उन्नाव में प्रधान पति का खूनी खेल:प्रधानी के चुनाव में सामने उतरे परिवार पर छह राउंड फायरिंग; गोली लगने से किशोर की मौत, 5 घायल

उन्नाव8 महीने पहले
पुलिस इस प्रकरण में केस दर्ज कर आरोपियों की तलाश में जुटी है। मृतक दीपक।- फाइल फोटो
  • उन्नाव पुलिस ने मुख्य आरोपित समेत तीन को पकड़ा
  • अन्य आरोपियों की तलाश में पुलिस की दबिश जारी

पंचायत चुनाव खत्म होते ही उत्तर प्रदेश के गांवों में अब खूनी खेल शुरू हो गया है। ऐसी ही घटना उन्नाव जिले के फतेहपुर चौरासी थाना क्षेत्र में सामने आई है। यहां समसपुर अटिया कबूलपुर गांव के मजरा अटवा में शुक्रवार की देर रात प्रधान के पति ने साथियों के साथ मिलकर विपक्षी के घर धावा बोल दिया और जमकर उत्पात मचाया। इस दौरान फायरिंग भी की गई। जिसमें गोली लगने से एक किशोर की मौत हो गई। पुलिस ने मुख्य आरोपी समेत तीन को गिरफ्तार किया है।

निर्विरोध जीतना चाहता था आरोपित

दरअसल, इस बार हुए पंचायत चुनाव अटवा गांव में प्रधान पद के लिए सामान्य महिला सीट आरक्षित हुई थी। गांव निवासी रणधीर सिंह निर्विरोध निर्वाचित होना चाहता था। लेकिन गांव निवासी मनोज पाल ने अपनी पत्नी मीनू पाल का नामांकन करा दिया। इससे रणधीर के मंसूबों पर पानी फिर गया। जिससे रणधीर खुन्नस में था। 2 मई की मतगणना में परिणाम आने के बाद मनोज पाल को हार मिली और वह अपने घर के कामकाज में लग गए। वहीं खुन्नस खाया रणधीर सिंह अपनी फिराक में था।

आरोपी प्रधान पति रणधीर सिंह।
आरोपी प्रधान पति रणधीर सिंह।

बिजली कटते ही बोला धावा

मनोज पाल ने बताया कि शुक्रवार रात करीब 11 बजे अचानक गांव की बिजली गई और उसी दौरान मौका पाकर रणधीर सिंह 6-7 लोगों के साथ असलहों से लैस होकर घर पर हमला बोल दिया। गाली देने के साथ जान से मार देने की बात कहते हुए फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान रणधीर सिंह की ओर से करीब 5 राउंड चली फायरिंग में मनोज पाल के परिवार की सियादुलारी (62 साल), दीपक पाल (12 साल) पुत्र विमलेश पाल समेत 6 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। जहां उपचार के दौरान दीपक पाल की मौत हो गई। मनोज पाल की ओर से दी गई तहरीर में नामित रणधीर सिंह, अनूप सिंह, मनोज सिंह, सूरज सिंह, नीरज सिंह व अनुराधा सिंह में से पुलिस ने रणधीर सिंह को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

जल्द पकड़े जाएंगे सभी आरोपी

CO डॉ. बीनू सिंह ने बताया कि स्थिति को काबू करने के लिए गांव में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। मुख्य आरोपी रणधीर सिंह और उसके दो साथियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। अन्य फरार अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। जल्द ही सभी आरोपी पकड़ में आ जाएंगे।

खबरें और भी हैं...