पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कानपुर शूटआउट मामला:गैंगस्टर विकास दुबे के गांव पहुंची एसआईटी-ईडी टीम; अवैध संपत्तियों और पुलिस की भूमिका की होगी जांच

कानपुर10 महीने पहले
शासन ने कानपुर के बिकरु गांव में दो जुलाई को हुए शूटआउट की जांच के लिए एसआईटी बनाई है। रविवार को एसआईटी बिकरु गांव पहुंची है। टीम के साथ ईडी भी मौजूद है।
  • शुक्रवार को शासन ने तीन सदस्यीय एसआईटी टीम का किया था गठन
  • अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी को बनाया है एसआईटी का अध्यक्ष

10 दिन पहले कानपुर के बिकरु गांव में हुए शूटआउट की जांच के लिए एसआईटी और ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) की टीम मौके पर पहुंची है। टीम के पहुंचने से पहले ही डीएम ब्रह्मदेव और एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु बिकरु गांव पहुंच गए थे। शासन ने शुक्रवार को अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया था। अपर पुलिस महानिदेशक हरिराम शर्मा और पुलिस उप महानिरीक्षक जे रवींद्र गौड़ एसआईटी के सदस्य हैं। शासन ने 31 जुलाई तक जांच रिपोर्ट तलब की है। 

बिकरु गांव में आपस में बात करते एसआईटी और स्थानीय अधिकारी।
बिकरु गांव में आपस में बात करते एसआईटी और स्थानीय अधिकारी।

एसआईटी इन मुद्दों पर जांच करेगी

  1. घटना के पीछे के कारणों जैसे- विकास दुबे पर जो भी मामले चल रहे हैं, उनमें अब तक क्या कार्रवाई हुई। विकास के साथियों को सजा दिनाने के लिए जरूरी कार्रवाई की गई या नहीं। इतने बड़े अपराधी की जमानत रद्द कराने के लिए क्या कार्रवाई की गई।
  2. विकास के खिलाफ कितनी शिकायतें आईं। क्या चौबेपुर थाना अध्यक्ष और जिले के अन्य अधिकारियों ने उनकी जांच की। जांच में सामने आए फैक्ट्स के आधार पर क्या कार्रवाई की गई। 
  3. विकास और उसके साथियों पर गैंग्स्टर एक्ट, गुंडा एक्ट, एनएसए के तहत क्या कार्रवाई की गई। कार्रवाई करने में की गई लापरवाही की भी जांच की जाएगी।
  4. विकास और उसके साथियों के पिछले एक साल के कॉल डीटेल रिपोर्ट (सीडीआर) की जांच करना। उसके संपर्क में आने वाले पुलिसकर्मियों की मिलीभगत के सबूत मिलने पर उन पर कड़ी कार्रवाई की अनुशंसा करना।
  5. घटना के दिन पुलिस को आरोपियों के पास हथियारों और फायर पावर की जानकारी कैसे नहीं मिली। इसमें हुई लापरवाही की जांच करना। थाने को भी इसकी जानकारी नहीं थी, इसकी भी जांच करना।
  6. अपराधी होने के बावजूद भी विकास और उसके साथियों को हथियारों के लाइसेंस किसने और कैसे दिए। लगातार अपराध करने के बाद भी उसके पास लाइसेंस कैसे बना रहा।

21 नामजद में से 12 अभी भी फरार

अब तक विकास के करीबी प्रभात, बऊआ, अमर दुबे, प्रेम प्रकाश पांडे, अतुल दुबे का एनकाउंटर हो चुका है। नामजद में 21 आरोपियों में से 12 अभी भी फरार हैं। वहीं, चौबेपुर के एसओ रहे विनय तिवारी, दरोगा केके शर्मा समेत 12 लोगों की भी गिरफ्तारी हुई है।

कानपुर के चौबेपुर थाना के बिकरू गांव में 2 जुलाई की रात गैंगस्टर विकास दुबे और उसकी गैंग ने 8 पुलिसवालों की हत्या कर दी थी। अगली सुबह से ही यूपी पुलिस विकास गैंग के सफाए में जुट गई। गुरुवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से सरेंडर के अंदाज में विकास की गिरफ्तारी हुई थी। शुक्रवार सुबह कानपुर से 17 किमी पहले पुलिस ने विकास को एनकाउंटर में मार गिराया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें