाग की टीम।
यूपी में अमेठी जिले के हारीमऊ गांव में जांच करती हेल्थ विभाग की टीम।

गांव के लोगों ने बताई थी सच्चाई

हारीमऊ गांव के राजेंद्र कौशल ने हमें बताया कि ये सच्चाई है 17-18 मौतें हुई हैं। एक-एक घर से तीन-तीन लाशें निकली हैं। एंबुलेंस को फोन किया जाता है, आती है तो बोलते हैं वो मरीज को उठाते तक नहींं। अगर घर वाले नही उठाते तो एंबुलेंस वापस चली जाती है। आशा बहुएं आकर दवा देकर चली जा रही हैं।

वहीं इसी गांव के रहने वाले शहनवाज का कहना है, किस कारण मौत हुई है इसकी वजह नहीं पता। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की टीम आकर दवा देकर चली जाती है। उनके अनुसार न कोई जांच किसी की हुई, न सेनेटाइजिंग हुई। लोग डरे हुए हैं, यहां पास में अस्पताल है टीम आई थी वहां दवा देकर चली गई।

जांच करवाते गांव के लोग।
जांच करवाते गांव के लोग।

इनकी मौतों से सदमें में हैं ग्रामीण

तौफीक (28), ताहिरा बानो (37), मोहम्मद नसीम (65), निशा (58), अफसरी बानो (65), जाकिर हुसैन (70), रज्जो (40), सूर सती (85), गंगा प्रसाद (85), शोभन सरकार (35), आशाराम (60), नूर मोहम्मद (45), पुष्पा (35), महफूज़ अहमद (48), उर्मिला (65), नजमा (45), सरवरी (45), राम खेलावन (38), शकील अहमद (48) शामिल थे।

भास्कर की खबर चलने के बाद आज स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच करने हीरामऊ गांव पहुंची।
भास्कर की खबर चलने के बाद आज स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच करने हीरामऊ गांव पहुंची।

क्या है मामला

उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में भी कोरोना भयावह रूप ले चुका है। कई गांव ऐसे हैं जहां एक ही महीने में 20 से 30 लोगों की जान चुकी है, पर वहां टेस्टिंग तक नहीं हो रही है। सर्दी जुकाम होता है और कुछ दिन में ही मरीज की जान चली जाती है। ऐसी डरावनी स्थिति केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र के एक गांव में देखने को मिली थी। अमेठी के हारीमऊ गांव में 20 लोगों की मौतों का मामला समाने आया है।ग्रामीणों का कहना है कि पिछले एक साल में इतनी मौतें नहीं हुईं जितनी एक महीने में हो गई हैं।

हीरामऊ गांव में लोगों की जांच नहीं हो रही थी लेकिन भास्कर की खबर के बाद आज इस गांव में हेल्थ विभाग की टीम पहुंचकर टेस्टिंग कर रही है।
हीरामऊ गांव में लोगों की जांच नहीं हो रही थी लेकिन भास्कर की खबर के बाद आज इस गांव में हेल्थ विभाग की टीम पहुंचकर टेस्टिंग कर रही है।