• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • In Kanpur, The Police Put A Stick In The Private Part Of The Boy, In Jaunpur, The Women Were Naked And Beaten Till The Skin Turned Black.

यूपी पुलिस के टॉर्चर की 5 कहानियां:कानपुर में लड़के के प्राइवेट पार्ट में डंडा डाला, जौनपुर में महिलाओं को निर्वस्त्र कर पीटा

4 महीने पहलेलेखक: रक्षा सिंह

‘सुरक्षा आपकी, संकल्प हमारा' मोटो वाली यूपी पुलिस पर बर्बरता करने के लिए लगातार सवाल उठ रहे हैं। बीते शनिवार को बदायूं का एक मामला सामने आया। वहां गौ तस्करी के आरोप में पुलिस एक युवक रेहान को उठाकर ले गई, उसके साथ थर्ड डिग्री टार्चर किया। अब रेहान अस्पताल में भर्ती है। उसके प्राइवेट पार्ट्स में सूजन आ गई है। उसकी हालत लगातार बिगड़ती जा रही है। बता दें कि रेहान वह युवक नहीं था, जिसकी पुलिस को तलाश थी।

इस रिपोर्ट में आगे बढ़ने से पहले आप हमारे पोल में हिस्सा ले सकते हैं:

पुलिस ने रेहान के प्राइवेट पार्ट्स में डंडा डाला, करंट लगाया

पुलिस के टॉर्चर के बाद रेहान की हालत गंभीर,अस्पताल में भर्ती है।
पुलिस के टॉर्चर के बाद रेहान की हालत गंभीर,अस्पताल में भर्ती है।

बदायूं के ककराला पुलिस चौकी इलाके में रहने वाले 20 साल के रेहान को पुलिस ने उठा लिया और चौकी में बंद कर दिया। उस पर बाइक चोरी का आरोप था। परिवार का आरोप है कि पुलिस चौकी के अंदर उसके साथ थर्ड डिग्री टॉर्चर किया गया, उसे करंट लगाया गया और उसके प्राइवेट पार्ट में डंडा तक डाला गया।

बाद में पता चला कि गलत युवक को उठा लिया है, तो पुलिसवालों ने इलाज के लिए 100 रुपए देकर छोड़ दिया। बीते शनिवार को रेहान की हालत बिगड़ने लगी। परिवार ने बताया कि इतनी बेरहमी से पीटा गया कि उसे दौरे आने लगे। इलाज कर रहे डॉक्टर का कहना है कि उसे दौरे इसलिए आ रहे हैं क्योंकि उसके नर्वस सिस्टम पर असर पड़ा है और इस असर की वजह करंट लगना है।

चौकी इंचार्ज सहित 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड

बदायूं SP प्रवीण चौहान ने दोषियों के खिलाफ कार्यवाई करने का आश्वासन दिया।
बदायूं SP प्रवीण चौहान ने दोषियों के खिलाफ कार्यवाई करने का आश्वासन दिया।

मामले की जानकारी होने के बाद जांच हुई। परिवार के लगाए आरोपों को सही पाया गया जिसके बाद पुलिसकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। SP प्रवीण सिंह चौहान ने कहा, “सभी दोषियों के खिलाफ मामला दर्ज कर विभागीय जांच के आदेश दे दिए गए हैं। चौकी इंचार्ज सहित पांचों पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। आगे की कार्रवाई की तैयारी की जा रही है।”

पुलिस की बर्बरता की ये इकलौती कहानी नहीं है। यूपी में लगातार ऐसे मामले सामने आ रहे हैं। हमने नीचे बीते 6 महीनों में पुलिस की बर्बरता की 5 कहानियां बताई हैं। पूरी बात के लिए ऊपर लगा वीडियो भी देख सकते हैं।

कहानी 1: लड़का पड़ोस में लड़ाई देख रहा था, पुलिस ने इतना पीटा कि बेहोश हो गया

पुलिस ने चमड़े के पट्टे से सुभाष की पिटाई की। तस्वीर साभार: यूपी तक
पुलिस ने चमड़े के पट्टे से सुभाष की पिटाई की। तस्वीर साभार: यूपी तक

1 जून 2022. लखनऊ के थाना बिजनौर क्षेत्र के काकरकुआ गांव में एक पति-पत्नी में लड़ाई हो रही थी। इस दौरान वहां पर पुलिस पहुंची। वहीं पड़ोस में रहने वाला दलित लड़का सुभाष रावत लड़ाई देखने चला गया। परिवार का कहना है, “सिपाही ने लड़के से कहा, घूर क्यों रहा है? सिपाही की बात सुनकर वह डर गया और माफी मांगने लगा, जिसके बाद तीन चार सिपाही मिलकर उसे पीटने लगे।” लड़के की मां पुलिस से मिन्नतें करके कैसे सुभाष को घर ले आई। लेकिन पुलिसवाले सभाष के घर पहुंचे और जीप में बिठाकर उसे थाने ले गए।

परिवार का आरोप है कि पुलिस ने चमड़े के पट्टे से सुभाष की जमकर पिटाई की। उसकी मां थाने पहुंची और बेटे को छोड़ने को कहने लगी, लेकिन पुलिस वालों ने मां के सामने ही उसको और मारना शुरू कर दिया। सुभाष बेहोश हो गया। उसकी हालत बिगड़ गई। अब उसे लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कहानी 2: बंदूक की बट से इतना मारा कि अस्पताल पहुंचने से पहले मौत हो गई

मोनू की लाश के साथ प्रदर्शन करते उसके घरवाले।
मोनू की लाश के साथ प्रदर्शन करते उसके घरवाले।

26 अप्रैल 2022. कानपुर का बाबूपुरबा थाना क्षेत्र। यहां रहने वाले मोनू का मोहल्ले की एक लड़की के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था। लड़की के घरवालों ने शिकायत की। इसके बाद पुलिस ने मोनू को चौकी बुलाया। शाम को जब वो घर लौटा तो पूरे शरीर पर चोट के निशान थे। उसने परिवार को बताया कि पुलिस ने बंदूक की बट से, लाठी डंडों से उसे बहुत पीटा। शाम तक मोनू की तबियत बिगड़ने लगी। परिवारवाले उसे लेकर अस्पताल निकले पर वहां पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई। बाद में मोनू के परिवार ने प्रदर्शन किया तो पुलिस ने उनपर लाठियां भांजते हुए उन्हें भगा दिया। पुलिस ने मोनू से मारपीट की बात से भी इनकार किया।

कहानी 3: चोरी के शक में थर्ड डिग्री टार्चर किया, लड़के की रीढ़ की हड्‌डी टूट गई

थाने में थर्ड डिग्री टार्चर से भारत राजपूत की हालत बिगड़ी।
थाने में थर्ड डिग्री टार्चर से भारत राजपूत की हालत बिगड़ी।

5 अप्रैल 2022. महोबा में 10 स्थानों पर चोरी के मामले में पुलिस शक के आधार पर भारत राजपूत नाम के लड़के को पकड़कर थाने ले गई। परिवार के आरोप हैं कि पुलिस ने चोरी कबुलवाने के लिए लड़के पर थर्ड डिग्री टॉर्चर किया। इतना पीटा कि उसकी रीढ़ की हड्डी टूट गई। युवक की हालत बिगड़ते हुए पुलिस के हाथ पांव फूल गए। थाना प्रभारी अनिल कुमार सहित पुलिस कर्मी बिना परिवार को बताएं उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। मामले में आरोपी थाना प्रभारी अनिल कुमार को सस्पेंड कर दिया गया है।

कहानी 4: पुलिस ने महिलाओं को इतना मारा कि चमड़ी का रंग काला हो गया

जौनपुर में पुलिस ने महिलाओं को बेल्ट और पट्टे से पीटा।
जौनपुर में पुलिस ने महिलाओं को बेल्ट और पट्टे से पीटा।

25 मार्च 2022. जौनपुर का देवरिया गांव। खेत में लगे केले का पेड़ काटने को लेकर 2 पक्षों के बीच विवाद हो गया। 8 लोगों को हिरासत में लिया गया था। पूछताछ के बाद सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। जमानत मिल गई। बाहर आने पर एक वीडियो वायरल हुआ। वीडियो में महिलाएं रो-रोकर अपनी चोट के निशान दिखा रही हैं। उनका आरोप है कि पुलिस ने बेल्ट और पट्टे से उन्हें इतनी बेरहमी से पीटा कि उनकी चमड़ी का रंग काला पड़ गया। उनके कपड़े फाड़ दिए गए। हालांकि पुलिस ने थाने में मारपीट और अभद्रता के आरोप को निराधार बताया।

कहानी 5: बच्चे को लग जाएगी, पिता चिल्लाता रहा पुलिस लाठियां बरसाती रही

गोद में बच्चा देखकर भी लगातार पीटती रही पुलिस।
गोद में बच्चा देखकर भी लगातार पीटती रही पुलिस।

9 दिसम्बर 2021. कानपुर देहात का एक वीडियो वायरल हुआ। जिला अस्पताल के कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन चल रहा था। 3 पुलिसकर्मी पहले एक शख्स को पीट रहे थे। इसके बाद SHO बच्चे गोदी में लिए एक शख्स रजनीश पर लाठियां बरसाने लगता है। वो चिल्लाता है, “बच्चे को लग जाएगी बच्चा मर जाएगा।” वो भागने की कोशिश करता है तो पुलिसवाले उसे खींचकर वाहन के पास लाते हैं, बच्चे को जबरन उससे खींचने की कोशिश करते हैं। पुलिस ने हल्के बल के इस्तेमाल को स्वीकारा। लाठी बरसाने वाले SHO को सस्पेंड किया गया।