पीलीभीत में फिजियोथैरेपिस्ट ने लिखा सुसाइड नोट:लिखा- प्रदेश ही नहीं देश का पहले फिजियो जो मानसिक अवसाद में, आत्महत्या करने का विचार करने पर मजबूर

पीलीभीत9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पीलीभीत में फिजोयोथैरेपी सेंटर पर चिकित्सकों को बैठाने की शिकायत पर हुई जांच के बाद एसीएमओ की कार्रवाई से सेंटर संचालक काफी आहत हैं। शासनदेश का हवाला देने के बाद भी उसका पंजीकरण नहीं हो पा रहा है। एसीएमओ पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए अब सेंटर संचालक ने परिवार सहित न्याय न मिल पाने पर आत्महत्या पर विचार करने का ऐलान किया है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट भी वायरल की गई है। इसमें प्रधानमंत्री के अलावा मुख्यमंत्री और जिले के अधिकारियों को संबोधित किया गया है।

फिजियो के पोस्ट से जिले में मचा हड़कंप

संजय रायल पार्क में उड़ान फिजोयोथैरेपी सेंटर संचालित हो रहा है। पिछले माह किसी ने सेंटर संचालक पर क्लीनिक संचालित करने और डॉक्टर को बैठाने का आरोप लगाते हुए आईजीआरएस पर शिकायत की थी। शिकायत पर सीएमओ के आदेश पर 23 अप्रैल को एसीएमओ डॉ. केके जौहरी ने संचालक सीपी पटेल को नोटिस भेजकर 28 को साक्ष्यों के साथ कार्यालय में तलब किया था। संचालक का आरोप है कि वह साक्ष्यों और केन्द्र तथा प्रदेश सरकार के आदेशों को लेकर गया था। दिखाने के बाद भी जांच अधिकारी नहीं माने और उससे सेंटर बंद होना लिखवा लिया।

संचालक का कहना है कि उसने पंजीकरण के लिए आवेदन करना चाहा तो उसे जानकारी ही नहीं दी गई है। जबरन सेंटर बंद होने और दोबारा न खोलने की बात लिखवाने से वह आहत हैं। न्याय के लिए उसने सोशल मीडिया पर पोस्ट भी वायरल की है। लिखा है कि यूपी का नहीं पूरे भारत का ऐसा फिजियो होगा जो मानसिक अवसाद में आकर पूरे परिवार के साथ आत्महत्या करने के लिए विचार करने पर मजबूर होगा। यह पोस्ट प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, एमपी संतोष गंगवार, राज्यमंत्री संजय गंगवार, डीएम, सीएमओ के अलावा हाइकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट को संबोधित की गई है।

खबरें और भी हैं...