पीलीभीत में मॉक ड्रिल का किया गया आयोजन:डिरेल होने के बाद रेलवे कोच में लगी आग, NDRF और अन्य विभागों ने चलाया रेस्क्यू अभियान

पीलीभीत2 महीने पहले

पीलीभीत रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर मॉक ड्रिल का अभ्यास किया गया। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग पुलिस प्रशासन समेत एनडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू अभियान चलाया। कोच में फंसे लोगों को बाहर निकाला।

दरअसल गुरुवार को पीलीभीत रेलवे स्टेशन परिसर में स्थित प्लेटफार्म नंबर एक के पास रेलवे कोच के डिरेल होने के बाद उसमें आग लग गई। आनन-फानन में रेलवे प्रबंधन द्वारा इस पूरे मामले की सूचना आला अधिकारियों व अन्य अधिकारियों को दी गई। जिसके बाद मौके पर रेस्क्यू अभियान चलाने के लिए पुलिस विभाग स्वास्थ्य विभाग व एनडीआरएफ की टीम पहुंची। सभी टीमों ने एकजुट होकर आग बुझा कर कोच में फंसे यात्रियों को सुरक्षित रेस्क्यू किया।

रेलवे स्टेशन पर मॉक ड्रिल के द्वारा ट्रेन में लगी आग को बुझाया गया।
रेलवे स्टेशन पर मॉक ड्रिल के द्वारा ट्रेन में लगी आग को बुझाया गया।

सूचना मिलने पर दौड़े पुलिस अधिकारी
रेस्क्यू अभियान की हकीकत परखने के लिए रेलवे डीआरएम आशुतोष पंत भी अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। रेलवे स्टेशन परिसर में आयोजित मॉक ड्रिल की सूचना पुलिस विभाग स्वास्थ्य विभाग व विद्युत विभाग को इंसिडेंट की तरह दी गई थी किसी भी विभाग को मॉक ड्रिल के संबंध में कोई जानकारी नहीं थी। बड़ी घटना की जानकारी मिलने के बाद अपर पुलिस अधीक्षक पवित्र मोहन त्रिपाठी सीएमओ आलोक कुमार सीओ सिटी सुनील दत्त विद्युत विभाग के अधिशासी अभियंता ज्ञानेंद्र सिंह फायर ब्रिगेड की टीम के साथ मौके पर पहुंचे और रेस्क्यू अभियान में सहयोग किया।

ट्रेन में फंसे लोगों को एनडीआरएफ की टीम बाहर निकालती हुई।
ट्रेन में फंसे लोगों को एनडीआरएफ की टीम बाहर निकालती हुई।

स्वास्थ्य विभाग व फायर ब्रिगेड की टीम लापरवाह
रेस्क्यू अभियान के दौरान एनडीआरएफ की 30 सदस्य टीम ने बेहतर प्रदर्शन किया। मौके पर मौजूद फायर ब्रिगेड की टीम व स्वास्थ्य विभाग की टीम लापरवाही करती नजर आईं। स्वास्थ्य विभाग की टीम घटना के दौरान रेस्क्यू किए गए सांकेतिक लोगों को जमीन पर पड़ा देख मुख दर्शक बनी रही। वहीं दूसरी तरफ सांकेतिक लोगोम के पुतलों को फायर विभाग के कर्मचारियों ने कई को एक बार में गोद मे लादकर बाहर निकाला।

खबरें और भी हैं...