पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

UP में गांव की सरकार:फिरोजाबाद में BCA स्टूडेंट ने शपथ लेकर कहा- कोरोना को हराना है, अलीगढ़ में 24 साल के प्रधान ने खींचा विकास का खाका

यूपी टीम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश में गांव की सरकार के गठन की प्रक्रिया मंगलवार से शुरू हो चुकी है। आज और कल यानी बुधवार को 59 हजार से अधिक ग्राम पंचायतों में ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत सदस्य शपथ लेंगे। कोरोना के चलते इस बार शपथ ग्रहण समारोह वर्चुअली आयोजित किया जा रहा है। 27 मई को ग्राम प्रधान बैठक के बाद आगे की रणनीति बनाएंगे। शासन ने सख्त हिदायत दी है कि शपथ ग्रहण के बाद किसी प्रकार का न तो उत्सव होगा न ही विजय जुलूस निकाला जाएगा।

प्रदेश में 15 अप्रैल से 29 अप्रैल के बीच चार चरणों में चुनाव संपन्न हुए थे। दो मई को परिणाम आया था। लेकिन कोरोना के चलते शपथ ग्रहण समारोह टल गया था। 20 दिन बाद सोमवार को ग्राम पंचायतों के गठन की अधिसूचना जारी की गई है।

पंचायत चुनाव में कई युवा भी जीतकर प्रधान बने हैं। मंगलवार को जब उन्होंने अपने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली तो उनमें गांव के विकास को लेकर जज्बा नजर आया। नव निर्वाचित प्रधानों ने कहा कि वे बिना किसी भेदभाव के काम करेंगे। ऐसे ही 5 प्रधानों की कहानी...

फिरोजाबाद: BCA स्टूडेंट ने ली शपथ, कहा- कोरोना को हराना है

ग्राम पंचायत बैंदी की नवनिर्वाचित प्रधान वंशिका राज शर्मा की उम्र महज 23 साल है। वह आगरा के प्राइवेट कॉलेज से बीसीए कर रही हैं। उन्हें गांव वालों ने चुनावी मैदान में उतारा था। आखिरकार वह 124 वोटों से जीतकर प्रधान बनी थीं। वंशिका कहती हैं कि गांव के लोग अभी भी कोरोना के प्रति गंभीर नहीं हैं। लेकिन उनका आगे पूरा प्रयास रहेगा कि गांव के लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करूं और उन्हें सावधानी बरतने के लिए घर-घर भी जाऊंगी। सबसे कम उम्र की प्रधान बनने पर मैं बहुत अच्छा महसूस कर रही हूं। इतनी छोटी उम्र में मैं प्रधान चुनी गई हूं इसके बाद मेरी जिम्मेदारी और बढ़ गई है।

वंशिका के चाचा पवन कुमार शर्मा गांव में इससे पहले प्रधान थे। वह बताती हैं कि गांव में काफी उन्होंने विकास कराया अब अब चाचा से प्रेरित होकर मैदान में आ गई हैं। आगे भी उनका विकास कराने का क्रम जारी रहेगा। कोशिश करूंगी कि गांव के युवाओं को तकनीकि शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ाया जाए।

अलीगढ़: शपथ होते ही गांव के विकास का काम शुरू
टप्पल ब्लॉक के नागलिया गौरोल गांव के नव निर्वाचित ग्राम प्रधान यादवेंद्र सिंह 24 साल के हैं। यादवेंद्र साइंस विषय से ग्रेजुएट हैं। आज उन्होंने पंचायत भवन में जूम ऐप के जरिए अपने पद की शपथ ली। शपथ के बाद ही गांव के लोगों के साथ बैठक की। गांव के विकास पर चर्चा की। उन्होंने गांव की दशा और दिशा बदलने के लिए बुजुर्ग एवं पढ़े-लिखे नौजवानों से सुझाव मांगे। कहा कि गांव की एक अच्छी तस्वीर तैयार करने के लिए हम सभी लोगों को एक साथ मिलकर काम करना है। जर्जर सड़कें पड़ी हैं। गांव के अंदर नल खराब पड़े हैं। बुजुर्ग एवं माताओं को पेंशन नहीं मिल पा रही है। दावा किया कि आने वाले 1 साल के अंदर इस गांव की तस्वीर पूरी तरह से बदल दूंगा।

झांसी: संगीता गांव की पहली महिला प्रधान, लखनऊ यूनिवर्सिटी से किया है ग्रेजुएशन

झांसी में नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों का शपथ ग्रहण समारोह।
झांसी में नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों का शपथ ग्रहण समारोह।

मोठ विकासखंड के जरहाकला ग्राम पंचायत में उस वक्त खुशी का माहौल छा गया जब संगीता यादव ने शपथ ग्रहण की। आजादी के बाद से अब तक जरहाकला ग्राम पंचायत के ग्राम खरैला से कोई भी महिला प्रत्याशी अब तक प्रधान पद का चुनाव नहीं जीत सकी है। लखनऊ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन करने वाली संगीता यादव जो कि दिल्ली में वीडियो एडिटर के पद पर काम कर चुकी हैं, उन्होंने अपनी किस्मत आजमाई और पहले ही चांस में बाजी मार गईं। संगीता यादव को खुद विकास खंड अधिकारी सुभाष नेमा ने उन्हें शपथ दिलाई।

बरेली: गांव वालों के कहने पर लड़ा था चुनाव, शपथ से पूरा हुआ पिता का सपना

मीरगंज तहसील के गांव कुल्छा खुर्द के रहने वाले राहुल मौर्या 20 साल की उम्र में प्रधान बने हैं। राहुल के पिता लाखन सिंह मौर्या और उनकी मां भी प्रधान रही हैं। वे अपने परिवार के तीसरे शख्स हैं, जो प्रधानी की जिम्मेदारी निभाएंगे। राहुल ने इंटरमीडिएट की पढ़ाई के बाद बीएमएलटी का कोर्स किया है। उनके पिता की इसी वर्ष 27 जनवरी को अचानक तबियत बिगड़ने के चलते मौत हो गई थी। राहुल ने कहा, पैथॉलोजी में कोर्स करने का लाभ गांव वालों को भी पहुंचाऊंगा। गांव वालों को फ्री में जांच सुविधा दूंगा।

हमीरपुर: 20 साल की उम्र में गांव के विकास की सोच
जिले में मौदहा ब्लॉक क्षेत्र के परछछ गांव की अंकिता गौतम बीएससी की पढ़ाई पूरी कर चुकी हैं। गांव वालों ने अंकिता गौतम को समर्थन दिया और उन्होंने जीत हासिल की। आज शपथ ग्रहण लेने के बाद अंकिता ने गांव में छूटे विकास कार्यों को पूरा कराते हुए कुछ नया करने का दावा किया।

वाराणसी: जिले की सबसे कम उम्र की प्रधान मेनिका ने ली शपथ

मेनिका पाठक।
मेनिका पाठक।

21 साल की उम्र में ओदार गांव की प्रधान चुनी गई मेनिका पाठक ने आज शपथ ली। मेनिका वाराणसी जिले में सबसे कम उम्र की ग्राम प्रधान हैं। स्नातक उत्तीर्ण मेनिका के पति विवेक पाठक एक इंटर कॉलेज के प्रबंधक हैं। शपथ लेने के बाद मेनिका ने कहा कि वह गांव के विकास की कार्ययोजनाओं में युवाओं और महिलाओं की सहभागिता सुनिश्चित करेगी। ग्रामीणों के सहयोग से ओदार ग्रामसभा को आदर्श ग्राम पंचायत बनाने का हरसंभव प्रयास करेंगी। उन्होंने कहा कि अब वह गांव की प्रतिनिधि हैं। चुनाव परिणाम आने के पहले तक स्थिति अलग होती है। अब सभी लोग अगले 5 साल तक सिर्फ गांव के विकास और आपसी समन्वय के साथ काम करने पर ध्यान दें।

ऐसे हुआ शपथ ग्रहण

  • हर खंड विकास कार्यालय के स्तर पर कुल पंचायतों को एक निर्धारित संख्या में विभाजित करते हुए पंचायत भवन में ऑनलाइन शपथ कराने का समय आवंटित किया गया है और उसी के अनुसार पंचायतों के नव निर्वाचित प्रतिनिधि पंचायत सचिव की उपस्थिति में ऑनलाइन शपथ ग्रहण कर रहे हैं। इसके बाद शपथ ग्रहण से संबंधित पत्र और ग्राम पंचायतों के गठन के दस्तावेज जिला पंचायत राज अधिकारी के माध्यम से शासन को भेजे जाएंगे।
  • अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने वर्चुअल रूप ग्राम प्रधानों व पंचायत सदस्यों की शपथ कराने और ग्राम पंचायतों को संगठित कराने को लेकर आदेश दिया है। आदेश में कहा गया है कि जिन ग्राम पंचायतों में शपथ ग्रहण ग्राम प्रधान की होगी और जहां भी दो तिहाई से अधिक ग्राम पंचायत सदस्य होंगे। सिर्फ उन ग्राम पंचायतों का गठन करके इसकी सूचना शासन को 28 मार्च को निर्धारित प्रारूप में जिलाधिकारी द्वारा भेजी जाएगी।
खबरें और भी हैं...