पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Vikas Dubey (Kanpur Encounter) Latest Story Updates; Story Of Encounter Night On Uttar Pradesh Wanted HistorySheeter Vikas Dubey, Everything You Need To Know

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

8 पुलिसवालों की हत्या वाली रात की कहानी:विकास दुबे ने थानाध्यक्ष से बदसलूकी की, फिर अपने अहाते में बैठकर पुलिस का इंतजार कर रहा था, टीम पहुंची तो गुर्गों से फायरिंग कराई

कानपुर5 महीने पहलेलेखक: रवि श्रीवास्तव
  • कॉपी लिंक
यह तस्वीर बिकरु गांव में अपराधी विकास दुबे के घर के बाहर की है। पुलिसवालों को तितर बितर करने और आसानी से घर तक न पहुंच पाने के लिए बदमाशों द्वारा जेसीबी को बीच रास्ते खड़ा कर दिया गया था। पुलिस की यहीं चूक हुई। पुलिस वालों ने इसे कॉमन रेड समझी और बदमाश पहले से सतर्क थे। टीम के पहुंचते ही अंधाधुंध फायरिंग की। जिसमें आठ पुलिसकर्मी की जान चली गई।
  • चौबेपुर के थानाध्यक्ष विनय तिवारी से गुरुवार दोपहर हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने की थी बदसलूकी, तभी से बनने लगी थी दबिश की प्लानिंग
  • उसके शुभचिंतकों ने घर में ही रहने की दी थी सलाह, इसी के बाद से उसने पुलिस से मोर्चा लेने की बनाई रणनीति

कानपुर जिला मुख्यालय से करीब 40 किमी की दूरी पर बिकरु गांव है। इसी गांव में गुरुवार रात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे उर्फ पंडितजी को पकड़ने गई पुलिस टीम पर अंधाधुंध फायरिंग की गई। इसमें डीएसपी बिल्हौर समेत आठ पुलिसकर्मियों की जान गई। लेकिन, इस रात बिकरु गांव में ऐसा क्या हुआ? यह अभी तक रहस्य बना हुआ है। दैनिक भास्कर की पड़ताल में अब यह सामने आ गया है कि गुरुवार दोपहर से इस विवाद के अंत की स्क्रिप्ट लिखने की शुरुआत हो गई थी, जो रात 1 बजे तक 8 पुलिसवालों की मौत के बाद खत्म हुई। एक रिपोर्ट...

विकास ने चौबेपुर थानाध्यक्ष के साथ की थी बदसलूकी

पड़ोसी गांव जादेपुर के राहुल तिवारी ने एक जुलाई को बिकरु गांव के विकास दुबे के खिलाफ अपहरण, जान से मारने का प्रयास करने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी। बिकरु गांव में घूमने के बाद स्थानीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, गुरुवार दोपहर चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी अपने तीन सिपाहियों के साथ विकास दुबे के पास मामले की जानकारी लेने पहुंचे थे।

बताया जाता है कि इस दौरान विकास नाराज हो गया और उसने चौबेपुर थानाध्यक्ष से बदसलूकी भी की थी। जिसके बाद चौबेपुर थानाध्यक्ष ने इसकी शिकायत अपने आलाधिकारियों से की। विकास कई दिनों से पुलिस की हिट लिस्ट में शामिल था। इस घटना के बाद पुलिस अधिकारियों का भी पारा चढ़ गया और इसे दबोचने की प्लानिंग शुरू हो गई। 

अपराधी विकास दुबे का अहाता।
अपराधी विकास दुबे का अहाता।

विकास को दबिश की सूचना मिल गई थी

सूत्र बताते हैं कि गुरुवार शाम तक विकास दुबे को सूचना मिल गई थी कि पुलिस उसे पकड़ने आने वाली है। उसने अपने कई शुभचिंतकों से बात की, जिसके बाद उसे यही सलाह मिली कि घर में ही रहे। बाहर पकड़ा गया तो एनकाउंटर हो सकता है। उसे यह भी सलाह दी गई कि पुलिस टीम में आलाधिकारी रहेंगे। उनसे बात कर समझौता या सरेंडर भी कर सकता है। विकास ने इसी हिसाब से अपनी प्लानिंग पर काम शुरू कर दिया था। 

विकास दुबे (काले कोट में) को पुलिस के आने की खबर पहले से मिल गई थी। - फाइल फोटो
विकास दुबे (काले कोट में) को पुलिस के आने की खबर पहले से मिल गई थी। - फाइल फोटो

रात 9 बजे बीच रास्ते में खड़ी की गई जेसीबी, अपने आदमियों को सतर्क रहने को कहा

पुलिस रेड की सूचना मिलने के बाद विकास प्लानिंग पर लग गया। गांववालों से बातचीत में पता चला कि रात 9 बजे जेसीबी बीच रास्ते में खड़ी करवाई गई। जेसीबी किराए पर मंगाई गई थी, जिससे पुलिसवाले गाड़ियां लेकर उसके घर तक नहीं पहुंच पाएं और अलग-अलग हिस्सों में बंट जाएं।

साथ ही अपनी छत और आसपास के घरों की छत पर उसने अपने आदमी असलहों के साथ बिठा दिए। जबकि, खुद घर के अहाते के पड़े तख्त पर अपने कुछ साथियों के साथ बैठकर पुलिस टीम का इंतजार करने लगा। 

रात 12 बजे के आसपास तकरीबन 5 थानों की फोर्स बिल्हौर डीएसपी देवेंद्र कुमार के नेतृत्व में पहुंची। इस टीम में लगभग 25 से 35 लोग रहे होंगे। बीच सड़क जेसीबी देख देवेंद्र कुमार का पारा चढ़ गया और वह जेसीबी के पास खड़े होकर विकास के घर की ओर देखकर चिल्लाने लगे। जेसीबी का मुंह विकास के ममेरे भाई शशिकांत के घर के सामने था। 

वहीं, शिवराजपुर थानाध्यक्ष महेश चंद्र यादव सीधे विकास के अहाते में चले गए। वहां उनकी विकास से कहासुनी होने लगी। जब विकास के साथियों को लगा कि पुलिसवाले भारी पड़ रहे हैं तो विकास के इशारे पर उसके गुर्गों ने पुलिस पर चौतरफा गोलियां चलानी शुरू कर दी, जिसमें 8 पुलिसवालों की जान चली गई। 

गांव में तैनात पीएसी के जवान।
गांव में तैनात पीएसी के जवान।

पुलिसवालों ने गांव में दरवाजे खटखटाए, लेकिन मदद नहीं मिली

जानकारी के मुताबिक, ताबड़तोड़ फायरिंग के बाद पुलिसवाले अलग-अलग ग्रुप्स में बंट गए। लेकिन, हमलावरों की संख्या ज्यादा थी। वे लाठी डंडों और असलहों से भी लैस थे। कहा तो यह भी जा रहा है कि कुछ पुलिसवालों को दौड़ा-दौड़ाकर लाठी डंडों से पीटा गया। इस दौरान उन्होंने भागकर गांववालों का दरवाजा खटखटाया, लेकिन वहां से भी उन्हें मदद नहीं मिली। 

करीब 3 गुर्गों के साथ बोलेरो से भागा है विकास

सूत्रों के मुताबिक, जब पुलिसवाले तितर-बितर हो गए तो विकास मौके का फायदा उठाकर अपने दो-तीन खास साथियों के साथ बोलेरो से फरार हो गया है। हालांकि, पुलिस उसे ढूंढने के लिए लगातार कॉम्बिंग कर रही है। 

यह तस्वीर विकास दुबे के मामा के घर की है। यहीं डीएसपी की हत्या की गई।
यह तस्वीर विकास दुबे के मामा के घर की है। यहीं डीएसपी की हत्या की गई।

एसटीएफ कर रही है चौबेपुर थानाध्यक्ष से पूछताछ

स्थानीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, मामले की जांच में लगी एसटीएफ चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी से भी पूछताछ कर रही है। यही नहीं एसटीएफ को शक है कि विकास के पास पुलिस रेड की सूचना भी विकास के कुछ करीबी पुलिसवालों ने ही पहुंचाई थी।

शिकायतकर्ता राहुल तिवारी भी हुआ फरार 

शिकायतकर्ता राहुल तिवारी को जब खबर मिली कि विकास 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार हो गया है तो इसके बाद ही राहुल भी अपने गांव जादेपुर से फरार हो गया। राहुल के परिजन को डर है कि कहीं विकास उसे भी मारने की कोशिश न करे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें