त्रिवेणी में संपन्न हुआ पहला स्नान पर्व:लाखों श्रद्धालुओं ने त्रिवेणी में लगाई आस्था की डुबकी, कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना की

करछना, प्रयागराज3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रयागराज

प्रयागराज के करछना, संगम की रेती पर लगे माघ मेले के पहले स्नान पर्व मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा। ब्रह्म मुहूर्त से ही हजारों की संख्या में श्रद्धालु त्रिवेणी संगम में आस्था की डुबकी लगाने के लिए पहुंच गए। घाटों पर सुरक्षा के लिहाज से जल पुलिस के साथ-साथ एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीमें तैनात की गई थी। घाटों पर भारी भीड़ ना उमड़े इसके लिए घाटों की संख्या में बढ़ोतरी की गई है।

24 अलग-अलग घाट बनाए गए

इस बार मेला क्षेत्र नैनी अरैल घाट सहित 24 अलग-अलग घाट बनाए गए हैं। साथ ही सुरक्षा के लिहाज से 4 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों की मेला क्षेत्र में तैनाती की गई है। जिसमें सिविल पुलिस के साथ-साथ सीआरपीएफ, पीएसी, आरएएफ के अलावा आठ के कमांडो का दस्ता भी तैनात है। साथ ही एलआईयू की टीमें भी सादी वर्दी में मेला क्षेत्र में भ्रमण कर रही है। इसके अलावा 13 अस्थायी पुलिस थाने और 26 पुलिस चौकी का भी निर्माण किया गया है। सीसीटीवी और ड्रोन के जरिए भी पूरे मेला क्षेत्र की निगरानी की जा रही है।

सुरक्षा के लिहाज से सभी चाक-चौबंद इंतजाम

एसपी मेला राजीव नारायण मिश्रा ने बताया कि सुरक्षा के लिहाज से सभी चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं, साथ ही कोविड को देखते हुए बेहद सावधानी बरती जा रही है। घाटों पर विशेष निगरानी की जा रही है, साथ ही कल्पवास करने वाले श्रद्धालुओं को भी सुरक्षा के लिहाज से सतर्कता और सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं। जो भी श्रद्धालु कल्पवास के लिए आ रहे हैं। उन्हें 72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर रिपोर्ट लेकर आने के लिए कहा गया है। इसके अलावा अगर कोई श्रद्धालु नहीं लेकर आया है तो उसके लिए यहीं पर जांच की व्यवस्था की गई है। कोशिश है कि मेला हमेशा की तरह इस बार भी निर्विघ्न रुप से सकुशल संपन्न हो सके।

खबरें और भी हैं...