पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसानों की यह कैसी फिक्र?:शाहजहांपुर में किसानों के हक में प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों ने पुलिस वालों पर धान की बारिश की, वही अनाज एक गरीब परिवार का निवाला बना

शाहजहांपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह फोटो शाहजहांपुर की है। यहां कांग्रेसियों ने प्रदर्शन के दौरान पुलिसकर्मियों पर धान फेंकना शुरू किया। कुछ देर धान जमीन पर पड़ा रहा। प्रदर्शन खत्म होने के बाद धरना स्थल के पास खड़े परिवार के छोटे-छोटे बच्चे और एक शख्स ने सड़क पर बिखरे धान को बटोर लिया।  - Dainik Bhaskar
यह फोटो शाहजहांपुर की है। यहां कांग्रेसियों ने प्रदर्शन के दौरान पुलिसकर्मियों पर धान फेंकना शुरू किया। कुछ देर धान जमीन पर पड़ा रहा। प्रदर्शन खत्म होने के बाद धरना स्थल के पास खड़े परिवार के छोटे-छोटे बच्चे और एक शख्स ने सड़क पर बिखरे धान को बटोर लिया। 
  • कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोका तो उन लोगों ने पुलिस पर ही धान ही फेंकना शुरू कर दिया
  • कांग्रेस का आरोप- कई दिन इंतजार करने के बावजूद नहीं हो रही धान खरीद, उचित दाम भी नहीं मिल रहा

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में गुरुवार को कांग्रेसी नेताओं व कार्यकर्ताओं ने धान खरीद में गड़बड़ी का आरोप लगाकर योगी सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। टाउन हॉल से नारेबाजी करते हुए कांग्रेसी आगे बढ़े तो रास्ते में पुलिस ने उन्हें बैरिकेडिंग लगाकर रोक दिया। इस दौरान पुलिसकर्मियों से कांग्रेसियों की धक्का-मुक्की भी हुई। खास बात ये है कि कांग्रेसी अपने साथ बोरों में धान की फसल लेकर आए थे, जो उन्होंने पुलिस वालों पर फेंकना शुरू कर दिया। जिससे सड़क पर हर तरफ धान फैल गया। प्रदर्शन शांत हुआ तो वही अनाज गरीब परिवार के लिए निवाला बन गया। पुलिस की मौजूदगी में एक शख्स अपने बच्चों के साथ सड़क पर बिखरे धान को बटोरता नजर आया।

प्रदर्शन करते कांग्रेसी।
प्रदर्शन करते कांग्रेसी।

महिला पुलिसकर्मियों को रोका गया तो बढ़ा हंगामा

टाउन हॉल स्थित पार्टी कार्यालय से चंद कदम की दूरी पर कांग्रेसियों ने धरना प्रदर्शन का आयोजन किया था। उनकी मुख्य एजेंडा धान खरीद में धांधली और लापरवाही के अलावा समर्थन मूल्य न मिलने की थी। नारेबाजी करते हुए कांग्रेस पैदल कलेक्ट्रेट जाने लगे। लेकिन शहीद प्रतिमाओं के पास पुलिस ने उन्हें रोक लिया। महिला कार्यकर्ताओं ने जब जबरन आगे जाने का प्रयास किया तो महिला पुलिसकर्मियों ने उन्हें धक्का देकर पीछे कर दिया। जिससे वहां हंगामा होने लगा।

कांग्रेसियों ने प्रदर्शन के दौरान पुलिसकर्मियों पर धान फेंकना शुरू किया। कुछ देर धान जमीन पर पड़ा रहा। प्रदर्शन खत्म होने के बाद धरना स्थल के पास खड़े परिवार के छोटे-छोटे बच्चे और एक शख्स ने सड़क पर बिखरे धान को बटोर लिया। जबकि किसानों-गरीबों के हक में आवाज बुलंद करने आए कांग्रेसी चले गए। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि, क्या वाकई कांग्रेस पार्टी को गरीब किसानों की फिक्र है? इन तस्वीरों से सरकार भी कटघरे में खड़ी है। अगर वाकई किसान खुशहाल होता, तो शायद इस तरह से जमीन पर पड़े धान को बीनता नहीं ।

बच्चों ने सड़क पर बिखरे धान को बटोरा।
बच्चों ने सड़क पर बिखरे धान को बटोरा।

पूर्व मंत्री जितिन प्रसाद ने योगी सरकार पर साधा निशाना

प्रदर्शन के बाद पूर्व मंत्री जितिन प्रसाद मौके पर पहुंचे। उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, मंडियों में किसान द्वारा लाए जा रहे धान की तौलाई नहीं की जा रही है। कई दिन इंतजार करने के बाद खरीद होती भी है तो औने पौने दामों पर खरीदकर किसानों का शोषण किया जा रहा है। किसानों के शोषण के विरोध में कांग्रेस ने आज धरना प्रदर्शन किया था। कांग्रेसियों की पुलिस के साथ जमकर धक्का-मुक्की भी हुई थी। लेकिन जब एडीएम ने धक्का-मुक्की होने से इंकार कर दिया।

खबरें और भी हैं...