कोरोना वैक्सीनेशन में बड़ी लापरवाही:कानपुर में मोबाइल पर बात करते हुए नर्स ने महिला को दो बार टीका लगाया, निगरानी के बाद घर भेजा; DM ने जांच के आदेश दिए

कानपुर7 महीने पहले

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर उत्तर प्रदेश में बड़ी लापरवाही सामने आई है। कानपुर देहात में बने कोविड वैक्सीनेशन सेंटर में शुक्रवार को जिस नर्स (ANM) की ड्यूटी लगाई गई थी, उसने टीका लगवाने पहुंची एक महिला को वैक्सीन के दो डोज लगा दिए। जानकारी के मुताबिक, ANM फोन पर बात कर रही थी। बातचीत में वह इतनी मशगूल हो गई कि महिला को 5 मिनट के अंतर से दो बार वैक्सीन लगा दी। मामला सामने आने के बाद जिले के DM ने जांच के आदेश दिए हैं।

कमलेश ने जब वैक्सीन की दो डोज दिए जाने के बारे में पूछा तो ANM को अपनी गलती का अहसास हुआ।
कमलेश ने जब वैक्सीन की दो डोज दिए जाने के बारे में पूछा तो ANM को अपनी गलती का अहसास हुआ।

कानपुर देहात के मड़ौली इलाके में प्राइमरी हेल्थ सेंटर में जब महिला कमलेश वैक्सीन लगवाने पहुंची, तो फोन पर बात करते हुए ही ANM ने उसे वैक्सीन लगाई। इसके बाद महिला वहीं बैठी रही। कुछ देर बाद वही ANM वापस आई और एक बार फिर महिला को वैक्सीन लगा दी। जब कमलेश ने दो डोज के बारे में जानना चाहा, तो ANM को अपनी गलती का अहसास हुआ।

​​​​​गलती पकड़ में आने के बाद महिला को निगरानी में रखा
जब महिला ने वैक्सीनेशन सेंटर के स्टाफ से वैक्सीन के डोज के बारे में पूछा, तो सभी ने एक बार में एक डोज देने की बात बताई। जब महिला ने दो बार वैक्सीन लगाने के बारे में बताया, तो प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का स्टाफ हरकत में आया और उन्होंने महिला को 2 घंटे तक निगरानी में रखा। अच्छी बात ये रही कि महिला को इस दौरान कोई समस्या नहीं हुई।

महिला के परिवार की आपत्ति पर जांच के आदेश दिए गए
जब महिला के परिवार को इस लापरवाही की जानकारी मिली, तो वे भड़क गए। मामला अधिकारियों तक पहुंचा, तो कानपुर के DM ने जिले के CMO को मामले की जांच कर फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए हैं। फिलहाल, जिले के सभी वैक्सीनेशन सेंटर्स पर स्टाफ के मोबाइल रखने पर रोक लगा दी गई है।

कानपुर के CMHO ने वैक्सीनेशन सेंटर पर कर्मचारियों के मोबाइल रखने पर पाबंदी लगा दी है।
कानपुर के CMHO ने वैक्सीनेशन सेंटर पर कर्मचारियों के मोबाइल रखने पर पाबंदी लगा दी है।

वैक्सीन की ओवरडोज पर एक्सपर्ट ओपिनियन
कोरोना वैक्सीनेशन में हुई इस गंभीर लापरवाही पर हमने वैक्सीन एक्सपर्ट डॉ. चंद्रकांत लहारिया से बात की तो उन्होंने बताया कि आमतौर पर वैक्सीन की थोड़ी ज्यादा मात्रा शरीर में जाने से कोई नुकसान नहीं होता है। हालांकि, शरीर में बनने वाली एंटीबॉडी की संख्या पर इसका असर पड़ सकता है। साथ ही वे कहते हैं कि अगर वैक्सीन की डबल डोज दी गई है, तो शरीर में वैक्सीन के साधारण साइड इफेक्ट भी ज्यादा देखने को मिल सकते हैं। इनके अलावा किसी गंभीर नुकसान की आशंका नहीं है।

वैक्सीन की दूसरी डोज पर कोई असर नहीं पड़ेगा
वैक्सीन के डबल डोज पर डॉ. चंद्रकांत लहारिया का कहना है कि इसका वैक्सीन की सेकेंड डोज (बूस्टर डोज) की मात्रा और समय पर कोई अंतर नहीं पड़ेगा। इसका मतलब यह है कि जितनी मात्रा में और जिस तारीख को सेकेंड डोज लगाई जानी है, वह तभी लगेगी।

खबरें और भी हैं...