पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अयोध्या में शुरू होंगे 1000 करोड़ के 51 प्रोजेक्ट:राम मंदिर के भूमि पूजन के बाद 251 मीटर ऊंची श्रीराम की प्रतिमा का भी होगा शिलान्यास; 14 कोसी परिक्रमा मार्ग पर 4 किमी लंबी सीता झील बनेगी

अयोध्या2 महीने पहलेलेखक: आदित्य तिवारी
  • कॉपी लिंक
यह तस्वीर अयोध्या में नया घाट की है। शासन अयोध्या को नए सिरे से संवारने का प्लान बना रही है।
  • सआदतगंज से लेकर शहर के अंदर से नया घाट तक सड़क का होगा 30 मीटर चौड़ीकरण
  • लखनऊ-गोरखपुर हाईवे पर सरयू किनारे की भूमि पर स्थापित होगी भगवान राम की प्रतिमा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में पांच अगस्त को राम जन्मभूमि पर भगवान राम के भव्य मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। इसके अलावा अयोध्या के कायाकल्प के लिए एक हजार करोड़ से ज्यादा लागत की 51 परियोजनाओं को शुरू करेंगे।

लखनऊ-गोरखपुर हाईवे पर सरयू किनारे भगवान श्रीराम की 251 मीटर ऊंची प्रतिमा का भी शिलान्यास होगा। 14 कोसी परिक्रमा मार्ग पर 4 किमी लंबी सीता झील भी राम भक्तों को मिलेगी। नगर विकास, संस्कृति विभाग, पर्यटन और लोक निर्माण विभाग ने 51 परियोजनाओं का प्रस्ताव तैयार किया है, इन पर मंगलवार को डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या मुहर लगाएंगे।

गुजरात के मूर्तिकार बना रहे है मूर्ति

गुजरात में सरदार पटेल की 183 मीटर ऊंची प्रतिमा तैयार करने वाले नोएडा के मूर्तिकार राम सुतार को ही भगवान श्रीराम की मूर्ति के निर्माण का जिम्मा प्रदेश सरकार ने सौंपा है। प्रदेश सरकार ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 447 करोड़ रुपए का बजट भी दिया है।

इस राशि से 61 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाएगा। यह राशि निर्माण के लिए तकनीकी अध्ययन करने के लिए स्वीकृत 200 करोड़ रुपए के अलावा है। इसमें कई तरह की योजना तैयार की गई है।

51 परियोजनाओं को जिला प्रशासन ने किया तैयार

राम मंदिर भूमि पूजन के दिन से अयोध्या के लिए 51 से ज्यादा परियोजनाओं का कार्य जिला प्रशासन ने तैयार किया है। किस योजना का पीएम मोदी का शिलान्यास करेंगे, इस पर जिला प्रशासन से लेकर शासन तक मंथन किया जा रहा है। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य मंगलवार को अयोध्या में बनने वाली सड़कों और चौड़ीकरण कार्य को लेकर एक अहम बैठक करेंगे। सीएम योगी ने सआदतगंज से शहर के अंदर से होते हुए नया घाट तक सड़क को 30 मीटर चौड़ी करने के लिए स्वीकृति दी है।

सीता झील स्थल का अनुश्रवण समिति के चेयरमैन ने किया था निरीक्षण

सीता झील को लेकर पूर्वोत्तर नदी व जलाशय अनुश्रवण समिति के चेयरमैन रिटायर्ड जज डीपी सिंह जमीन का स्थलीय निरीक्षण भी कर चुके हैं। यह सीता झील सरयू नदी के 14 कोसी परिक्रमा मार्ग के किनारे अफीम कोठी से लेकर राजघाट तक 4 किलोमीटर लंबी बनाई जाएगी और इसकी चौड़ाई 500 मीटर होगी।

इसी सीता झील में सरयू नदी का पानी होगा। लोग इसमें स्नान के साथ नौका विहार का भी लुत्फ उठा सकेंगे। यह समिति एनजीटी के निर्देशन में नदियों एवं जलाशयों को पुनर्जीवित करने का कार्य करती है। प्रस्तावित सीता झील का निर्माण उसी का हिस्सा है। पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से इसे महत्वपूर्ण माना जाता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें