पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कंगना-शिवसेना विवाद:उद्धव के समर्थन में उतरे राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय; बोले- किसने मां का दूध पिया, जो ठाकरे को अयोध्या आने से रोक सके

अयोध्या13 दिन पहले
राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय।
  • चंपत राय ने उद्धव ठाकरे के आगमन पर उनका स्वागत करने की बात कही
  • विहिप, संत समिति और हनुमानगढ़ी के महंत ने अयोध्या आने पर ठाकरे के विरोध में उतरने का ऐलान किया था

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनोट और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री/ शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बीच चल रहे विवाद में अब श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट महासचिव चंपत राय भी कूद गए हैं। उद्धव का समर्थन करते हुए चंपत राय ने कहा कि अयोध्या में किसने अपनी मां का दूध पिया है जो ठाकरे को यहां आने से रोक सके? दरअसल, अखाड़ा परिषद, अयोध्या संत समिति और हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने उद्धव ठाकरे के अयोध्या आगमन पर उनका विरोध करने की चेतावनी दी थी।

महासचिव चंपत राय ने कहा कि हम उद्धव ठाकरे का अयोध्या में स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान की एक कहावत है- किसकी मां ने जीरा खाकर बच्चे को पैदा किया जो नदी को रोक सके। यहां भी किसकी मां ने जीरा खाया है जो उद्धव को रोक सके। यह सब निरर्थक बहस है। अगर विश्व हिंदू परिषद की तरफ से कोई बयान दिया गया है तो अधिकृत नहीं है।

महंत राजू दास।
महंत राजू दास।

राजू दास ने कहा- ठाकरे सनातन विरोधी, चंपत राय ने भगवान राम को गाली दी

लेकिन अब चंपत राय के बयान पर विवाद शुरू हो गया है। हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने चंपत राय को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वे जिस तरीके का बयान दे रहे हैं, वह ईस्ट इंडिया कंपनी की भाषा है। उनका बयान साधु संतों का अपमान है। भगवान श्री राम की धरती को गाली दे रहे हैं। भाजपा संगठन से भी अपील है कि ऐसे लोगों की अयोध्या में जरूरत नहीं है।

महंत राजू दास ने कहा कि महाराष्ट्र में जूना अखाड़े के संतों की हत्या दुर्भाग्यपूर्ण थी। उसके विरोध में हम लोगों ने आवाज उठाई और यह मांग रखी कि महाराष्ट्र में साधु की हत्या की जांच और दोषियों को फांसी की सजा होनी चाहिए। घटना के समय उपस्थित पुलिस वालों पर भी कार्रवाई की मांग की गई। हम लोगों की मांग पर लंबा समय बीत जाने के बावजूद महाराष्ट्र सरकार ने ध्यान नहीं दिया। न्याय की गुहार लगाने वाले वकील की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई।

महाराष्ट्र सरकार की कथित तानाशाही का विरोध करने वाली कंगना रनौत के मकानों और दफ्तरों पर बुलडोजर चलाया गया। यह अन्याय है और इस पर चुप नहीं बैठा जा सकता। हमने उद्धव ठाकरे का इस नाते विरोध किया था कि अगर वह अयोध्या आते हैं तो फिर उन्हें प्रवेश नहीं दिया जाएगा। हम स्वर्गीय बाला साहब ठाकरे का विरोध नहीं कर रहे हैं। वह हिंदू हृदय सम्राट थे, जिन्होंने विवादित ढांचे के विध्वंस में सहयोग किया था। लेकिन उद्धव ठाकरे का क्रियाकलाप सनातन संस्कृति के विपरीत है। इस नाते हम उनका विरोध कर रहे हैं। इस पर चंपत राय का बयान बेहद ही निंदनीय है। चंपत राय किसी मंदिर या मठ के महंत नहीं हैं. वे एक संगठन के छोटे से पदाधिकारी हैं।

लोकसभा चुनाव के बाद उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे।
लोकसभा चुनाव के बाद उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे।

उद्धव ठाकरे ने मंदिर निर्माण के लिए दिए थे एक करोड़

बीते माह पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिला पूजन किया था। जिसमें देश के सभी संप्रदायों के संतों, राम मंदिर आंदोलन से जुड़े लोगों व कुछ राजनैतिक शख्सियतों को आमंत्रित किया गया था। इसमें शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे शामिल नहीं थे। बावजूद इसके उन्होंने शिलापूजन से पहले एक करोड़ रुपए मंदिर निर्माण के लिए दान किया था।

संतों ने उद्धव के एक्शन की निंदा की थी

हाल ही में अयोध्या संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैया दास और हनुमानगढ़ी के महंत राजूदास ने उद्धव ठाकरे पर अभिनेत्री कंगना का उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था। ऐलान किया था कि यहां के संत उद्धव ठाकरे और उनके समर्थकों को अयोध्या में प्रवेश नहीं करने देंगे और उनका विरोध करेंगे। विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता शरद शर्मा ने भी कंगना रनोट के समर्थन में बयान देकर उद्धव सरकार के एक्शन की निंदा की थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें