• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Uttar Pradesh Police Update: UP Police Stops Yogi Adityanath Mashi In Saharanpur Over To Attend Anand Singh Bisht Funeral

उप्र:बहनोई के अंतिम संस्कार में जा रहीं सीएम योगी की मौसी को दरोगा ने रोका, बाद में प्रशासन ने गाड़ी का कराया इंतजाम

सहारनपुर2 वर्ष पहले
जब सीएम योगी गोरखपुर के सांंसद थे, तब वे अपनी मौसी के घर जाकर रुकते थे। मौसी सरोज सिंह ने कहा- उनके बहनोई की मौत के गम ने झकझोर दिया।
  • सहारनपुर के नवीन नगर में रहती हैं सीएम योगी की मौसी
  • सोमवार को योगी के पिता के निधन की खबर पाकर अंतिम संस्कार में शामिल होने जा रही थीं मौसी
  • उत्तराखंड बॉर्डर पर भगवानपुर पुलिस चौकी के दरोगा ने रोका, वापस लौटाया
  • जिला प्रशासन ने कराया गाड़ी का इंतजाम तो योगी की मौसी ने अपने बेटे को भेजा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट (89) का सोमवार सुबह 10:44 बजे दिल्ली के आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में निधन हो गया था। यह खबर पाकर सीएम योगी मौसी सरोज सिंह बिष्ट अपने बहनोई के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए बेटे के साथ उत्तराखंड रवाना हुईं। लॉकडाउन में कोई दिक्कत न हो, इसके लिए उन्होंने सहारनपुर के डीएम से तीन दिन का पास भी लिया था। लेकिन उन्हें उत्तराखंड बॉर्डर पर भगवानपुर चौकी से वापस लौटा दिया गया। मन मसोस कर योगी की मौसी वापस लौट आईं। बाद में प्रशासन ने गाड़ी का इंतजाम कर उन्हें पौड़ी तक भिजवाया। 

जिलाधिकारी के जरिए जारी कराया था पास

सीएम योगी की मौसी सरोज सिंह बिष्ट सहारनपुर के नवीन नगर में परिवार के साथ रहती हैं। सरोज सिंह ने बताया कि, सोमवार को जैसे ही उन्हें बहनोई आनंद सिंह बिष्ट के निधन की जानकारी मिली बेटे से जिलाधिकारी के जरिए विशेष पास बनवाया गया। यह पास अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व विनोद कुमार ने जारी किया था। सरोज सिंह के पति अस्वस्थ रहते हैं। इसलिए वे उत्तराखंड के लिए रवाना हुईं। लेकिन उन्हें भगवानपुर रोड पर काली नदी पुलिस चौकी उत्तराखंड बॉर्डर पर रोक दिया गया। 

सीएम योगी की मौसी व मौसा।
सीएम योगी की मौसी व मौसा।

पास दिखाने पर भी दरोगा ने रोका

आरोप है कि, पास दिखाने के बावजूद पुलिस चौकी पर तैनात इंचार्ज ने बॉर्डर पार करने नहीं दिया। कहा गया कि, उत्तराखंड में किसी भी बाहरी वाहन को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। परिवार ने चौकी इंचार्ज को मोबाइल पर बात कराने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने स्वीकार नहीं किया। आखिरकार निराश होकर सभी वापस घर लौट आए।

सरोज सिंह बिष्ट का परिवार।
सरोज सिंह बिष्ट का परिवार।

योगी की मौसी ने अपने बेटे को भेजा

जब यह बात जिला प्रशासन को पता चली तो गाड़ी की व्यवस्था कराई गई। लेकिन सरोज सिंह बिष्ट ने जाने से मना कर दिया। उनके बेटे सत्येंद्र कुमार को गाड़ी से पौड़ी भेजा गया। सरोज सिंह ने कहा- उनके पति बीमार हैं। ऐसी हालत में या तो वे जातीं या उनका बेटा। इसलिए बेटे को भेजा था। लेकिन उन्हें वहां न पहुंच पाने का काफी गम है। 

खबरें और भी हैं...