• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Tarak Mehta's Babita Caught In Controversy, Valmiki Society Reached Agra To Register FIR After Making Caste Remarks In Video, Demand For Arrest On Social Media Arose

विवादों में फंसी तारक मेहता की बबिता:वीडियो में जातिगत टिप्पणी करने पर आगरा में FIR दर्ज कराने पहुंचा वाल्मीकि समाज, सोशल मीडिया पर गिरफ्तारी की मांग उठी

आगरा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा के वाल्मीकि समाज ने मुनमुन दत्ता के खिलाफ एसएसपी को तहरीर दी है। - Dainik Bhaskar
आगरा के वाल्मीकि समाज ने मुनमुन दत्ता के खिलाफ एसएसपी को तहरीर दी है।

टीवी के पॉप्युलर शो 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में बबीता का किरदार निभाने वाली मुनमुन दत्ता बुरी तरह से फंसती नजर आ रहीं हैं। एक वीडियो में जातिगत टिप्पणी करने पर आगरा में उनके खिलाफ वाल्मीकि समाज ने FIR दर्ज कराने के लिए एसएसपी को तहरीर दी है। उधर, सोशल मीडिया में भी लोग उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। हालांकि, ऐक्ट्रेस ने सोशल मीडिया के जरिए मंगलवार को ही माफी मांग ली थी, लेकिन लोग अभी भी गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।

मेकअप वीडियो पोस्ट किया था
मुनमुन दत्ता ने सोमवार को एक मेकअप वीडियो पोस्ट किया था। इसमें उन्होंने कहा था कि उन्होंने मस्कारा, लिप टिंट और ब्लश लगाया है। क्योंकि वो यूट्यूब पर आने वाली हैं और अच्छी दिखना चाहती हैं। इसके बाद उन्होंने एक जाति का नाम लेकर कहा था कि वो उनकी तरह नहीं दिखना चाहती हैं। उनके इसी बयान पर विवाद खड़ा हो गया है। देखते ही देखते वीडियो वायरल हो गया और लोग मुनमुन दत्ता की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। लोगों के गुस्से को देखते हुए मंगलवार को मुनमुन ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए माफी भी मांग ली थी।

बोलीं- मेरे कहने का गलत मतलब निकाला गया
मुनमुन दत्ता ने अपने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, 'यह उस वीडियो के बारे में हैं, जिसे मैंने कल पोस्ट किया था। इसमें मेरे द्वारा इस्तेमाल किए गए एक शब्द का गलत मतलब निकाला जा रहा है। यह अपमान, धमकी या किसी की भावानओं को चोट पहुंचाने के इरादे से कभी नहीं किया गया था। मेरी भाषा की सीमाओं के कारण, मुझे शब्द के अर्थ को लेकर सही जानकारी नहीं थी। एक बार जब मुझे इस शब्द के बारे में जानकारी दी गई तो मैंने तुरंत उसे वहां से निकाल दिया।'

मुनमुन ने आगे लिखा, 'मैं हर जाति, पंथ और लिंग के व्यक्ति का सम्मान करती हूं और हमारे देश और समाज के निर्माण में उनके योगदान को स्वीकार करती हूं। इस शब्द के उपयोग से जिस किसी का भी दिल दुखा है, मैं उससे माफी मांगती हूं और मुझे इसका वाकई अफसोस है।'

खबरें और भी हैं...