पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भाजपा विधायक की CM योगी को चिट्‌ठी:लोग कोरोना से मर रहे हैं, हम कुछ नहीं कर पा रहे; अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन सप्लाई नहीं

लखीमपुर खीरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यूपी में कोरोना कितना भयावह होता जा रहा है उसके हालात भाजपा के ही एक विधायक की चिट्‌ठी से समझा जा सकता है।  - Dainik Bhaskar
यूपी में कोरोना कितना भयावह होता जा रहा है उसके हालात भाजपा के ही एक विधायक की चिट्‌ठी से समझा जा सकता है। 

उत्तर प्रदेश में भले ही सरकार स्वास्थ्य सेवाओं के बेहतर होने का दावा कर रही हो। लेकिन अब जमीनी हकीकत सिर्फ जनता ही नहीं जनप्रतिनिधि भी बयां करने लगे हैं। शुक्रवार को लखीमपुर खीरी जिले में मोहम्मदी सीट से विधायक लोकेंद्र सिंह और कानपुर के सांसद सत्यदेव पचौरी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है। इसमें UP में कोरोना कितना भयावह होता जा रहा है उसके हालात इस चिट्‌ठी से समझे जा सकते हैं।

बता दें कि इससे पहले अब तक एक सांसद और चार विधायकों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अस्पतालों में बदहाली के बाबत चिट्ठी लिखी है। लेकिन हालात जस के तस हैं। सरकार अपने दावे पर कायम है कि न तो ऑक्सीजन की कमी है न ही बेड की।

आप भी पढ़िए बदहाली पर विधायक का पत्र... जैसा पत्र में, वैसे ही लिखा गया

विधायक लोकेंद्र सिंह ने लिखा, 'लखीमपुर जनपद कोरोना के प्रकोप से भयंकर रूप से पीड़ित है। निरंतर कोरोना पीड़ितों में वृद्धि हो रही है, कोरोना थमने का नाम नहीं ले रहा है। हम लोग असहाय होकर अपने लोगों को मरते हुए देख रहे हैं। किसी को बचा नहीं पा रहे हैं, तमाम समाजसेवी पत्रकार, नेता, शिक्षक, सरकारी कर्मचारी, अधिवक्ता सहित तमाम लोग कालकल्वित हो गए हैं। ऐसा कोई गांव नहीं हैं, जो कोरोना की चपेट में न हो।'

'लखीमपुर जनपद में आक्सीजन की अत्यधिक कमी है और आक्सीजन की कमी से ही लोग अत्यधिक मर रहे हैं। तहसील स्तर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी आक्सीजन नहीं है, जिस वजह से ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत सारे लोग मरते चले जा रहे हैं। सभी विधायकों द्वारा विधायक निधि से अपनी-अपनी विधानसभा क्षेत्र में 10-10 कंसन्ट्रेंटर की मांग की गई है। वह भी उपलब्ध नहीं हो पाई है। सरकार के द्वारा इस महामारी से निपटने के क्रम में तेजी से प्रयास किए जा रहे हैं। लखीमपुर का जिला प्रशासन भी बड़ी मेहनत से लगा हुआ है, परंतु आक्सीजन की उपलब्धता न होने के कारण विवश हो जाता है।'

विधायक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लखीमपुर जनपद में पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन उपलब्ध कराने की मांग की है। उन्होंने चिट्ठी की कॉपी लखीमपुर के जिलाधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी को भी भेजी है। इस पत्र पर विधायक से बात करने की कोशिश की गई तो उनका फोन स्विच ऑफ जाता रहा।

अब तक 6 विधायक जान गंवा चुके, इनमें 2 मंत्री भी शामिल

कोरोना के चलते प्रदेश में अब तक 6 विधायकों की मौत हो चुकी है। इनमें 2 मंत्री भी शामिल हैं। शुक्रवार को रायबरेली के भाजपा विधायक दल बहादुर कोरी का निधन हो गया। कुछ दिनों पहले ही बरेली से विधायक केसर सिंह की मौत हुई थी। इसके पहले औरैया सदर से BJP विधायक रमेश दिवाकर, लखनऊ पश्चिम विधानसभा क्षेत्र से BJP विधायक सुरेश श्रीवास्तव, योगी कैबिनेट में कैबिनेट मंत्री कमल रानी वरुण, क्रिकेटर से नेता बने नागरिक सुरक्षा मंत्री चेतन चौहान जैसे बड़े नाम भी जान गंवा चुके हैं।

उधर... कानपुर सांसद ने लिखा लेटर, तीसरी लहर को लेकर जाहिर की चिंता

कानपुर से सांसद सत्यदेव पचौरी ने डिप्टी CM केशव प्रसाद मौर्या को पत्र लिखकर कहा कि कानपुर में कोरोना से तमाम लोगों की मौत हो रही है। उनमें से अधिकांश ऐसे मामले हैं, जिन्हें समय पर इलाज नहीं मिल पाया। ऐसे लोगों की मौत अस्पताल के बाहर या एंबुलेंस में अथवा अपने घरों में हो गई है। देश-विदेश के अनेक विशेषज्ञों द्वारा यह भी अनुमान लगाया जा रहा है कि भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर भी आ सकती है, जो ज्यादा घातक साबित होगी।

ऐसी स्थिति में प्रभारी मंत्री होने के नाते किस प्रकार कानपुर में स्वास्थ्य व्यवस्था, मेडिकल स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ,ऑक्सीजन व दवाओं की उपलब्धता एवं वैक्सीनेशन की सुचारू व्यवस्था बनाई जाए। जिससे तीसरी लहर से जनता को फिर वर्तमान कठिनाईयों का सामना न करना पड़े।

सांसद सत्यदेव पचौरी का लेटर।
सांसद सत्यदेव पचौरी का लेटर।

एक सांसद और चार विधायकों ने लिखी थी ऐसी चिट्ठी
अस्पतालों में बदहाली, बेड-ऑक्सीजन और जरूरी दवाओं की कमी को लेकर विधायक लोकेंद्र के अलावा अब तक BJP के एक सांसद और चार विधायक पहले ही मुख्यमंत्री को लेटर लिख चुके हैं। जिन लोगों ने चिट्ठी लिखी है उनमें मोहनलालगंज सीट से सांसद कौशल किशोर, बस्ती से विधायक हरीश द्विवेदी, भदोही से विधायक दीनानाथ भास्कर और कानून मंत्री ब्रजेश पाठक एवं बरेली से विधायक केसर सिंह शामिल हैं। केसर सिंह ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन को भी चिट्ठी लिखी थी। उन्होंने मैक्स अस्पताल में बेड की मांग की थी। लेकिन 24 घंटे तक न ICU मिला था न ही मैक्स अस्पताल। नोएडा के यथार्थ अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली थी।

खबरें और भी हैं...