कोविड- 19:यूपी में घटिया पीपीई किट सप्लाई की जांच शुरू, एसटीएफ ने तत्कालीन डीजीएमई का बयान दर्ज किया

लखनऊ2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पीपीई किट की एक लाट में करीब 100 किट खराब होने की शिकायत सामने आई है। फिलहाल इसे वापस कर दूसरी किट भेजने के निर्देश दिए गए हैं। - Dainik Bhaskar
पीपीई किट की एक लाट में करीब 100 किट खराब होने की शिकायत सामने आई है। फिलहाल इसे वापस कर दूसरी किट भेजने के निर्देश दिए गए हैं।
  • सरकार के पीपीई किट के इस्तेमाल पर लगाई थी रोक, खरीद में बड़े अधिकारी थे शामिल एसटीएफ ने अब इस मामले में तत्कालीन डीजीएमई केके गुप्ता के बयान दर्ज कर लिए हैं

कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों को बचाव के लिए दी जाने वाली पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई) किट की घटिया सप्लाई का मामला सामने आने के बाद अब इसकी जांच एसटीएफ ने शुरू कर दी है। दो मेडिकल कॉलेजों में भेजी गई पीपीई किट खराब होने और साइज में छोटा होने की शिकायत के बाद इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई थी। इसकी सप्लाई यूपी मेडिकल सप्लाई कारपोरेशन द्वारा की गई थी फिलहाल इसे वापस करने के निर्देश दिए गए हैं।

मेडिकल कॉलेजों को घटिया पीपीई किट को शिकायत की गई थी। तत्कालीन डीजीएमई डॉ़. केके गुप्ता का बयान दर्ज हुए हैं। मेरठ मेडिकल कॉलेज के बयान भी दर्ज किया जाएगा। कई मेडिकल कॉलेजों के प्रिंसिपलों के बयान भी दर्ज किया जाएगा।  डीजीएमई समेत कई अफसरों से पूछताछ की जा चुकी हैं। किट की गुणवत्ता पर सवाल उठाने वाला पत्र लीक हुआ था। किट पर सवाल उठाने वाले पत्र लीक होने के बाद खरीद पर सवाल उठे थे। 16 अप्रैल को शिकायत की चिट्ठी लीक हुई थी। 

खरीद में बड़े अधिकारी थे शामिल: यूपी मेडिकल सप्लाई कारपोरेशन से खरीदी थी किट खरीद कमेटी में कई बड़े अधिकारी शामिल थे।  चिकित्सा शिक्षा सचिव मार्कण्डेय शाही, महानिदेशक केके गुप्ता, विशेष सचिव धीरेंद्र सचान, श्रीश सिंह, वित्त नियंत्रक कृपाशंकर पांडे शामिल थे।

सुरेश खन्ना ने पीपीई किट पर लगाई थी रोक 
चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा था कि पीपीई किट की एक लाट में करीब 100 किट खराब होने की शिकायत सामने आई है। फिलहाल इसे वापस कर दूसरी किट भेजने के निर्देश दिए गए हैं। संस्थानों की आपत्ति के बाद चिकित्सा शिक्षा विभाग के महानिदेशक ने भी सभी मेडिकल कॉलेज व संस्थानों को पत्र जारी कर कारपोरेशन द्वारा भेजी गई किट व सामग्री के उपयोग पर रोक लगा दी है।