पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पत्नी ने खोली पोल, इंस्पेक्टर का डिमोशन:प्रमोशन पाने के लिए दरोगा ने दुष्कर्म, धोखाधड़ी जैसे संगीन 14 मामले छिपाए, पत्नी ने DGP के सामने रखा RTI का सच

वाराणसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में तैनात इंस्पेक्टर अमित कुमार दुष्कर्म, धमकाने, धोखाधड़ी जैसे 14 संगीन मामलों का आरोप निकला है। उसकी यह पोल पत्नी ने खोली है। पत्नी खुद भी इंस्पेक्टर से प्रताड़ित है। इसलिए वह अलग मेरठ में रहती हैं। उनका आरोप है कि अमित कुमार ने प्रमोशन के समय अपने खिलाफ दर्ज मामलों को छिपाया। पत्नी ने जनसूचना अधिकार के तहत पूरी जानकारी जुटाने के बाद इसकी शिकायत यूपी DGP से की। जिसके बाद इंस्पेक्टर का डिमोशन कर दिया गया।

इंस्पेक्टर से सब इंस्पेक्टर हुए अमित कुमार वाराणसी क्राइम ब्रांच में तैनात रहे हैं। यहां उन्होंने दुष्कर्म का केस दर्ज होने के बाद SSP कार्यालय पर खुद पर पेट्रोल डालकर खुदकुशी करने का प्रयास किया था। इसके बाद उनका ट्रांसफर जौनपुर कर दिया गया था।

पत्नी ने DGP को अमित की सच्चाई बताकर की थी शिकायत

अमित कुमार मेरठ निवासी हैं। इससे पहले वह मेरठ और बुलन्दशहर में विवादों में रह चुके हैं। उनकी पत्नी मीनाक्षी भी पुलिस में हेड कांस्टेबल हैं। पत्नी भी अमित पर मारपीट व उत्पीड़न का आरोप लगाते एसएसपी मेरठ से शिकायत कर चुकी हैं। मेरठ के सिविल लाइन थाना के मानसरोवर क्षेत्र में रहने वाली मीनाक्षी ने 'दैनिक भास्कर' को बताया कि उन्होंने 26 जून 2018 को उत्तर प्रदेश के DGP से शिकायत की थी कि अमित कुमार जालसाजी कर सब इंस्पेक्टर से इंस्पेक्टर बना है। घोषणा पत्र में उसने अपने खिलाफ दर्ज मामलों और जारी जांचों का विवरण छुपाया है। उनकी शिकायत के आधार पर पुलिस मुख्यालय से जांच कराई गई तो आरोप सही निकले।

वर्ष 2018 में इटावा जिले से ही पदोन्नति होने के कारण अमित कुमार के खिलाफ जालसाजी के आरोप में इटावा के सिविल लाइन थाने में मुकदमा भी दर्ज किया गया है। साथ ही उसे कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है कि क्यों न पुलिस सेवा से बर्खास्त कर दिया जाए। मीनाक्षी ने बताया कि मेरठ के पल्लवपुरम निवासी अमित के खिलाफ 14 केस दर्ज हैं।

पीड़िता को धमकाने के कारण जौनपुर हुआ था तबादला

मथुरा जिले की एक युवती ने 8 जनवरी 2020 को अमित कुमार पर वाराणसी के मिला थाने में दुष्कर्म समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कराया था। तब अमित कुमार की तैनाती वाराणसी में क्राइम ब्रांच में थी। पीड़िता ने फिर SSP से शिकायत की थी कि इंस्पेक्टर अमित उसे समझौते के लिए आए दिन धमकाता है। बात न मानने पर सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की धमकी देता है। इसे लेकर तत्कालीन SSP अमित पाठक के आदेश पर इंस्पेक्टर अमित कुमार के खिलाफ कैंट थाने में एक और केस दर्ज किया गया था। इससे गुस्साए अमित कुमार खुद पर पेट्रोल छिड़ककर SSP कैंप ऑफिस जाकर आत्मदाह की धमकी लेने लगा था। सूचना पाकर पुलिस उसे पकड़ कर कैंट थाने ले गई थी और फिर उसकी काउंसिलिंग की गई थी। इसके बाद IG रेंज वाराणसी के आदेश से अमित कुमार का तबादला जौनपुर जिले के लिए कर दिया गया था।

खबरें और भी हैं...