पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धर्म परिवर्तन के निशाने पर मासूम बच्चे:लव जिहाद पर कड़ा कानून बना तो धर्म परिवर्तन के लिए बच्चों को बना रहे निशाना, साक्ष्य जुटाने में लगा बाल संरक्षण आयोग

लखनऊ उत्तर प्रदेश3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रामपुर में दो हिन्दू बच्चों का निर्मम तरीके से खतना करवाये जाने का मामला सामने आने के बाद बाल आयोग जुटा रहा डेटा

लव जिहाद के जरिये हिन्दू महिलाओं के धर्म परिवर्तन के मामलों को रोकने के लिए सरकार ने कड़ा कानून बनाया तो अब मासूम बच्चों को निशाना बनाया जा रहा है। दो दिन पहले रामपुर में दो हिन्दू बच्चों का बेहद निर्मम तरीके से जबरन खतना करवाये जाने के मामले की जांच करने पहुंची बाल आयोग की टीम को ऐसे साक्ष्य मिले हैं। आयोग के अध्यक्ष विशेष गुप्ता का कहना है कि प्रदेश में ऐसे कितने मामले हुए हैं इसका पता लगाया जा रहा है।

रामपुर शाहाबाद के बैरूआ गाँव निवासी महफूज उत्तराखंड में ट्रक चालक था। उसके साथ उत्तराखंड के बाजपुर निवासी हरकेश भी ट्रक चालाता था। एक सड़क दुर्घटना में 8 मई को हरकेश की मौत हो गई थी। हरकेश की मौत के बाद उसकी सिख पत्नी हरजिंदर कौर अपने दो बेटों राहुल (12) और सुमित (10) के साथ कालाढूंगी जाकर रहने लगी।

हरकेश की मौत के बाद महफूज ने सहारा देने के लिए उसकी पत्नी हरजिंदर कौर व उसके बेटे राहुल (12) और सुमित (10) को अपने साथ गांव ले आया। आरोप है कि पांच दिन पूर्व आरोपी महफूज ने विधवा हरजिंदर कौर का नाम बदलकर गुलिस्ता रख दिया, और बेटों का भी नाम बदलकर धर्म परिवर्तन करा दिया।

बच्चों की जान पर बनी तो हुआ मामले का खुलासा

महफूज ने धर्म परिवर्तन करवाने के लिए नाई बुलाकर दोनों बच्चों का जबरन खतना करवा दिया। इसके बाद बच्चों में संक्रमण फैला और उनकी हालत बिगड़ी तो उन्हें अस्पताल ले जाने की बजाय महफूज और उसके परिवार वालों ने बच्चों के साथ उनकी माँ हरजिंदर को कमरे मे कैद कर दिया। इनकी सुगबुगाहट गाँव मे हुई तो आसपास का हिन्दू समुदाय आक्रोशित हो गया।

मामला बढ़ते देख पुलिस हरकत में आई तो महफूज के परिजनों को गिरफ्तार किया गया लेकिन वह फरार हो गया। बुधवार को मामले की जांच करने पहुँचे बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष विशेष गुप्ता ने बताया कि बच्चों की हालत काफी बिगड़ चुकी है। उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। हरजिंदर को फिलहाल महिला हेल्प लाइन की देखरेख में रखा गया है।

प्रदेश भर में हुए मामलों की छानबीन शुरू

आयोग के अध्यक्ष विशेष गुप्ता ने बताया कि लव जिहाद पर लगाम कसने के बाद अब बच्चों का धर्मांतरण करवाया जा रहा है। रामपुर और मुरादाबाद क्षेत्र में ऐसे कुछ और मामलों की जानकारी मिली है। उनका कहना है कि इस घटना से पता चल रहा है कि समुदाय विशेष बच्चों को निशाना बना रहा है। प्रदेश में ऐसे कितने मामले हुए इसका पता लगाने के लिए आयोग की टीम पुलिस के साथ मिलकर छानबीन कर रही है। इसके शिकार बच्चों को संरक्षण देने के लिए आयोग डेटा तैयार करके इसकी रिपोर्ट सरकार को भेजेगा।

खबरें और भी हैं...