पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वाराणसी:मुख्तार अंसारी गिरोह के शॉर्प शूटर झुन्ना पंडित की 60 लाख की संपत्ति कुर्क; 16 साल की उम्र में पहली हत्या की थी, अभी जेल में

वाराणसीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
यह तस्वीर वाराणसी की है। पुलिस और प्रशासनिक टीम ने शनिवार दोपहर गैंगस्टर झुन्ना पंडित की संपत्ति कुर्क की।
  • साल 2019 में दिव्यांग पान विक्रेता की दिनदहाड़े की थी हत्या, दोनों हाथों से गोली चलाते हुए दिखा था गैंगस्टर
  • हत्या, लूटपाट, रंगदारी और अपहरण जैसे जघन्य अपराधों के 40 मामले दर्ज, पंजाब के रोपड़ से हुआ था गिरफ्तार

कानपुर शूटआउट के बाद यूपी पुलिस अपराधियों के खिलाफ एक्शन में है। वाराणसी में कैंट थाने के हिस्ट्रीशीटर श्रीप्रकाश मिश्र उर्फ झुन्ना पंडित की अपराध से अर्जित 60 लाख की संपत्ति को कुर्क कर लिया गया। झुन्ना पंडित पर पुलिस ने एक लाख का इनाम घोषित किया था। वर्तमान में वह चित्रकूट जेल में बंद है। 16 साल की उम्र में पहली बार हत्या की थी। उस पर हत्या के 10 और लूटपाट, अपहरण, रंगदारी के करीब 40 केस दर्ज हैं। वह मऊ सदर से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी गिरोह से जुड़ा हुआ है।

दोनों हाथों से गोली चलाने का वीडियो सामने आया था

इस कार्रवाई की कमान एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी ने संभाली। उनके साथ कई थानों की फोर्स थी। एसपी ने बताया कि हाशिमपुर के घर को कुर्क किया गया है। झुन्ना ने 3 सितंबर 2019 को मड़वा गांव में दिव्यांग पान विक्रेता दिलीप पटेल की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी। दिव्यांग हत्याकांड में झुन्ना द्वारा दोनों हाथों से गोली चलाने का सीसीटीवी सामने आया था। इस हत्याकांड के बाद उस पर एक लाख का इनाम घोषित किया गया था। अक्टूबर 2019 में झुन्ना को पंजाब पुलिस ने रोपण से गिरफ्तार किया था।

गैंगस्टर झुन्ना पंडित।- फाइल फोटो
गैंगस्टर झुन्ना पंडित।- फाइल फोटो

एसपी सिटी विकास चंद्र ने बताया कि गैंगेस्टर झुन्ना पंडित के खिलाफ यह कार्रवाई गैंगस्टर एक्ट की धारा 14 (1) के तहत की गई है। हाशिमपुर के मकान को कुर्क कर लिया गया है। लमही वाले घर पर भी जल्द कार्रवाई होगी। इसकी कई और संपत्तियों का पता चला है, जल्द उसे भी कुर्क किया जाएगा। 

प्रशासन ने मकान पर लगाया नोटिस बोर्ड।
प्रशासन ने मकान पर लगाया नोटिस बोर्ड।

16 साल की उम्र में की थी हत्या, दो बार सुधार गृह गया पर सुधरा नहीं

झुन्ना ने साथियों संग 16 साल की उम्र में हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। जिसके बाद दो बार ये बाल सुधार गृह भी जा चुका है। बताया जाता है कि पूर्वांचल के बड़े हिस्ट्रीशीटर अजीम अहमद गिरोह से भी झुन्ना के कनेक्शन थे। वह दिल्ली, माउंटआबू समेत कई जगहों पर वारदात कर प्लेन से भाग जाता था। पूर्वांचल में इसकी युवा अपराधियों की टीम है। छोटे मोटे जमीनी विवादों में भी ये गोली चला दिया करता था। पंजाब से गिरफ्तारी के बाद ये चित्रकूट में बंद है। 

खबरें और भी हैं...