30 साल 78 दिन पुराना केस, 353 साल पुराना विवाद:शाहजहां ने काशी विश्वनाथ मंदिर तोड़ने के आदेश दिए, हिंदुओं ने विरोध किया, मंदिर नहीं तोड़ पाया

लखनऊएक महीने पहलेलेखक: रक्षा सिंह
  • कॉपी लिंक

15 अक्टूबर 1991 को ज्ञानवापी मस्जिद ढहाने की याचिका दायर की गई। उस पर आज सुनवाई हो रही है। पूरे 30 साल 78 दिन पुरानी इस याचिका का इतिहास 353 साल पहले का है जब औरंगजेब बनारस घूमने आया था। आइए पूरी कहानी में शुरू से उतरते हैं…

इसके 3 हिस्से हैं। पहला, मंदिर टूटने और मस्जिद बनने का इतिहास। दूसरा, काशी मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद का ढांचा और तीसरा- मौजूदा विवाद।

यहां पर ज्ञानवापी मस्जिद और काशी विश्वनाथ मंदिर का इतिहास पूरा होता है। आगे की कहानी काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद के ढांचे की…

यहां पर इसकी बनावट की कहानी खत्म होती है। आगे बात ज्ञानवापी मस्जिद से जुड़े 213 साल पुराने विवाद और 30 साल 78 दिन पुराने केस की, जिसका फैसला अब भी आना बाकी है…

सन्दर्भ:
1. डॉ विश्वंभर नाथ पांडेय की किताब ‘भारतीय संस्कृति, मुगल विरासत: औरंगजेब के फरमान’ का पेज 119 और 120

2. डॉ. एएस भट्ट की किताब ‘दान हारावली’

3. एल पी शर्मा की किताब ‘मध्यकालीन भारत’

4. साकी मुस्तइद खां की किताब ‘मासीदे आलमगिरी’

ग्राफिक डिजाइनर : राजकुमार गुप्ता