• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Uttar Pradesh Chitrakoot Jail Prisoners Clash Today: Chitrakoot Jail Gangwar News | Anshul Dixit Mukeem Kala Mirajuddin Killed In Shootout

UP की जेल में शूटआउट:चित्रकूट जेल में कैदियों के बीच चली गोली, मुख्तार गैंग के मेराज समेत दो बदमाशों की हत्या; एनकाउंटर में गैंगस्टर अंशु दीक्षित भी मारा गया

चित्रकूट7 महीने पहले
  • वेस्ट UP के गैंगस्टर मुकीम काला ने 10 करोड़ की डकैती डाली थी, एके-47 भी रखता था, एक लाख का इनाम भी था
  • अंशु पहले मुख्तार अंसारी का शार्प शूटर था, 2013 में उसने MP और UP STF पर भी गोली चलाई थी

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जेल में शुक्रवार को कैदियों के बीच गोली चल गई। इसमें वेस्ट UP के गैंगस्टर अंशु दीक्षित ने मुख्तार अंसारी के खास गुर्गे मेराज और बदमाश मुकीम काला की गोली मारकर हत्या कर दी। मेराज बनारस जेल से भेजा गया था, जबकि मुकीम काला सहारनपुर जेल से लाया गया था।

घटना की सूचना पर पुलिस फोर्स भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने अंशु दीक्षित को सरेंडर करने के लिए कहा, लेकिन वह लगातार फायरिंग करता रहा। बाद में पुलिस की जवाबी कार्रवाई में अंशु भी मारा गया।

देर रात चित्रकूट जेल अधीक्षक और जेलर सस्पेंड
चित्रकूट जेल में शूटआउट में तीन कैदियों की मौत के मामले में देर रात जेल अधीक्षक श्रीप्रकाश तिवारी और जेलर महेंद्र पाल को सस्पेंड कर दिया गया। सीएम ने 6 घंटे के भीतर पूरे मामले की रिपोर्ट तलब की थी। इसपर जांच के लिए बनाई गई 3 अधिकारियों की फौरी पड़ताल के आधार पर दोनों अफसरों को निलंबित किया गया। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने ये आदेश जारी किए।

CM योगी ने 6 घंटे में मांगी रिपोर्ट
इससे पहले CM योगी आदित्यनाथ ने चित्रकूट जेल में हुए शूटआउट के मामले में DG जेल से रिपोर्ट मांगी थी। योगी ने कहा कि अगले 6 घंटे में कमिश्नर डीके सिंह, DIG के सत्यनारायण और ADG जेल संजीव त्रिपाठी मामले की जांच कर पूरी रिपोर्ट दें।

अंशु 3 अन्य कैदियों को भी मारने की धमकी दे रहा था
सूत्रों के अनुसार, वेस्ट UP के कुख्यात बदमाश अंशु दीक्षित ने सुबह की परेड के बाद अपने साथ बंद मेराज अहमद और मुकीम काला पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं। हमले में दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद अंशु जेल के भीतर ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगा।

अंशु 5 अन्य बंदियों को भी मारने की धमकी दे रहा था। करीब आधे घंटे तक जेल कर्मी खौफ में उसके करीब नहीं गए। बाद में पुलिस आने पर उसकी घेराबंदी करके एनकाउंटर हुआ। ये भी बताया जा रहा है कि अंशु दीक्षित ने मुकीम, मेराज के अलावा तीन अन्य कैदियों पर भी हमला किया था।

चित्रकूट जेल में कैदियों के बीच फायरिंग होने पर पुलिस फोर्स ने जेल को घेर लिया।
चित्रकूट जेल में कैदियों के बीच फायरिंग होने पर पुलिस फोर्स ने जेल को घेर लिया।

सुबह साढ़े नौ बजे नाश्ते के साथ अंशु तक पहुंचाई गई पिस्टल

शूटआउट में अब जेल प्रशासन की भूमिका संदिग्ध नजर आने लगी है। जांच की सुई भी जेल कर्मियों की तरफ घूम गई है, लेकिन वारदात कैसे हुई? कोई अफसर इस पर बात करने को तैयार नहीं है। जेल सूत्राें के मुताबिक सुबह 9:30 बजे जेल के आदर्श कैदी सभी बैरकों में जाकर नाश्ता बांट रहे थे।

इसके थोड़ी देर पहले ही कैदियों की गिनती खत्म हुई थी और ज्यादातर कैदी बैरक से बाहर मैदान में थे। इसी दौरान बाल्टी में कच्चा चना और गुड़ लेकर दो कैदी अंशु की बैरक में दाखिल हुए। वह चना देकर जैसे लौटे अंशु ने पिस्टल से ताबड़तोड़ फायरिंग कर मेराज और मुकीम की हत्या कर दी। इससे साफ होता है कि नाश्ते के साथ ही पिस्टल भी अंशु तक पहुंचाई गई थी।

काला के खिलाफ 61 से अधिक आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं
गैंगवार में मारा गया मुकीम काला वेस्ट UP का कुख्यात गैंगस्टर था। उस पर एक लाख रुपए का इनाम भी रखा जा चुका था। सपा सरकार में मुकीम काला का आतंक इतना था कि UP, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान पुलिस को उसकी तलाश में थी। सहारनपुर में तनिष्क शोरूम में इंस्पेक्टर की वर्दी में 10 करोड़ की डकैती डालने वाले मुकीम से पुलिस ने गिरफ्तारी के दौरान एके-47 भी बरामद की थी।
मुकीम काला शामली जिले के कैराना थाना क्षेत्र के जहानपुरा गांव का रहने वाला था। उस पर शामली, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर के अलावा दिल्ली, पंजाब, राजस्थान और हरियाणा में 61 से अधिक आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। इनमें लूट, रंगदारी, अपहरण, फिरौती के 35 से ज्यादा मुकदमे थे। मुकीम काला के दूसरे भाई वसीम काला को 2017 में STF यूनिट ने मेरठ में मुठभेड़ में मारा था।

अंशु ने काला को मारने की सुपारी ली थी
जेल की सुरक्षा में इतनी बड़ी सेंध कैसे लगी? अफसर यह बताने को तैयार नहीं हैं। बदमाश अंशु दीक्षित के पास पिस्टल कहां से आई? यह एक बड़ा सवाल है। अंशु दीक्षित UP का कुख्यात अपराधी था। बताया जा रहा है कि उसने काला को मारने की सुपारी ली थी। इसे अंजाम देने के लिए उसने सेटिंग से चित्रकूट जेल में अपना ट्रांसफर करवाया था।

गोलीबारी शुरू होने के बाद जेल के बाहर एंबुलेंस भी पहुंच गई।
गोलीबारी शुरू होने के बाद जेल के बाहर एंबुलेंस भी पहुंच गई।

अंशु कभी मुख्तार अंसारी का खास व शार्प शूटर था
सीतापुर जिले के मानकपुर कुड़रा बनी का मूल निवासी अंशु दीक्षित लखनऊ विश्वविद्यालय में छात्र के रूप में दाखिला लेने के बाद अपराधियों के संपर्क में आया। 2008 में वह गोपालगंज (बिहार) के भोरे में अवैध हथियारों के साथ पकड़ा गया था। अंशु दीक्षित को 2019 में दिसंबर में सुल्तानपुर जेल में वीडियो वायरल होने के बाद चित्रकूट जेल भेजा गया था।

अंशु मुख्तार अंसारी का खास व शार्प शूटर था। 27 अक्टूबर 2013 को उसने मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश STF पर गोलियां चलाई थीं। दिसंबर 2014 में इसे पकड़ा गया था। चित्रकूट जेल आधुनिक होने के चलते इसे यहां करीब दो साल पहले भेजा गया था। इसे पूर्वांचल के माफियाओं का चहेता भी बताया जाता था।

मेराज की यह तस्वीर 3 अक्टूबर 2020 की है, जब उसने वाराणसी के जैतपुरा थाने की सरैयां चौकी में सरेंडर किया था।
मेराज की यह तस्वीर 3 अक्टूबर 2020 की है, जब उसने वाराणसी के जैतपुरा थाने की सरैयां चौकी में सरेंडर किया था।

मेराज पहले मुन्ना बजरंगी और मुख्तार के लिए काम करता था
मेराज वाराणसी का रहने वाला था। पहले मुन्ना बजरंगी का खास था, फिर मुख्तार से जुड़ा। इसकी अंशु दीक्षित से तनातनी रहती थी। बताया जाता है कि कुछ साल पहले उसकी अंशु से तनातनी भी हो गई थी। बनारस में उसे मेराज भाई नाम से जाना जाता था।

मेराज अपने गैंग के लिए हथियारों का इंतजाम करता था। वह फर्जी दस्तावेजों पर असलहों का लाइसेंस बनवाने का मास्टरमाइंड था। पिछले साल अक्टूबर में जैतपुरा पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। छानबीन में फर्जी तरीके से बनवाए गए 9 लाइसेंसी पिस्टल और राइफल की जानकारी मिली थी। इसमें उसने एक नगालैंड से मंगवाई थी।

चित्रकूट जेल में शूटआउट से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें-

1. गैंगस्टर मुख्तार अंसारी का परिवार सहमा, भाई MP अफजाल अंसारी बोले- पहले गली- मोहल्लों में गैंगवार होती थी, अब जेलों में हो रही

2. चित्रकूट जेल में गैंगवार के 3 किरदार: किसी ने छात्र सियासत से अपराध में रखा कदम, तो कोई छोटी वारदात कर बना गैंग का सरगना

3. फिक्स था जेल में शूटआउट: चित्रकूट जेल में कैदियों को बंट रहा था चना-गुड़; तभी ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगा शूटर अंशु, टारगेट बने मेराज-मुकीम

4. UP में दोहराई गई मुन्ना बजरंगी पार्ट-2 कहानी; पूर्व DGP बोले- चित्रकूट जेल में 3 हत्याओं का मामला सियासत और अपराधी से अपराधियों के खात्मे का है

खबरें और भी हैं...