पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

BHU हॉस्पिटल में लापरवाही:दरोगा ने कहा- मेरी पत्नी फर्स पर पड़ी तड़प रही थी, किसी ने देखा तक नहीं, डीएम ने केंद्र को लिखी चिट्‌ठी

वाराणसी10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बीएचयू हॉस्पिटल के गेट पर नहीं मिलती कोई जानकारी। - Dainik Bhaskar
बीएचयू हॉस्पिटल के गेट पर नहीं मिलती कोई जानकारी।
  • डीएम बोले- लगातार अस्पताल प्रबंधन से मीटिंग कर रहे, पर कोई सुधार नहीं
  • डिस्प्ले बोर्ड पर भी नहीं दी जाती मरीजों को सही जानकारी, परेशान हो रहे लोग

वाराणसी स्थित बीएचयू के सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में बरती जा रही लापरवाही की शिकायतों को लेकर डीएम कौशल राज शर्मा ने सख्त रुख अख्तियार किया है। लापरवाहियों को लेकर डीएम ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को रिपोर्ट भेजी है। डीएम का कहना है कि बीएचयू प्रशासन को बार-बार पत्र लिखने के बाद भी शिकायतों में कमी न आने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को अवगत कराया गया है। इसके साथ ही प्रदेश सरकार को भी रिपोर्ट भेजी जा रही है। डीएम ने कहा कि यह स्थिति तब है जब बीएचयू प्रशासन के साथ नियमित बैठक कर जांच और इलाज सहित अन्य प्रक्रिया में पूरा सहयोग किया जा रहा है। बीएचयू में मरीजों को बेड के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता है। मुख्यमंत्री के कहने के बाद भी अब तक बेड के बारे में कोई सही जानकारी डिस्प्ले बोर्ड के माध्यम से नहीं मिल पाती है। बीते एक सप्ताह के भीतर कई मरीजों की मौत में परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगाकर कार्रवाई की मांग की हैं। वहीं, एक दरोगा ने आरोप लगाया है किस मेरी पत्नी फर्स पर पड़ी तड़पती रही पर किसी ने देखा तक नहीं।

इसके बाद उनके अगल-बगल के बेड मरीजों ने बहू को फिर बताया कि उर्मिला बेड से गिर गई हैं। उपचार में लापरवाही के कारण आखिरकार उनकी पत्नी की मौत हो गई। इसके साथ ही उनका मोबाइल भी गायब हो गया है। मिर्जापुर के कछवां निवासी दरोगा ओमप्रकाश पांडेय ने लंका थाने की पुलिस से मांग की है कि उनकी पत्नी के उपचार में लापरवाही बरतने वाले डॉक्टरों और कर्मचारियों के खिलाफ नियमानुसार विधिक कार्रवाई की जाए।

वहीं, बीएचयू के MS एसके माथुर ने बताया उनको स्वास्थ्य मंत्रालय वाली बात नही पता। मेरा मेडिकल स्टाफ और डॉक्टर दिन रात मरीजों की सेवा कर रहे हैं। डॉक्टर खुद भी पॉजिटिव हो रहे हैं। हमारी टीम हर कोशिश कर रही है।

12 घंटे तक डॉक्टर देखने नहीं आया

विकास प्राधिकरण के वित्त नियंत्रक सदन गोपाल मिश्र की मंगलवार को मौत हो गई। वह 20 अप्रैल से बीमार थे। बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में भर्ती के बाद उन्हें 12 घंटे तक देखने के लिए कोई डॉक्टर नहीं पहुंचा तो वह पंडित दीनदयाल उपाध्याय जिला अस्पताल में भर्ती हुए। वहां भी स्थिति नहीं सुधरी तो निजी अस्पताल में भर्ती हुए, जहां उनकी मौत हो गई।
ऑक्सीजन न मिलने से चली गई जान
बीएचयू के संगीत एवं मंच कला संकाय की वायलिन वादक डॉ. सवर्णा कुंतेया की मौत बीएचयू में आक्सीजन न मिलने से हो गई। उनके सहयोगियों का आरोप है कि डॉ. सवर्णा को दो दिन से ऑक्सीजन ही नहीं दिया गया। सवर्णा बीएचयू कोविड वार्ड की बदहाली देख काफी घबराई हुई थी। उन्होंने कहा था कि वह आक्सीजन सिलिंडर के बगैर सांस नहीं ले सकती। जांच होने के बाद रिपोर्ट तो आई मगर इलाज के लिए कोई डाक्टर नहीं पहुंचा था। यदि उन्हें आक्सीजन या दवा मिल जाती तो शायद जान बच सकती थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें