कोरोनाकाल के सबसे बड़े श्मशान से रिपोर्ट:बारिश में उफनाई गंगा तो सामने आया रेत में दफन लाशों का सच, अफसरों ने बालू डलवा दी; अब सीमा विवाद में फंसे 500 शव

उन्नाव5 महीने पहलेलेखक: दिलीप सिंह
विचलित करने वाली ये तस्वीरें उन्नाव में गंगा किनारे के घाट की हैं।

मैं गंगा किनारे ही पैदा हुआ हूं। यहीं बड़ा हुआ हूं, लेकिन मैंने अपनी पूरी जिंदगी में आज तक ऐसा दर्दनाक नजारा पहले कभी नहीं देखा। मैं उत्तर प्रदेश के उन्नाव स्थित उस गंगा घाट के किनारे हूं, जहां एक साथ 500 से ज्यादा लाशें दफन हैं। ये लाशें हिंदुओं की हों या मुसलमानों की... कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि हैं तो इंसानों की ही। पढ़िए भास्कर रिपोर्टर दिलीप सिंह की घाट से रिपोर्ट...

सुबह जो मंजर देखा, मेरी रूह कांप उठी

कोरोनाकाल में इतना बड़ा श्मशान घाट शायद ही कहीं और बना हो। कल से मैं इस इलाके पर नजर रख रहा हूं। कल जो मंजर था, आज सुबह उससे भी भयावह हो गया है। कानपुर से 70 किलोमीटर का सफर तय करके सुबह 4 बजे मैं इस घाट पर पहुंचा। मैंने जो देखा...मेरी रूह कांप उठी। रात में हुई बारिश के चलते गंगा का जलस्तर क्या बढ़ा, कई लाशें बाहर आ गईं।

एक-दो नहीं बल्कि पचासों कुत्ते उन पर टूट पड़े थे। हर तरफ लाशों का अंबार और क्षत-विक्षत मानव अंग। कुछ देर होते ही प्रशासनिक अफसर भी पहुंच गए। देखते ही देखते लाशों के ऊपर से कफन हटवाया जाने लगा। मैं कुछ समझ पाता, तब तक उन लाशों पर बालू भी डलवा दी गई। कफन को हटाने का मकसद शायद ये था कि दूर से कोई लाशों की पहचान और गिनती न कर सके। लाशों के करीब जाने से सभी को रोक दिया गया था। अब पूरा इलाका पुलिस और प्रशासनिक अफसरों के हाथ में है। अफसरों ने कहा कि लाशें काफी सड़ चुकी हैं, इसलिए उसे निकालना मुश्किल है। अब उन लाशों के ऊपर से ही बालू डलवा दिया गया है।

आंखों के सामने झूठ बोलने लगे SDM

लाशों की सच्चाई को दफन करवाने पहुंचे SDM की हिम्मत तो देखिए...एक तरफ लाशों पर बालू डलवा रहे थे तो दूसरी ओर मीडिया की खबरों को ही झूठ बोल रहे थे। इनका नाम है दयाशंकर पाठक। मीडिया ने जब इनसे पूछा कि इन लाशों की सच्चाई क्या है तो बोलने लगे कि यहां कोई लाश नहीं है। मीडिया झूठी खबरें चला रहा है। सामने कुत्ते शवों को नोंच रहे थे, लेकिन ये साहब आंखों के सामने की सच्चाई पर भी पर्दा डालने में जुटे थे।

जबकि, बुधवार को ही दैनिक भास्कर ने उन्नाव के DM रवींद्र कुमार से बक्सर घाट पर बड़े पैमाने पर दफन हो रहीं लाशों को लेकर सवाल पूछा था। तब उन्होंने साफ कहा था कि हां, वहां कई लाशें दफन हुई हैं। इसकी जांच के लिए SDM से रिपोर्ट मांगी गई है। अब लाशों को दफन करके लोग न चले जाएं, इसकी व्यवस्था भी की जा रही है। इसके साथ ही जो लाशें अभी दफन हैं उनका भी रीति-रिवाजों के साथ अंतिम संस्कार कराया जाएगा, लेकिन सुबह होते ही उनके दूसरे अफसर इससे पलट गए।

8 घंटे तक चली 2 जिलों के बीच की लड़ाई

बक्सर घाट पर फतेहपुर और उन्नाव के अफसरों ने नक्शे के जरिए सीमा विवाद सुलझाया।
बक्सर घाट पर फतेहपुर और उन्नाव के अफसरों ने नक्शे के जरिए सीमा विवाद सुलझाया।

ये लाशें किसकी हैं? किसने दफन कीं? इनकी मौत कैसे हुई? ये सब अब किसी को नहीं पता करना है। अफसर तो इस बात को पता करना चाहते हैं कि जिस जगह ये लाशें दफन हैं...वो किस जिले में आता है। इसी बात को लेकर सुबह फतेहपुर और उन्नाव के अफसरों के बीच लड़ाई शुरू हुई। दोनों यही कहते रहे कि जिस जगह शव दफन है वो उनके यहां के का नहीं है। करीब 8 घंटे तक लाशों के ढेर पर जमीनों की पैमाइश चलती रही।

बाद में दोनों जिलों के डीएम ने तय किया कि अब से फतेहपुर की शवों का अंतिम संस्कार उनके क्षेत्र में होगा जबकि उन्नाव के लोगों का अंतिम संस्कार उन्नाव में होगा। गंगा के दोनों तरफ पुलिस और प्रशासनिक अफसरों की टीमें बैठा दी गई हैं। अब यहां कोई लाश दफन नहीं होगी और न ही किसी के शव को प्रवाहित किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...