पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गाजियाबाद में पॉलिसी के नाम पर ठगने वाले 3 अरेस्ट:दसवीं पास युवक ने फर्जी कंपनी खोलकर डेढ़ साल में दो हजार लोगोंं ठगा, IRDA और रिलायंस जनरल इंश्योरेंस का अधिकारी बताकर करते थे ठगी

गाजियाबाद18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गाजियाबाद पुलिस ने ठगी करने वाले तीन शातिरों को गिरफ्तार किया। - Dainik Bhaskar
गाजियाबाद पुलिस ने ठगी करने वाले तीन शातिरों को गिरफ्तार किया।

गाजियाबाद पुलिस की साइबर क्राइम सेल ने पॉलिसी मेच्योर कराने के नाम पर ऑनलाइन ठगने वाले गिरोह का बुधवार को पर्दाफाश किया है। फ्रॉड कंपनी के 10वीं पास मालिक समेत तीन आरोपी गिरफ्तार कि गए हैं। खुलासा हुआ है कि यह गिरोह डेढ़ साल में ही तकरीबन दो हजार लोगों से लाखों रुपयों की ठगी कर चुका है।

नोएडा में खोल रखा था दफ्तर
साइबर क्राइम सेल प्रभारी सुमित कुमार के अनुसार, इस साल थाना इंदिरापुरम और थाना साहिबाबाद में दो लोगों ने ठगी के मुकदमे दर्ज कराए। दोनों मामलों की जांच साइबर क्राइम सेल ने की। इस दौरान पता चला कि नोएडा में दफ्तर खोलकर पॉलिसी मेच्योर करने के नाम पर ठगी हो रही है। उन्होंने बताया कि इस मामले में तीन आरोपियों को बुधवार को गिरफ्तार किया है। उनकी पहचान अमित कुमार निवासी गांधीनगर हरियाणा, आकाश गुप्ता निवासी जिला गाजीपुर और अभिषेक तिवारी निवासी अलीगंज लखनऊ के रूप में हुई है। हालांकि तीनों आरोपी फिलहाल नोएडा में रह रहे थे।

मोबाइल सिम, बैंक खाते तक फर्जी
साइबर सेल प्रभारी के अनुसार, आरोपियों ने नोएडा में A&S हेल्थ लाइफ इंश्योरेंस नाम से दफ्तर खोल रखा था। यहां सेलरी पर कुछ लड़के रखे हुए थे। वह लड़के पॉलिसी धारकों को कॉल करते थे। खुद को रिलायंस जनरल इंश्योरेंस नोएडा और IRDA का अधिकारी बताते थे। पॉलिसी मेच्योर करने के नाम पर लोगों को कॉल करते थे और बातों में उलझाकर उनसे बैंक खातों में पैसा डलवाते थे। कॉलिंग के लिए जो सिम इस्तेमाल होता था, वह फर्जी आईडी पर खरीदते थे। फर्जी दस्तावेजों पर ही बैंक खाते खुलवाए जाते थे, ताकि पकड़ में न आएं।

31 मोबाइल और फर्जी दस्तावेज मिले
आरोपियों से 31 मोबाइल, 5 आईडी कार्ड, 54 डाटा पेपर शीट, 97 पॉलिसी लेटर पैड जैसे दस्तावेज मिले हैं। जांच के बाद पता चला है कि यह गिरोह करीब डेढ़ साल से चल रहा था, जिसने अब तक करीब दो हजार लोगों को ठग लिया है। अभी इस गिरोह के फर्जी बैंक खातों की डिटेल्स आनी बाकी है। इससे पता चल पाएगा कि अब तक कितने रुपए यह गिरोह ठग चुका है। गैंग सरगना अमित और आकाश दसवीं पास हैं जबकि अभिषेक तिवारी बीटेक पासआउट है।

खबरें और भी हैं...