• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • In the name of Samadhi, the crowd gathered from Baba's spectacle; Police detainedJuna Akhada Baba Arrested By Uttar Pradesh Police In Hamirpur

हमीरपुर / जूना अखाड़े के कथित साधु ने तीन घंटे के लिए ली समाधि; भीड़ जुटाने के आरोप में पुलिस ने किया गिरफ्तार

यह तस्वीर हमीरपुर की है। यहां एक गांव में साधु ने समाधि ली। जिससे भीड़ जुट गई। कोरोना काल में नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में पुलिस ने साधु को पकड़ लिया है। यह तस्वीर हमीरपुर की है। यहां एक गांव में साधु ने समाधि ली। जिससे भीड़ जुट गई। कोरोना काल में नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में पुलिस ने साधु को पकड़ लिया है।
X
यह तस्वीर हमीरपुर की है। यहां एक गांव में साधु ने समाधि ली। जिससे भीड़ जुट गई। कोरोना काल में नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में पुलिस ने साधु को पकड़ लिया है।यह तस्वीर हमीरपुर की है। यहां एक गांव में साधु ने समाधि ली। जिससे भीड़ जुट गई। कोरोना काल में नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में पुलिस ने साधु को पकड़ लिया है।

  • मौदहा कोतवाली क्षेत्र के परछछ गांव का मामला
  • पुलिस मामले की जांच में जुटी

दैनिक भास्कर

Jun 29, 2020, 07:47 PM IST

हमीरपुर. उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के मौदहा कोतवाली क्षेत्र में कथित जूना अखाड़े के एक साधु ने सोमवार दोपहर समाधि ली। इसे देखने के लिए मौके पर लोगों की भीड़ जुट गई। इस दौरान न तो लोगों ने मुंह पर मास्क लगा रखा था और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया। करीब तीन घंटे बाद साधु जीवित बाहर आया तो जयकारा गूंजने लगा। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने आरोपी साधु को हिरासत में ले लिया है। मामले की जांच की जा रही है। 

यह पूरा मामला परछछ गांव का है। गांव में कुछ माह से गोंविद गिरिजी महाराज नाम के एक बाबा की आवाजाही शुरू हुई है। वह गांव के बाहर स्थित शिव मंदिर में पूजा-अर्चना करता है। पिछले एक पखवाड़े से बाबा ने अपने भक्तों के माध्यम से तीन घंटे के लिए समाधि लेने का प्रचार कराना शुरू कर दिया। इससे गांव में कौतूहल की स्थिति बन गई। सोमवार को समाधि लेने का मुहुर्त निकाला गया था। भक्तों ने बाबा के समाधि लेने वाले स्थान के पास गहरा गड्ढा खोदा, जिसमें नीचे ईंटे बिछा दिए गए। तब तक समाधि स्थल पर भारी भीड़ जुटनी शुरू हो गई।

समाधि स्थल के पास जुटे लोग।

दिन के एक बजे के आसपास बाबा गड्ढे में नीचे उतर गया। ऊपर से भक्तों ने पटरे से पूरा गड्ढा ढांक दिया और फिर उस पर तिरपाल डालकर कुछ मिट्टी भी डाल दी। तब तक भीड़ समाधि स्थल के आसपास ही डटी रही। आसपास के गांवों के लोग भी पहुंच गए। शाम 4 बजे के आसपास भक्तों ने गड्ढा खोलकर बाबा को जैसे ही बाहर निकाला वैसे ही जयकारे लगने शुरू हो गए। इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो, फोटो सोशल मीडिया में वायरल होना शुरू हो गया।

समाधि को ढंकने का काम करता ग्रामीण।

इससे कोतवाली पुलिस सक्रिय हो गई। पुलिस गांव पहुंचकर बाबा को हिरासत में लेकर कोतवाली ले आई। कोतवाल राजेश चंद्र त्रिपाठी का कहना है कि बाबा ने पूछताछ में बताया है कि उसने समाधि नहीं ली थी। बल्कि गड्ढे के नीचे उतरकर पूजा-अर्चना कर रहा था। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना