पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लैब टेक्नीशियन संजीत यादव हत्याकांड:पुलिस को अब तक नहीं मिला कोई सुराग, अब पांचों आरोपियों के नार्को टेस्ट की तैयारी

कानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लैब टेक्नीशियन संजीत यादव का शव अभी भी पुलिस बरामद नहीं कर पाई पाई है। (मृतक संजीत का फाइल फोटो)
  • पांडु नदी में 20 किलोमीटर तक पुलिस का सर्च ऑपरेशन जारी है
  • अब पुलिस को आरोपियों की कहानी पर संदेह, बताई जगह पर कुछ नहीं मिला

उत्तर प्रदेश के कानपुर में लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण के बाद हत्या कर पांडु नदी में शव फेंकने की बात आरोपियों ने कबूली थी लेकिन पांडु नदी में चल रहे सर्च ऑपरेशन में अभी तक पुलिस को शव नहीं मिल पाया है। ऐसे में अब पुलिस को आरोपियों की बताई कहानी पर संदेह होने लगा है। अब पुलिस इन आरोपियों के नार्को टेस्ट की तैयारी कर रही है।

दरअसल, लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के शव की तलाश में पुलिस रोजाना सर्च ऑपरेशन चला रही है। शनिवार को भी पुलिस की ओर से पांडु नदी में सर्च ऑपरेशन में लए लोगों की संख्या भी बढ़ा दी। यह सर्च ऑपरेशन पांडु नदी में करीब 20 किलोमीटर से भी आगे निकल गया है लेकिन सर्च टीम को अभी तक सफलता नहीं मिल पाई है। सर्च ऑपरेशन में तैनात दरोगा अभिलाष कुमार ने बताया कि हमारी टीम ने आरोपियों के बताए स्थान पर चार से पांच बार गहनता से जांच की है लेकिन अभी तक कुछ हाथ नहीं लगा है। फिर भी हम लोग तेजी के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

पुलिस को शक, आरोपी कर रहे हैं गुमराह

इस हत्याकांड में शामिल पांचों आरोपियों ज्ञानेंद्र, कुलदीप, नीलू, रामजी और प्रीति को जेल भेजा गया था। इनमें से रामजी कोरोना संक्रमित होने के कारण फिलहाल नारायणा अस्पताल में भर्ती है। इस मामले में संजीत का शव, कत्ल के दौरान इस्तेमाल की गई रस्सी और उससे जुड़ा कोई मजबूत साक्ष्य पुलिस के पास नहीं होने के कारण कुलदीप, ज्ञानेंद्र और नीलू को कस्टडी रिमांड पर लिया गया था। तीनों की निशानदेही पर 48 घंटे में पुलिस ने पांडु नदी से लेकर फिरौती देने वाले स्थान गजैनी हाईवे, रेलवे ट्रैक, राम गंगा नहर समेत आसपास का पूरा इलाका छाना मारा लेकिन अभी तक पुलिस के हाथ कोई सबूत नहीं लग पाया है।

कस्टडी रिमांड का समय पूरा होने से पहले ही आरोपियों को मेडिकल जांच के बाद जेल भेजा दिया गया है। ऐसे में अब पुलिस को भी यह लगने लगा है कि आरोपी मुकदमे को कमजोर करना चाहते हैं, यही वजह है कि पुलिस हर तरह से आरोपियों द्वारा बताए गए हर स्थान पर कई बार सर्च ऑपरेशन कर चुकी है। पुलिस ना तो अभी तक शव बरामद कर पाई है और ना ही ऐसा कोई सबूत जुटा पाई है जिससे कि वो इन आरोपियों को कोर्ट में सजा दिलवा सके। अब ऐसे में पुलिस के पास सिर्फ नार्को टेस्ट का ही विकल्प बचा है।

क्या था मामला

गौरतलब है कि 22 जून को लैब टेक्नीशियन संजीत यादव का अपहरण हो गया था। अपहरण के 31 दिन बाद जाकर पुलिस संजीत के आरोपियों को गिरफ्तार कर पाई थी जिसे लेकर पुलिस विभाग की पूरे प्रदेश में किरकिरी हुई थी। वहीं इस मामले में लापरवाही के आरोप के चलते कई अधिकारियों पर गाज भी गिरी थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले रुके हुए और अटके हुए काम पूरा करने का उत्तम समय है। चतुराई और विवेक से काम लेना स्थितियों को आपके पक्ष में करेगा। साथ ही संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी चिंता का भी निवारण होगा...

और पढ़ें