आस्था:रवि योग में मनाई नवमी, आज दशहरा, लेकिन काेराेना महामारी के चलते नहीं हाेगा रावण दहन

प्रतापगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे स्तर पर रावण के पुतले का दहन किया जाएगा, कन्या पूजन कार्यक्रम हुए

जिले में बुधवार को दुर्गाष्टमी पूजन के बाद गुरुवार को रवि योग में महानवमी मनाई गई। शुक्रवार को दशहरा है। नगर परिषद की ओर से प्रतिवर्ष दशहरा पर्व पर रावण के पुतले का दहन किया जाता है, लेकिन गत वर्ष की तरह कोरोना गाइड लाइन के चलते इस बार भी रावण के पुतले का दहन नहीं किया जाएगा। नगर परिषद सभापति रामकन्या गुर्जर ने बताया कि सरकार की कोरोना गाइड लाइन के अनुसार किसी प्रकार के मेले, बड़े सार्वजनिक आयोजन जिसमें सैकडों लोग जुटते हो आदि करने पर मनाही है। ऐसे में इस बार नगर परिषद की ओर से रावण के पुतले का दहन नहीं किया जाएगा।

इसी प्रकार जिले में कहीं भी बड़े स्तर पर रावण के पुतले का दहन नहीं किया जाएगा। दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे स्तर पर रावण के पुतले का दहन किया जाएगा। वहीं अपवाद के रूप में खेरोट गांव में रावण के पुतले को गोली से मारने की परंपरा है। ऐसे में खेरोट में रावण दहन की परंपरा का निर्वहन किया जाएगा।

ज्योतिषाचार्य डॉ. संजय गील ने बताया कि पंचांग में तिथि का समय बढ़ने घटने के कारण कई बार नवरात्र पूरे नौ दिन के तो कई बार आठ दिन में ही संपन्न हो जाते हैं। गुरुवार को महानवमी का पूजन किया गया। देवी माता के दरबार में सुबह से ही भक्तों के आने का सिलसिला चलता रहा जो देर शाम तक जारी रहा। अवलेश्वर कस्बा सहित आसपास ग्रामीण क्षेत्रों में नवरात्र विसर्जन पर मंदिरों में हवन, यज्ञ व कई कार्यक्रम हुए। महानवमी पर कन्याओं की भी पूजा कर उन्हें भोजन कराया गया और श्रद्धानुसार भेंट दी गई।

विहिप ने किया शस्त्र और कन्या पूजन

विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल ने दुर्गाष्टमी पर्व पर शस्त्र पूजन और कन्या पूजन कार्यक्रम किया। विश्व हिंदू परिषद दुर्गा वाहिनी मातृशक्ति द्वारा दुर्गाष्टमी पर्व एवं शस्त्र पूजन का कार्यक्रम अरनोद प्रखंड दुर्गा वाहिनी जिला संयोजिका अनिता बैरागी, प्रखण्ड संयोजिका इंदिरा राठौर, सह संयोजिका ममता प्रजापत एवं मातृशक्ति संयोजिका श्यामा राव द्वारा संपन्न हुआ।

विहिप प्रचार प्रसार प्रमुख दीपक शाह ने बताया कि कार्यक्रम कि अध्यक्षता आगंनबाड़ी पर्यवेक्षक सुधा मूंदडा और राजेश्वरी और बजरंग दल कार्यकर्ताओं द्वारा दीप प्रज्ज्वलन कर आचार पद्धति द्वारा की गई। कार्यक्रम में शस्त्र पूजन को लेकर जानकारी दी गई।

पारसोला| महानवमी के अवसर पर गुरुवार को आगरिया भैरवजी का भैरव मंदिर से जैन मंदिर होते हुए चुंगी नाका तक सर्वर भ्रमण निकाला गया। इससे पूर्व शांति के लिए हवन किया गया। सर्वर के नगर भ्रमण के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आए। इस अवसर पर मंदिर की सेवा पूजा करने वाले पुजारी को पगडी और नारियल भेंट कर सम्मानित किया।​​​​​​​

​​​​​​​

खबरें और भी हैं...