• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Uttar Pradesh Big Breaking News Updates। 07 May 2022 Today Live News Updates Agra Lucknow Kanpur Varanasi Prayagraj Meerut

यूपी की बड़ी खबरें:कासगंज में बारातियों से भरी बस ने ऑटो में जोरदार टक्कर, हादसे में 2 की मौत

उत्तर प्रदेश2 महीने पहले
कासगंज में बरातियों से भरी बस और ऑटो में जोरदार भिड़ंत, हादसे में 2 की मौत। - Dainik Bhaskar
कासगंज में बरातियों से भरी बस और ऑटो में जोरदार भिड़ंत, हादसे में 2 की मौत।

कासगंज में बारातियों से भरी बस और ऑटो की आमने- सामने भिड़ंत हो गई। इस हादसे में दो लोगों की मौके पर मौत हो गई। राहगीरों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

सहावर गंजडुंडवारा मार्ग पर ग्राम कनोई पेट्रोल पंप के पास प्राइवेट बस यूपी 80 टी 7451 और ऑटो यूपी 82 टी 81 83 में आमने-सामने की टक्कर हो गई। जिसमें ऑटो चालक नरोत्तम पुत्र रामनरेश निवासी करनपुर थाना पटियाली और जोगिंदर सिंह पुत्र मोतीलाल निवासी ग्राम खरगी थाना मिरहची जिला एटा की मौके पर ही मौत हो गई।

दोनों मृतकों के पास से मिले मोबाइल से परिवार को सूचना दी गई। एसओ राजकुमार सिंह ने बताया शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए कासगंज भेजा जा रहा है। जबकि बस व ऑटो को पुलिस ने अपने कब्जे में लिया है।

  • प्रदेश की अन्य बड़ी खबरें

पूर्व मंत्री हाजी याकूब कुरैशी को हाईकोर्ट से झटका, गिरफ्तारी पर रोक की मांग वाली याचिका खारिज

पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी को शनिवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट से झटका लगा है। कोर्ट ने याकूब की याचिका को खारिज कर दिया है।
पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी को शनिवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट से झटका लगा है। कोर्ट ने याकूब की याचिका को खारिज कर दिया है।

पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी को शनिवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट से झटका लगा है। कोर्ट ने याकूब की याचिका को खारिज कर दिया है। वहीं, पुलिस ने याकूब व उसकी पत्नी और दोनों बेटों की गिरफ्तारी के प्रयास तेज कर दिए हैं।

एक ही याचिका में परिवार के कई सदस्यों की अर्जी थी। हाईकोर्ट ने किसी को भी राहत देने से इनकार कर दिया। याकूब की तरफ से मेरठ में दर्ज एफआईआर रद्द करने व गिरफ्तारी पर रोक के लिए कोर्ट में याचिका डाली थी। अब याकूब और उसके परिवार पर गिरफ्तारी की तलवार लटक गई है। 31 मार्च को मेरठ पुलिस ने याकूब के अवैध मीट प्लांट में 5 करोड़ रुपए का मांस पकड़ा था। फोरेंसिक लैब से रिपोर्ट में मांस खराब पाया गया था।

याकूब के अवैध मीट प्लांट का होना है ध्वस्तीकरण

याकूब कुरैशी इस समय पूरे परिवार के साथ फरार है। जिसके अवैध मीट प्लांट को ढहाने की तैयारी चल रही है। वहीं अस्पताल को सील कर दिया गया है। पूर्व मंत्री हाजी याकूब कुरैशी, पूर्व मंत्री की पत्नी संजीदा, पूर्व मंत्री के बेटे हाजी इमरान और हाजी फिरोज व दस अन्य के खिलाफ धारा 269,270,272,275, 120 बी 420 के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है। याकूब और पूरे परिवार के खिलाफ पुलिस गैर जमानती वारंट ले चुकी है। वहीं एमडीए अवैध मीट प्लांट पर नोटिस लगा चुका है। 31 मार्च को ही यह एफआईआर खरखौदा थाने में दर्ज की गई।

उन्नाव में अवैध निर्माण हटाने पहुंचे अधिकारियों को विधायक ने फटकारा

विधायक अनिल सिंह ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को खूब खरी खोटी सुनाई। उन्होंने कहा कि कस्बे में सीवर टैंक बने हैं, किसी का नहीं ढहाया गया।
विधायक अनिल सिंह ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को खूब खरी खोटी सुनाई। उन्होंने कहा कि कस्बे में सीवर टैंक बने हैं, किसी का नहीं ढहाया गया।

उन्नाव के मौरावां में सड़क किनारे बनाए जा रहे सीवर टैंक को ढहाने पहुंचे लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को विधायक की नाराजगी का सामना करना पड़ा। विधायक ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया। विधायक की नाराजगी और बढ़ते हंगामे को देखते हुए अतिक्रमण हटाने गई टीम को वापस लौटना पड़ा।

मामला उन्नाव के मौरावां कस्बे का है। यहां पर भगवती गुप्ता उर्फ बच्चन सेठ अपने घर के सामने सीवर टैंक बनवा रहे थे। शनिवार को इस निर्माण को ढहाने के लिए लोक निर्माण विभाग के अधिकारी पहुंच गए। जैसे ही टीम सीवर टैंक को ढहाने लगी तो भगवती गुप्ता ने क्षेत्रीय विधायक अनिल सिंह को इस मामले की जानकारी दी। इस मामले की जानकारी होते ही विधायक भी आनन-फानन में मौके पर पहुंच गए। इस दौरान विधायक अनिल सिंह ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को खूब खरी खोटी सुनाई। उन्होंने कहा कि कस्बे में सीवर टैंक बने हैं, किसी का नहीं ढहाया गया, लेकिन इनका टैंक ढहाने पहुंच गए। विधायक के हंगामे के कारण मौके पर सैकड़ों लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। विधायक अनिल सिंह जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। विधायक ने कहा कि रुपए न मिलने के कारण लोक निर्माण विभाग के अधिकारी निर्माण ढहाने पहुंचते हैं। जिसका रुपया इनको मिलता है उनकी बिल्डिंग खड़ी कराते हैं। तुरंत फर्जी आदेश बना देते हैं। यह भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता है। आज इसी के सेफ्टी टैंक को अधिकारी गिराने पहुंच गए। समाजवादी पार्टी के नेताओं के साथ मिलकर अधिकारी इस निर्माण ढहाना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ''भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है। सरकार की छवि खराब नहीं होने दी जाएगी। मेरे रहते हुए किसी के साथ अन्याय नहीं होगा। अगर यह निर्माण गिरेगा तो सबका निर्माण गिराइए, यहां से वहां तक। गरीब का निर्माण नहीं गिरने दूंगा चाहे जो हो जाए। यहां से बसहा चौराहे पर पूरा कॉम्प्लेक्स बना है चकरोड की जमीन पर, नापजोख भी हो गई, लेकिन सरकारी अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं, सिर्फ कागजी कार्रवाई करते रहे।''

विधायक ने कहा कि दूसरा एक हॉस्पिटल सील हो चुका है। उसको गिराने की नोटिस भी है, लेकिन उसको गिराने के लिए अधिकारी नहीं गए। क्योंकि वहां पर रुपया मिल चुका है। मुझे मारते और पीटते हुए भले ही थाने ले चलें, तभी यह निर्माण गिर सकता है। वरना मेरे रहते इसको गिरने नहीं दिया जाएगा।'' इस मामले में जब लोक निर्माण विभाग के अवर अभियंता से वार्ता करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया।

बस्ती में ट्रैक्टर की चपेट में आने से 2 साल की बच्ची की मौत, खेलते-खेलते ट्रैक्टर के नीचे आ गई

बस्ती में ट्रैक्टर की चपेट में आने से एक मासूम की मौत।
बस्ती में ट्रैक्टर की चपेट में आने से एक मासूम की मौत।

बस्ती में घर के ही ट्रैक्टर की चपेट में आने से एक मासूम की मौत हो गई है। जिस घर में बच्ची की किलकारी गूंजा करती थी, वहां आज मातम पसर गया है। मामला हरैया तहसील के गांव काकुआं रावत की है। यहां के निवासी पवन कुमार विश्वकर्मा की 2 वर्षीय मासूम बेटी सिद्धि घर के बाहर खेल रही थी। तभी वहां उनका छोटा भाई (बच्ची का चाचा) घर में खड़े ट्रैक्टर को कहीं बाहर ले जाने के लिए स्टार्ट किया। इसके बाद ही ट्रैक्टर स्टार्ट होने पर बच्ची का बालकपन उसकी तरफ आकर्षित हो गया। ट्रैक्टर पर खेलने की लालसा में सिद्धि उधर दौड़ी।

मगर उसके चाचा ने उसे उठाकर घर में कर आया और ऐसा एक बार नहीं बल्कि दो बार हुआ कि सिद्धि को उसके चाचा ने घर में छोड़ा ताकि वह किसी भी खतरे से दूर रहे। इसके बाद चाचा ने ट्रैक्टर निकालने के लिए बैक किया तो तीसरी बार घर से बाहर निकली सिद्धि ट्रैक्टर की चपेट में आ गई। आनन-फानन में बच्ची को इलाज के लिए पहले सामुदायिक फिर जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां बच्ची की हालत गंभीर देख चिकित्सक ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज लखनऊ के लिए रेफर कर दिया। जहां उसकी मौत हो गई। प्रभारी निरीक्षक कप्तानगंज शशांक शेखर राय ने बताया कि मामले की जानकारी पुलिस को नहीं है। परिजनों द्वारा कोई तहरीर नहीं दी गई है। यदि कोई शिकायत पत्र मिलता है तो उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

सहारनपुर की पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग; फैक्ट्री मालिक समेत 4 की मौत, 5 किमी दूर तक सुने गए धमाके

अंबाला रोड पर एक पटाखा फैक्ट्री में शनिवार शाम बड़ा हादसा हो गया। जिसमें 4 लोगों की मौत हो गई।
अंबाला रोड पर एक पटाखा फैक्ट्री में शनिवार शाम बड़ा हादसा हो गया। जिसमें 4 लोगों की मौत हो गई।

अंबाला रोड पर एक पटाखा फैक्ट्री में शनिवार शाम बड़ा हादसा हो गया। जिसमें 4 लोगों की मौत हो गई। हादसे में फैक्ट्री मालिक राहुल की भी मौत हो गई। जबकि 6 से अधिक कर्मचारी घायल बताए जा रहे हैं। उनका इलाज सहारनपुर के जिला अस्पताल में कराया जा रहा है। आग को तीन घंटे की मशक्कत के बाद बुझाया जा सका। 5 किमी दूर से भी धमाके सुने गए। धमाकों की वजह से शवों के हिस्से 500 मीटर दूर तक बिखरे मिले।

ये फैक्ट्री अंबाला रोड पर सरसावा और सुराणा के बीच स्थित है। ये फैक्ट्री खेत में बनी हुई थी। शनिवार को रोजाना की तरह लोग यहां काम कर रहे थे। अचानक फैक्ट्री के एक कोने में आग लग गई। इससे पहले कि मजदूर उसको बुझा पाते। आग बारुद तक पहुंच गई। तेज धमाकों के साथ आग तेजी से फैल गई। जिससे मजदूरों को बाहर निकलने का मौका तक नहीं मिला। अग्निशमन विभाग की तरफ से बचाव दल तो मौके पर पहुंच गया। लेकिन आग इतनी भीषण थी कि रेस्क्यू ठीक से नहीं हो सका। आग बुझने के बाद मलबे में शवों को देर शाम तक ढुंढा जाता रहा।

जांच के बाद सामने आएंगे आग लगने के कारण
आग लगने के सटीक कारण जांच के बाद अग्निशमन विभाग ही बता पाएगा। इसलिए सभी पहलुओं की जांच हो रही है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के मुताबिक मरने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है। नुकसान का भी आकलन किया जा रहा है। पटाखा फैक्ट्री का लाइसेंस जारी किया गया था।

डीएम अखिलेश सिंह ने सीएमओ से बात की। ताकि घायलों को बेहतर इलाज मिल सके। कुछ घायलों को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। गंभीर हालत वाले कर्मचारियों को हायर सेंटर रेफर किया जा रहा है।

कानपुर में अतिक्रमण हटाने गई KDA टीम पर पथराव, बुलडोजर लेकर भागे अधिकारी

कानपुर में तकरीबन करीब 50 साल से अपने मकानों पर काबिज लोगों के आशियाने पर शनिवार को कानपुर विकास प्राधिकार का बुलडोजर चला।
कानपुर में तकरीबन करीब 50 साल से अपने मकानों पर काबिज लोगों के आशियाने पर शनिवार को कानपुर विकास प्राधिकार का बुलडोजर चला।

कानपुर में तकरीबन करीब 50 साल से अपने मकानों पर काबिज लोगों के आशियाने पर शनिवार को कानपुर विकास प्राधिकार का बुलडोजर चला। केडीए अफसरों ने अतिक्रमण गिराने की कार्रवाई की। जिसके विरोध में इलाके के लोग आ गए और जमकर पथराव किया। इस दौरान केडीए के बुलडोजर को भी निशाना बनाया। इससे वहां भगदड़ मच गई। सूचना पर कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंची और किसी तरह आक्रोशित भीड़ को शांत कराया।

यह था मामला

दरअसल, लाल बंगला में आज दोपहर केडीए की टीम दल-बल के साथ पहुंची। पहले तो अफसरों ने वहां के लोगों से खुद ही अपना अतिक्रमण हटाने की गुजारिश की। इसके बाद बुलडोजर से अवैध अतिक्रमण गिराने लगे। यह देख वहां भगदड़ मच गई। इलाके के लोगों ने नारेबाजी करते हुए केडीए टीम पर पथराव कर दिया। इस कारण अफसरों व कर्मियों को बैकफुट पर आना पड़ा।

रजिस्ट्री के बावजूद गिरा दी दुकानें स्थानीय लोगों का कहना है कि वह लोग करीब 50 सालों से यहां काबिज है। उनके पास रजिस्ट्री भी है। इसके बावजूद केडीए ने बिना किसी सूचना के कार्रवाई की और दो दुकानें गिरा दी। लोगों का कहना था कि उन्हें ये भी नहीं बताया गया कि अतिक्रमण कहां हुआ है। बवाल की सूचना मिलने पर कैंट सर्कल की फोर्स वहां पहुंची और आक्रोशित लोगों को समझा कर शांत कराया।

पहले भी हो चुके हैं हमले

यह कोई पहला मौका नहीं है कि अवैध अतिक्रमण हटाने गई टीम पर हमला किया गया हो। इसके पहले भी शहर के कई इलाकों में केडीए व नगर निगम टीमों को विरोध का सामना झेलना पड़ा है। हाल ही में जीटी रोड पर कल्याणपुर में झुग्गी-झोपड़ी हटाने गई नगर निगम टीम को लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा था। इसके अलावा, जूही, नौबस्ता, बजरिया सहित अन्य थानाक्षेत्रों में भी ऐसी घटनाएं हो चुकी हैं।

झांसी में साइकिल गोदाम में लगी भीषण आग, लोहा तक पिघला, 12 लाख का नुकसान होने की आशंका

झांसी में शनिवार सुबह साइकिल के गोदाम में भीषण आग लग गई। कुछ ही देर में आग फैलकर 4 दुकानों तक पहुंच गई।
झांसी में शनिवार सुबह साइकिल के गोदाम में भीषण आग लग गई। कुछ ही देर में आग फैलकर 4 दुकानों तक पहुंच गई।

झांसी में शनिवार सुबह साइकिल के गोदाम में भीषण आग लग गई। कुछ ही देर में आग फैलकर 4 दुकानों तक पहुंच गई। सूचना पर फायर बिग्रेड की गाड़ियां मौके पर पहुंच गई और करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।

आग से सबसे ज्यादा साइकिल गोदाम मालिक को नुकसान हुआ है। आग इतनी भीषण थी कि साइकिलों का लोहा तक पिघल गया। मालिक ने करीब 12 लाख रुपए का नुकसान होने की आशंका जताई है।

बड़ा बाजार में ताले वाले मंच के पीछे जूस वाली गली में विजय साइकिल स्टोर के नाम से दुकान है। मालिक विजय बहादुर सिंह ने बताया कि शुक्रवार रात को वह दुकान बंद करके घर गए थे। सुबह करीब सात बजे लोगों ने फोन कर दुकान में आग लगने की जानकारी दी। जब तक वह मौके पर पहुंचे तो आग 4 दुकानों में फैल चुकी थी। इसके बाद फायर बिग्रेड को सूचना दी गई। आग से उनको करीब 12 लाख रुपए का नुकसान हुआ है।

दुकानदार का कहना है कि एक दिन पहले उनका एक दुकानदार के साथ झगड़ा हुआ था। उनको आशंका है कि दुकानदार ने ही आग लगाई है। चारों दुकानदारों को नुकसान हुआ है। पुलिस और फायर बिग्रेड के अफसरों ने आग लगने के कारणों की जांच शुरू कर दी है।

झांसी में शादी के दो महीने बाद फंदे पर लटकी मिली नवविवाहिता, 3 दिन पहले पिता को बुलाया था

झांसी में महिला की शादी के 2 महीने बाद ही फांसी पर लटकी मिली लाश। ससुरालीजनों पर दहेज मांगने का आरोप।
झांसी में महिला की शादी के 2 महीने बाद ही फांसी पर लटकी मिली लाश। ससुरालीजनों पर दहेज मांगने का आरोप।

झांसी में शादी के करीब दो महीने बाद ही नवविवाहिता संदिग्ध हालत में फंदे पर लटकी मिली है। पिता का आरोप है कि पति और ससुर नशा करके बेटी के साथ मारपीट करते थे और दहेज की मांग कर रहे थे। बेटी के बुलाने पर पिता उसे लेने ससुराल भी गए थे। लेकिन वहां गाली-गलौच कर समधी ने भेजने से मना कर दिया। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। दोपहर बाद पोस्टमार्टम होगा।

खिसनी खुर्द निवासी रमेश कुशवाहा ने बताया कि 27 फरवरी को बरुआसागर में हुए सामूहिक विवाह सम्मेलन में उसने अपनी बेटी जामवती की शादी जरबो निवासी भानकुमार से की थी। शादी के बाद से ससुराल वाले बेटी को परेशान कर रहे थे। दहेज में एक से डेढ़ लाख रुपए की मांग कर रहे थे। लेकिन वह गरीब था, इसलिए मांग पूरी नहीं कर पाया।

रमेश कुशवाहा का आरोप है कि मारपीट करने पर वह बेटी को मायके ले आए थे। करीब 15 दिन पहले ही ससुराल वाले जामवती को लेने आए तो उनके साथ भेज दिया। इसके बाद पति और ससुर नशा करके बेटी को मारपीट कर परेशान करते थे। जिसपर बेटी ने फोन कर ले जाने के लिए कहा।

पिता ने दो दिन बाद आने के लिए बोल दिया। पिता ने कहा कि शुक्रवार को दामाद बेटी को लेकर आने वाला था। आशंका है कि फिर ससुराल वालों से झगड़ा हो गया। ससुराल वालों ने हत्या कर बेटी को फंदे पर लटका दिया। जिसके बाद दामाद ने रमेश को फोन कर कहा कि तुम्हारी बेटी ने फांसी लगा ली। जब मायके वाले ससुराल पहुंचे तो बेटी तौलिया के फंदे पर लटकी थी।

मेरठ में ट्रक ने बाइक सवार दंपती को मारी टक्कर, हादसे में गर्भवती महिला की मौत

मेरठ में सड़क हादसे में चार महीने की गर्भवती महिला(किरन) की ट्रक से कुचलने से मौत हो गई।
मेरठ में सड़क हादसे में चार महीने की गर्भवती महिला(किरन) की ट्रक से कुचलने से मौत हो गई।

मेरठ करनाल हाईवे पर शानिवार सुबह तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार दंपती को कुचल दिया। गर्भवती महिला की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं महिला का पति गंभीर रूप से घायल हो गया। यह हादसा कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र में ड्रीम सिटी कॉलोनी के पास हुआ। घायल खून से तड़पते रहे और भीड़ दस मिनट तक तमाशबीन बनी रही। महिला के शव को देखकर लोगों की रूह तक कांप गई। महिला की दो साल पहले ही शादी हुई थी। गर्भवती महिला मेरठ में दवाई लेने आ रही थी, जहां उसे मौत मिली।

मेरठ के सरधना थाना क्षेत्र के ईकड़ी गांव निवासी किरन (26 साल) की शादी 2 साल पहले मुजफ्फरनगर के बावलो निवासी नितिन पुत्र दीपचंद के साथ हुई थी। शनिवार सुबह महिला अपने पति के नितिन के साथ अपने मायके से मेरठ के कंकरखेड़ा में दवाई लेने आ रही थी। जैसे ही वह ड्रीम सिटी के पास पहुंचे तभी पीछे से आ रहे तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक को चपेट में ले लिया। ट्रक की स्पीड इतनी तेज थी की दंपती बाइक से गिर गए। करीब 20 मीटर तक महिला घिसटती रही। बाद में ट्रक के पहिये ने महिला को कुचल दिया। वहीं नितिन का एक हाथ भी कुचला गया।

घटना के बाद आरोपी चालक ट्रक छोड़कर भाग निकला। सूचना पर कंकरखेड़ा पु़लिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। कंकरखेड़ा पुलिस ने ट्रक को कब्जे में ले लिया है। महिला चार माह की गर्भवती बताई गई। पूरी खबर यहां पढ़ें...

लखनऊ में युवक की सिर कटी लाश मिली, पिंक शर्ट और ब्लू जींस पहने था, शिनाख्त नहीं हुई

लखनऊ के गुंडबा थाना क्षेत्र में शनिवार सुबह एक युवक की सिर कटी लाश मिली है। उसकी उम्र 30-35 साल के बीच है। शव जाहिरापुर मोहल्ले में एक खाली प्लाट में मिला है। पिंक शर्ट और ब्लू जींस पहने हुए था। पुलिस ने बताया कि स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना दी। शव की शिनाख्त नहीं हो सकी है।

एडीसीपी प्राची सिंह ने बताया कि लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। जिस प्लाट में शव मिला। उसमें घास उगी हुई थी। इस कारण शव किसी को दिखाई नहीं दिया। शव कब और किसने फेंका। इस बारे में आसपास के लोगों को भी कुछ पता नहीं है।

लाश की तलाशी ली तो उसकी पहचान से जुड़ा कोई कागज नहीं मिला है। पुलिस आसपास के सीसीटीवी चेक कर रही है। दूसरे थानों को भी लाश मिलने की सूचना दी गई है।

गाजियाबाद में छेड़छाड़ का विरोध करने पर युवती के भाई को चाकुओं से गोदा

डासना में बहनों से छेड़खानी का विरोध करने पर उसके भाई को चाकुओं से गोद डाला।
डासना में बहनों से छेड़खानी का विरोध करने पर उसके भाई को चाकुओं से गोद डाला।

गाजियाबाद के डासना में शुक्रवार देर रात बहन से छेड़छाड़ का विरोध करने पर एक युवक को चाकुओं से गोद दिया गया। गंभीर हालत में उसको MMG हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। तीन युवकों पर चाकू मारने का आरोप है। डासना के मोहल्ला कुरैशियान की रहने वाली दो बहनें शॉपिंग करने के लिए गाजियाबाद गई थीं।

आरोप है कि इसी मोहल्ले के कुछ युवकों ने उनका डासना से गाजियाबाद तक पीछा किया। फिर छेड़छाड़ की। दोनों बहनों ने घर पर आकर परिजनों को पूरी बात बताई। लड़कियों के पिता ने आरोपियों के घर पहुंचकर शिकायत की। वहां आरोपियों ने उनसे अभद्रता कर दी। इसके बाद दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए। बताया जा रहा है कि लड़कियों के भाई को तीन लोगों ने कई जगह चाकू मार दिए। वह लहूलुहान होकर गिर पड़ा। वारदात करके आरोपी फरार हो गए। पीड़िता के दूसरे भाई ने जुनैद, उवैस और समीर पर चाकू मारने का आरोप लगाया है। पूरी खबर यहां पढ़ें...

भारत को आज मिलेगी देश की पहली रीजनल रैपिड रेल

दिल्ली से मेरठ तक 82 किलोमीटर लंबे रूट पर रैपिड रेल चलेगी।
दिल्ली से मेरठ तक 82 किलोमीटर लंबे रूट पर रैपिड रेल चलेगी।

भारत की पहली रीजनल रैपिड रेल का पहला ट्रेन सेट शनिवार को राष्ट्रीय राजधानी परिवहन क्षेत्र (NCRTC) को मिल जाएगा। गुजरात के सांवली स्थित प्लांट में दोपहर साढ़े तीन बजे आयोजित कार्यक्रम में पहली ट्रेन की चाबी भारत सरकार के अधिकारियों को सौंपी जाएगी। इस ट्रेन में कुल छह कोच हैं। इस तरह के कुल 210 कोच NCRTC को मिलने हैं।

सांवली प्लांट से ये छह कोच अलग-अलग ट्रेलर पर रखकर उत्तर प्रदेश के जिला गाजियाबाद स्थित दुहाई में लाए जाएंगे, जहां पर रैपिड रेल का डिपो बनाया गया है। उम्मीद है कि पहला ट्रेन सेट 15 मई के आसपास तक दुहाई डिपो में पहुंच जाएगा। ट्रायल का शुभारंभ करने के लिए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं यहां आ सकते हैं।

बता दें कि दिल्ली से मेरठ तक 82 किलोमीटर लंबे रूट पर चलने वाली रीजनल रैपिड रेल का कार्य जोरों पर चल रहा है। इस पूरे रूट पर कुल 3 डिपो समेत 24 स्टेशन बनने हैं। पहले चरण में गाजियाबाद के साहिबाबाद से दुहाई के बीच रैपिड रेल चलाने की योजना है। इसके लिए ट्रायल इसी साल होगा और इस ट्रैक पर साल-2023 में रैपिड रेल दौड़ा दी जाएगी। रैपिड रेल की तस्वीरें यहां देखें...