पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हैदराबाद के बाद UP में शेरनी को कोरोना:इटावा लॉयन सफारी में शेरनी जेनिफर और गौरी संक्रमित, खान-पान में बदलाव

इटावाएक महीने पहले
इटावा लॉयन सफारी में दो शेरनी कोरोना संक्रमित हैं।

हैदराबाद के जू में 8 शेरों के कोरोना संक्रमित होने के बाद UP में भी दो शेरनी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मामला इटावा लाॅयन सफारी का है। यहां शेरनी जेनिफर और गौरी कोरोना संक्रमित मिली हैं। बाकी 12 शेरों की रिपोर्ट निगेटिव है। इसकी पुष्टि IVRI (भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान) बरेली के संयुक्त निदेशक ने की है। हैदराबाद के बाद देश में यह दूसरा मामला है, जब इंसानों से जानवरों में कोरोना की बीमारी फैली है।

खान-पान में हुआ बदलाव

संक्रमित शेरनियों को अलग-अलग वार्ड में रखा गया है। डॉक्टरों की निगरानी में उनका इलाज चल रहा है। उनके खानपान में भी बदलाव किया गया है। ऐहतियात के तौर पर उन्हें उबला मांस दिया जा रहा है। अब उनके हाव-भाव पर नजर रखी जा रही है। जानवरों के पास जाने वालों को PPE किट पहनकर ही जाने दिया जा रहा है।

कई दिनों से बीमार चल रही थीं शेरनियां

दरअसल, शेरनी जेनिफर और गौरी पिछले कई दिनों से बीमार थीं। दोनों शेरनियों के साथ ही 14 शेरों के कुनबे के सैंपल IVRI भेजे गए थे। जिसके बाद शेरनी जेनिफर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं, एक अन्य शेरनी गौरी की सैंपल रिपोर्ट संदिग्ध बताई गई। हालांकि बाद में उसमें भी कोरोना की पुष्टि की गई। साथ ही अन्य 12 शेरों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। शेरनी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद सफारी प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। मीडिया का प्रवेश सफारी में बंद कर दिया गया है। इस पूरे मामले में सबसे बड़ी लापरवाही सफारी प्रशासन की सामने निकलकर आ रही है।

कर्मचारियों से कोरोना फैलने की आशंका

दरअसल, माह भर पहले सफारी के 10 कर्मचारियों को कोरोना हुआ था। जिसके बाद यही लग रहा है कि बिना किसी जांच के उन्हीं में से कोई पॉजिटिव कर्मचारी शेरों के बाड़े के आसपास गया होगा। जिस कारण यह बीमारी शेरों तक पहुंच गई।

IVRI ने कहा- 14 शेर-शेरनियों के सैंपल आए थे

IVRI के संयुक्त निदेशक (कैडरेड) डॉ. केपी सिंह ने बताया कि इटावा स्थित लॉयन सफारी से 14 शेर-शेरनियों के सैंपल आए थे। इनमें से दो सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बाकी रिपोर्ट निगेटिव है।

अखिलेश का ड्रीम प्रोजेक्ट था इटावा लाॅयन सफारी
इटावा लायन सफारी का निर्माण पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्यकाल में मई 2012 में 295 करोड़ रुपए से हुआ था। यहां शेर गुजरात से लाए गए थे। लेकिन पार्क में फैली कैनाइन डिस्टेम्पर नाम की बीमारी से 12 शेरों की मौत हो गई थी। इससे इटावा लाॅयन सफारी पार्क को काफी बड़ा झटका लगा था। इटावा में लायन सफारी पार्क न खोले जाने तक की चर्चाएं शुरू हो गई थी। लेकिन धीरे-धीरे सफारी पार्क प्रशासन ने बीमारी के खिलाफ लड़ाई लड़ी और उस पर जीत हासिल की और सफारी ब्रीडिंग सेंटर में शेरों के कई बच्चों ने जन्म भी लिया। बीते साल सितंबर माह में पर्यटकों के लिए लाॅयन सफारी खोला गया था।

गोरखपुर जू में भी एलर्ट

उधर, इटावा में शेरनी के संक्रमित होने के बाद गोरखपुर प्राणी उद्यान में सतर्कता और बढ़ा दी गई है। पूरे प्राणी उद्यान को सैनिटाइज करने के साथ-साथ बाड़ों को भी सैनिटाइज किया जा रहा है। डॉक्टर योगेश कुमार का कहना है कि जानवरों को कोविड से बचाने के लिए उनके बाड़े में जाने वाले कीपर और स्वीपर पर भी विशेष नजर रखी जा रही है। इन सभी लोगों का सप्ताह में एक दिन जांच कराई जा रही है। साथ ही इन्हें कोई दिक्कत होने पर इन्हे बाड़ों से दूर कर दिया जाता है। प्राणी उद्यान में कोई गाड़ी आती है उसके पहिए से कोई संक्रमण प्राणी उद्यान में न आए इसकी भी व्यवस्था की गई है। साथ ही मौजूदा समय में गर्मी बहुत है। इसलिए जानवरों को इससे बचाने के लिए दवा भी दी जा रही है।

खबरें और भी हैं...