सभी खाते सील:वरिष्ठ सहायक ने रिश्तेदाराें के खातों में 50 लाख से ज्यादा जमा कराए

प्रतापगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चितरी स्कूल के वरिष्ठ सहायक के खिलाफ केस दर्ज, शिक्षा विभाग ने निलंबित किया, जांच कमेटी बनाई

डूंगरपुर/सागवाड़ा | चितरी स्कूल के बाबू के खिलाफ 1.62 कराेड़ रुपए की सरकारी राशि काे गलत तरीके से धाेखाधड़ी कर खुद के खाते में जमा करने के मामले में चितरी थाने में एफअाईअार दर्ज हाे गई। भास्कर के खुलासे के बाद जिला प्रशासन ने मामले की जांच शुरू कर दी है। दीवड़ा छोटा हाल चितरी स्कूल के प्रधानाचार्य प्रवीण कुमार भट्ट ने स्कूल के वरिष्ठ सहायक हेमन्त पाटीदार के खिलाफ फर्जी हस्ताक्षर कर गबन करने का हवाला देते हुए धाेखाधड़ी समेत अन्य धारा में प्रकरण दर्ज कराया है।

मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी, डूंगरपुर इंदिरा लठ्ठा ने बताया कि इस मामले में जांच कमेटी गठित कर दी है। वरिष्ठ सहायक पाटीदार को निलंबित कर दिया है। प्रिंसिपल ने अंदेशा जताया है कि उपकोष कार्यालय का कोई कार्मिक इस मामले में लिप्त है, क्योकि 54-54 लाख की बड़ी राशि के तीन बिल पास हुए। बिना मेरी जानकारी के पासवर्ड रिसेट हुआ। फर्जी हस्ताक्षर कर करोड़ों रुपयों की राशि का गबन कर सरकार को नुकसान पहुंचाया। राशि के खाते में जाने का परिवादी प्रिंसिपल के माेबाइल पर काेई अाेटीपी नहीं अाया है। गुरुवार को भी उसने 10 लाख रुपया केश निकाल लिया था।

प्रिसिंपल को डाेंगल ही नहीं दिया, नोटिस देने के बाद भी आनाकानी रिपाेर्ट के अनुसार 13 जून काे पे मैनेजर का पासवर्ड हेमन्त ने दिया। अगले दिन 14 जून काे प्रिंसिपल प्रवीण कुमार ने डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र की मांग की तो उसने कहा कि अभी व्यस्त हूं। इस कारण आपको बाद में देता हूं। कहकर उसने डोंगल अपने पास ही रख लिया। हेमन्त पाटीदार की तरफ से दिए गए पासवर्ड के आधार पर 15 जून काे पे मैनेजर की साइड पर लाॅग इन करने कोशिश की तो लाॅग इन नहीं हुआ।

इस पर हेमन्त पाटीदार को पूछा तो उसने कहा कि मैंने पासवर्ड बदल दिया है। 16 जून काे परिवादी के बार बार मांगे जाने पर भी हेमन्त ने डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र (डीएससी) का डोंगल नही दिया। लिखित में भी नोटिस दिया तो उसने बहाना बनाया कि वेतन आहरण का कार्य कर रहा हूं। व्यस्त हूं इसलिए बाद में आपको डोंगल देता है। इसके बाद हेमन्त पाटीदार पे मैनेजर की साइड पर लाॅग इन करने का जो नया पासवर्ड उसने बनाया था। वह दिया,उसके बाद परिवादी ने उसको हिदायत दी। मेरी बिना जानकारी के पासवर्ड नहीं बदलाेगे।

आरोपी के एक खाते में अभी भी 2.16 करोड़ जमा है
वहीं दूसरी ओर शुक्रवार को जिला कोषाधिकारी जितेंद्र मीणा मय टीम सागवाड़ा उपकोष कार्यालय पहुंचे अाैर जांच शुरू की। यहां उप कोषाधिकारी मितेश शाह से जानकारी ली। सभी दस्तावेजाें का अवलाेकन किया। साथ ही चितरी सीनियर स्कूल के संस्थाप्रधान प्रवीण भट्ट को भी बुलाकर पूछताछ की।

वहीं, गबन करने वाले बाबू हेमंत पटेल काे भी बुलवाया गया। पर, वाे नहीं अाया। पूरे मामले को लेकर करीब 4 घंटे तक जांच व पूछताछ करने के बाद जिला कोषाधिकारी मीणा ने बताया कि चितरी सीनियर स्कूल के बाबू हेमंत कुमार पाटीदार के ओबरी बैंक ऑफ बड़ौदा के निजी खाते में 2 करोड़ 16 लाख रुपया अभी भी है।

मीणा ने बताया कि जिस खाते में 20-22 दिन पहले कुछ हजार रुपए थे वहां अचानक लाखों रुपए का टर्नओवर होने लगा, जिससे वह शक के दायरे में आया। आगे कार्रवाई के बारे में पूछने पर बताया कि शिक्षा विभाग का पैसा है, एफआईआर वही करेंगे और रिकवरी भी उनको करनी है। जिला कोषाधिकारी मीणा ने बताया कि तीन बड़े ट्रांजैक्शन एक ही दिन में करने से मामले का पता चला। करीब 4 दिन पहले तीन बड़े ट्रांजेक्शन हुए थे।

चितरी स्कूल का रिकाॅर्ड सील किया गलियाकोट ब्लॉक शिक्षा अधिकारी हेमंत भट्ट द्वारा शुक्रवार को चितरी विद्यालय में विभागीय कार्रवाई करते हुए रिकाॅर्ड को सील किया। कार्रवाई के दौरान मौके पर अतिरिक्त ब्लॉक शिक्षा अधिकारी रमेशचंद्र पाठक, नीरज पाटीदार, निलेश पाटीदार, उपकोष कार्यालय सागवाड़ा के अधिकारी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...