पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

PM मोदी के नए मंत्री का पहला बयान:UP के सांसद कौशल किशोर बोले- प्रधानमंत्री ने बधाई दी, कैबिनेट मंत्री बनना बड़ी जिम्मेदारी; 3 पॉइंट्स में बताया कैसे काम करेंगे

लखनऊ20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
2014 में कौशल किशोर पहली बार सांसद बने थे। - Dainik Bhaskar
2014 में कौशल किशोर पहली बार सांसद बने थे।

लखनऊ के मोहनलालगंज से सांसद और अब मोदी के कैबिनेट की संभावित लिस्ट में शामिल कौशल किशोर ने बताया कि उन्हें आज सुबह 10 बजे प्रधानमंत्री के साथ चाय पीने के लिए बुलाया गया था। पीएम मोदी ने इस दौरान अच्छा काम करने के लिए प्रोत्साहित किया और देशभर से जुटे सांसदों को बधाई दी। एक इंटरव्यू में सांसद कौशल किशोर ने बताया कि उन्हें आज सुबह 10 बजे फोन आया था कि प्रधानमंत्री जी ने चाय पर बुलाया है। जब वहां गए तो बातचीत हुई और शाम को होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार के लिए उन्हें आमंत्रित किया गया।
3 पॉइंट्स में बताया कि कैसे काम करेंगे ?
1.
जिम्मेदारी बढ़ेगी इसलिए ज्यादा मेहनत करनी होगी।
2. ज्यादा से ज्यादा लोगों की मदद करेंगे।
3. पहले के मुकाबले ज्यादा मुस्तैदी और सतर्कता से काम करना पड़ेगा।

PM मोदी और CM योगी की तारीफ की

फोटो 2017 की है, जब सांसद कौशल किशोर ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया था।
फोटो 2017 की है, जब सांसद कौशल किशोर ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया था।

सांसद कौशल किशोर ने चाय पार्टी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ की। कहा कि दोनों सरकारों में काफी अच्छा काम हो रहा है। पीएम मोदी और यूपी के सीएम योगी ने जरूरतमंदों के लिए काम किया। गरीबों को मुफ्त इलाज, मुफ्त गैस-सिलेंडर, चूल्हे दिए। शादी के लिए बेटियों को आर्थिक मदद दी गई। हर घर बिजली और पानी दिया गया। गरीबों को घर दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी और योगी के इन्हीं कामों को आगे बढ़ाया जाएगा।

कौन हैं कौशल किशोर?

गृह मंत्री अमित शाह और यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्य के साथ कौशल किशोर।
गृह मंत्री अमित शाह और यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्य के साथ कौशल किशोर।

कौशल किशोर उत्तर प्रदेश की मोहनलाल गंज लोकसभा सीट से सांसद हैं। कौशल किशोर पासी समाज से आते हैं। जाटव के बाद यूपी में इनका बड़ा वोट बैंक है। कौशल किशोर 2002 से 2007 तक उत्तर प्रदेश विधान सभा के सदस्य रहे। इसके बाद 2003-2004 तक उत्तर प्रदेश सरकार में राज्य मंत्री रहे। 2014 में पहली बार और 2019 में दूसरी बार सांसद बने। लखनऊ के कालीचरण इंटर कॉलेज से 12वीं करने के बाद कौशल किशोर ने सीआर डिग्री कॉलेज में एडमिशन लिया था। बताया जाता है कि उस वक्त परिवार की स्थिति ठीक नहीं थी। इसलिए उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी। इस दौरान उन्होंने मजदूरों और किसानों के लिए काफी काम किया।

खबरें और भी हैं...