पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Samajwadi Party MLA Wrote To The CM, Saying, If CM Is A Yogi, I Have Also Done A Hatha Yoga, I Will Sit Till The Demands Are Met

कानपुर:समाजवादी पार्टी के विधायक ने सीएम को लिखा खून से खत, कहा- सीएम योगी हैं तो शायद एक हठयोगी की बात सुन लें

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कानपुर में धरने पर बैठे सपा विधायक ने कहा कि जब तक मांगे नहीं पूरी होंगी तब तक नहीं हटूंगा।
  • अपने इलाके में पेयजल समस्‍या को तीन दिनों से बैठे हैं धरने पर, कोई पूछने तक नहीं आया
  • विधायक ने कहा कि जब तक गंगा बैराज का पानी टंकी में नहीं आएगा तब तक नहीं हटूंगा

उत्तर प्रदेश में कानपुर से समाजवादी पार्टी के विधायक अमिताभ बाजपेयी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खून से पत्र लिखकर पेयजल योजनाओं को पूरी करने की मांग की है। क्षेत्र की पेयजल समस्या को लेकर विधायक बीते तीन दिनों से धरने पर बैठे हैं, लेकिन जिला प्रशासन के किसी भी अधिकारी ने उनकी सुध नहीं ली है। विधायक का कहना है कि सीएम योगी हैं, तो मैंने भी हठयोग किया है। जब तक मांगे पूरी नहीं होंगी तब तक यहां से नहीं हटूंगा।

विधायक ने कहा- गंगा बैराज की लाइन को उनके क्षेत्र को नहीं जोड़ा गया है। इस भीषण गर्मी में क्षेत्र में पेयजल संकट बना हुआ है। कोरोना संकटकाल में लोग बड़ी संख्या में हैंडपंप पर लाइन लगा रहे है। जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है, लेकिन जिला प्रशासन और जल निगम के अधिकारी उदासीन रवैया अपनाएं है।

मांगे पूरी होने पर ही धरने से हटूंगा 
विधायक ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी हैं तो मैंने भी हठयोग किया है। मैं अब धरने से तभी हटूंगा, जब गंगा बैराज का पानी इस पानी की टंकी में आ जाएगा। वो योगी हैं तो शायद हठयोगी की बात समझ जाएं। उनकी संवेदनाएं जगाने की नीयत से अपने खून से पत्र लिखा है। शायद खून देखकर उनकी भावनाएं जग जाएं ताकि मेरी क्षेत्र की जनता को पानी की आपूर्ति संभव हो सके।

सरकार पूरी तरह से संवेदनशून्य हो चुकी है
एसपी विधायक अमिताभ बाजपेयी के मुताबिक, तीन दिनों से मैं धरने पर बैठा हूं। जिन बातों की मैं लड़ाई लड़ रहा हूं वे सभी योजनाएं 12 साल से अधूरी है। बीते तीन साल से मैं विधायक हूं, उसके लिए तीन साल से लड़ाई लड़ रहा हूं। योजनाओं के लिए मैने विधानसभा में सवाल उठाए है , ज्ञापन दिए और मुलाकातें की हैं। अफसोस उसका कहीं असर नहीं हुआ है। मैं तीन दिनों से धरने पर बैठा हूं, प्रशासन का कोई अधिकारी यह तक पूछने नहीं आया कि आप क्यों धरने पर बैठे है। कौन सी मांगें हैं जिसको लेकर धरने पर बैठे हैं। मुझे लगता है कि सरकार संवेदनशून्य हो गई है।

विधायक ने कहा कि जल निगम बहुत ही मोटी चमड़ी वाला विभाग है। गंगा बैराज का जब उद्घाटन हुआ था, तब एसपी सरकार थी, फिर बसपा की सरकार आई। इसके बाद फिर से एसपी की सरकार आई। अब बीजेपी की सरकार है। इसी तरह से अनेक सरकारें आकर चली गईं। सरकारें आती- जाती गईं पर अधिकारियों की नींद नहीं टूटी। बड़े बजट का काम होता है वो फौरन कर लेते हैं, लेकिन जिस काम से जनता को राहत मिलनी चाहिए वो काम नहीं करते है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें