• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ghaziabad Candle Factory Fire Case Today News Update। NHRC Notice To Chief Secretary And DGP Up Over To Death Of 7 Persons Due To Fire In Illegal Candle Factory In Ghaziabad

गाजियाबाद अग्निकांड:मानवाधिकार आयोग ने मुख्य सचिव और डीजीपी को भेजा नोटिस, एक आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

गाजियाबाद2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
यह तस्वीर गाजियाबाद की है। यहां रविवार की शाम एक अवैध फैक्ट्री में आग लग गई थी। आग के बीच हुए विस्फोट से सात लोगों की मौत हो गई थी। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस प्रकरण का स्वत: संज्ञान लिया है। - Dainik Bhaskar
यह तस्वीर गाजियाबाद की है। यहां रविवार की शाम एक अवैध फैक्ट्री में आग लग गई थी। आग के बीच हुए विस्फोट से सात लोगों की मौत हो गई थी। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस प्रकरण का स्वत: संज्ञान लिया है।
  • मोदीनगर स्थित एक फैक्ट्री में रविवार शाम लगी थी भीषण आग
  • आग में झुलसकर छह महिलाओं समेत सात लोगों की हुई थी मौत

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में मोदीनगर स्थित अवैध पटाखा फैक्ट्री में रविवार शाम आग लगने से विस्फोट हो गया था। इस दौरान एक बालक समेत सात लोगों की मौत हो गई थी। इस प्रकरण में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने सोमवार को प्रदेश के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी किया है। वहीं, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि, मामले में प्राथमिकी दर्ज करने के बाद एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है। 

आयोग ने इस प्रकरण का स्वत: संज्ञान लिया है। आयोग ने अधिकारियों को चार हफ्ते में में पूरी रिपोर्ट तलब की है। अफसरों से पूछा गया है कि, फैक्ट्री के मालिक और दोषी अधिकारियों व कर्मचारियों के विरुद्ध क्या कार्रवाई की गई है? घायलों के इलाज और उनके राहत और पुनर्वास के लिए क्या कदम उठाए गए हैं? इसके साथ ही स्थानीय अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाए। पीड़ित परिवारों को न्यास दिलाने के लिए उनके खिलाफ एक्शन हो। 

दरअसल, मोदीनगर के बखरवां गांव में रविवार शाम फैक्ट्री में भीषण आग लग गई थी। इस हादस में सात लोगों की झुलसकर मौत हो गई। मृतकों में छह महिलाएं और एक बालक था। इस फैक्ट्री में बर्थडे केक में लगने वाले पेंसिल बम बनाने का काम हो रहा था। इसी आड़ में अवैध रूप से पटाखा भी बनाया जा रहा था। आग लगने के दौरान करीब 20 मजदूर फैक्ट्री के भीतर मौजूद थे। विस्फोट होने के बाद छत गिर गई और मजदूर उसकी चपेट में आ गए। 

सीएम ने इस प्रकरण का संज्ञान लेकर जांच के निर्देश दिए थे। स्थानीय चौकी इंचार्ज को सस्पेंड कर दिया गया था। साथ ही डीएम न्यायिक जांच के आदेश दिए थे। स्थानीय लोगों का आरोप है कि, फैक्ट्री अवैध थी। इसके बावजूद पुलिस की मिलीभगत से इसका संचालन किया जा रहा था। एसएसपी ने बताया कि इस प्रकरण में मुख्य आरोपी नितिन चौधरी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके खिलाफ 7 क्रिमिनटल लॉ अमेंडमेंट एक्ट, गैर इरादतन हत्या, एक्सप्लोसिव एक्ट समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है।