लखनऊ:योगी सरकार ने देर रात किए 9 आईएएस अधिकारियों के तबादले; महोबा के डीएम भी हटाए गए, 8 प्रतीक्षारत अधिकारियों को मिली तैनाती

लखनऊ2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
योगी सरकार ने देर रात 9 आईएएस अधिकारियों का तबादला कर दिया। इसमें महोबा के डीएम को भी हटा दिया गया। - Dainik Bhaskar
योगी सरकार ने देर रात 9 आईएएस अधिकारियों का तबादला कर दिया। इसमें महोबा के डीएम को भी हटा दिया गया।
  • मंगलवार देर रात सरकार ने प्रशासनिक स्तर पर फेरबदल किया गया
  • आईएएस अधिकारियों के साथ दो पीसीएस अधिकारियों का भी तबादला

उत्तर प्रदेश में पिछले एक हफ्ते से प्रशासनिक स्तर पर कई बदलाव देखने को मिले हैं। अब एक बार फिर योगी सरकार ने मंगलवार देर रात प्रशासनिक स्तर पर फेरबदल करते हुए 9 आईएएस और दो पीसीएस अधिकारियों का ट्रांसफर किया है। वहीं, उन आठ आईएएस अधिकारियों को भी तैनाती मिल गई है जिन्हें पिछले दिनों प्रतीक्षारत सूची में रखा गया था।

महोबा के डीएम अवधेश कुमार तिवारी को विशेष सचिव कृषि उत्पादन आयुक्त शाखा तैनात किया गया है। उनकी जगह सत्येंद्र कुमार को जिले का नया डीएम बनाया गया है। कानपुर के मंडलायुक्त व श्रमायुक्त सुधीर एम. बोबड़े को हटाकर सदस्य न्यायिक राजस्व परिषद के पद पर भेजा गया है। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से लौटे और प्रतीक्षारत मोहम्मद मुस्तफा को प्रदेश का नया श्रमायुक्त बनाया गया है। परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक राजशेखर को कानपुर का नया मंडलायुक्त बनाया गया है।

धीरज साहू को परिवहन निगम का अतिरिक्त कार्यभार

परिवहन आयुक्त धीरज साहू को एमडी परिवहन निगम का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। लखनऊ के मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम को प्रमुख सचिव संस्कृति व पर्यटन बनाया गया है। आईएएस एसोसिएशन के सचिव तथ सचिव लोक निर्माण विभाग रंजन कुमार लखनऊ के नए मंडलायुक्त बनाए गए हैं। प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन व राष्ट्रीय एकीकरण जितेंद्र कुमार से पर्यटन व संस्कृति का प्रभार ले लिया गया है।

महोबा के डीएम अवधेश तिवारी को हटाकर कृषि उत्पादन आयुक्त शाखा में विशेष सचिव बनाया गया है। पीसीएस अधिकारियों में महराजगंज में उपजिलाधिकारी राधेश्याम बहादुर सिंह को बदायूं व हरदोई में उपजिलाधिकारी मनोज कुमार सागर को रामपुर इसी पद पर भेजा गया है।

आठ अधिकारियों को मिली नई तैनाती

इसके साथ ही 12 सितंबर को आठ जिलों से हटाकर प्रतीक्षारत किए गए जिलाधिकारियों को तैनाती दे दी गई है। राजेश पांडेय को विकास प्राधिकरण मेरठ उपाध्यक्ष पद से मऊ का डीएम बनाया गया था, लेकिन वह कार्यभार संभालते उसके पहले उन्हें प्रतीक्षारत कर दिया गया था। उन्हें भी कम महत्व वाले एपीसी शाखा में विशेष सचिव बनाया गया है।