• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • The Shilapatta Fell On The Innocent Of Two Years Who Came To Pay Obeisance At The Dargah, Could Have Been Saved If Help Had Been Given

शिलापट्ट गिरने से बच्चे की मौत:दरगाह पर मत्था टेकने गए दो साल के बच्चे की पत्थर गिरने से मौत; रात भर अस्पतालों में भटकता रहा पिता

वाराणसीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिलापट्ट के पास दोपहर में जाँच को पहुंची पुलिस और स्थानीय लोगो की भीड़  - Dainik Bhaskar
शिलापट्ट के पास दोपहर में जाँच को पहुंची पुलिस और स्थानीय लोगो की भीड़ 
  • पीड़ित पिता ने कहा- रात में अस्पताल पहुंचने में देर हो जाने से हुई मौत
  • फैंटम दस्ता ने भी मदद नही किया, अस्पताल का रास्ता बता चलते बने

कैंट थाना अंतर्गत छावनी इलाके में गुरुवार को पार्क के पास लगा एक पत्थर गिरने से दो साल के बच्चे के मौत हो गई। गाजीपुर में हलवाई का काम करने वाले सुनील कुमार अपने परिवार के साथ पार्क के पास स्थित दरगाह में मत्था टेकने बुधवार रात को पहुंचे थे। गुरुवार रात को सोते समय बच्चे पर अचानक एक पत्थर गिर गया। जिसमें दो साल का आरव घायल हो गया। अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया।

बच्चे को मिल जाती मदद तो शायद जान बच जाती

पिता सुनील कुमार ने बताया पत्नी आरती तीनों बच्चे कृष्णा 4 वर्ष, लाडो 6 वर्ष और 2 वर्ष के आरव के साथ दरगाह पर मत्था टेकने आया था। पार्क के पास लगे पत्थर के पास ही हम लोग सो गये।छावनी परिषद के अस्पताल में बच्चे को लेकर गया था। जहां रात में अस्पताल में बंद होने का बोलकर कबीर चौरा अस्पताल भेज दिया गया। तभी बच्चे की रास्ते में ही मौत हो गयी। मणिकर्णिका घाट पर बच्चे का दाह संस्कार कर दिया।

वृक्षारोपण का शिलापट्ट 2007 में लगा था जो जर्जर हो चुका था

स्थानीय लोगो का कहना था कि फैंटम दस्ता मौके पर आया था। पर वह अपना पल्ला झाड़ कर चला गया। अगर उसी समय बच्चे को अस्पताल ले जाने की व्यवस्था बन जाती तो शायद जान बच जाती।