पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • There Will Be Tree Plantation Of Lord Krishna's Favorite Species In Saubhari Forest, Ambitious Project Of Brij Teerth Development Council

मथुरा में यूपी का सबसे बड़ा पार्क बनाने की तैयारी:वृंदावन में 130 हेक्टेयर में विकसित किया जाएगा सौभरि वन, भगवान कृष्ण की पंसदीदा प्रजातियों के पौधों का किया जाएगा वृक्षारोपण

मथुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सौभरि वन में भगवान श्रीकृष्ण की प्रिय प्रजातियों के 76,875 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा। रखरखाव के लिए कांटेदार तारों से बाड़बंदी की जाएगी। - Dainik Bhaskar
सौभरि वन में भगवान श्रीकृष्ण की प्रिय प्रजातियों के 76,875 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा। रखरखाव के लिए कांटेदार तारों से बाड़बंदी की जाएगी।

मथुरा में वृन्दावन के पास ग्राम सुनरख के पास 130 हेक्टेयर भूमि पर सौभरि वन (नगर वन) मथुरा की विकास परियोजना के संबंध में उत्तर प्रदेश बृज तीर्थ विकास परिषद मथुरा के सभागार में बैठक हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि वृन्दावन के गांव सुनरख के पास 130 हेक्टेयर भूमि पर वन विभाग द्वारा भगवान श्रीकृष्ण की प्रिय प्रजातियों के 76,875 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा। पौधों के रखरखाव के लिए चयनित स्थल पर प्रजाति वार ब्लॉकों की कांटेदार तारों से बाड़बंदी की जाएगी। इसके अलावा चयनित स्थल पर खम्भों पर कांटेदार तार से घेराबंदी करके 4 वाच टावर भी बनाए जाएंगे। जिनका काम मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण कराएगा।

जल्दी ही चयनित स्थल को अतिक्रमण से मुक्त कराने का काम भी शुरू कर दिया जाएगा। बैठक में जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल, मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष नगेन्द्र प्रताप और वन विभाग के जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा ये फैसला लिया गया।

सौभरि वन होगा प्रदेश का सबसे बड़ा पार्क
सौभरि वन वृन्दावन-मथुरा की इस महत्वाकांक्षी परियोजना का काम स्थानीय जिला प्रशासन, उत्तर प्रदेश बृज तीर्थ विकास परिषद, मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण और वन विभाग द्वारा सामूहिक रूप से किया जाएगा। वृन्दावन और मथुरा के विकास के लिए बनाई गई इस परियोजना का पर्यावरणीय, पौराणिक और धार्मिक महत्व भी है। परियोजना से ईको रेस्टोरेशन, स्थानीय पर्यावरण स्थल का विकास होगा। वहीं बंदरों की समस्या से भी निजात मिलेगी। भविष्य में इसी वन में बंदरों के रखने की व्यवस्था की जाएगी । मथुरा-वृन्दावन के पास विकसित होने वाला यह सौभरि वन प्रदेश का सबसे बड़ा पार्क होगा ।

गांव सुनरख के पास 130 हेक्टेयर भूमि पर वन विभाग द्वारा भगवान श्रीकृष्ण की प्रिय प्रजातियों के 76875 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा
गांव सुनरख के पास 130 हेक्टेयर भूमि पर वन विभाग द्वारा भगवान श्रीकृष्ण की प्रिय प्रजातियों के 76875 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा

सौभरि ऋषि की है तपोस्थली
चयनित परियोजना स्थल के एक ओर कोसी ड्रेन और दूसरी ओर यमुना नदी है। बीच का यह स्थल भगवान श्रीकृष्ण की कालीयदह दमन लीला और सौभरि ऋषि की तपोस्थली है। इस कारण चयनित क्षेत्र पौराणिक, धार्मिक और ऐतिहासिक रूप में काफी अहम है। सुनरख में आज भी सौभरि ऋषि का आश्रम है। विष्णु पुराण, देवी भागवत पुराण एवं श्रीमद् भागवत पुराण के नवे स्कन्द के छठे अध्याय में सौभरि ऋषि के विषय में वर्णन भी है ।

खबरें और भी हैं...