पड़ोसी जलील करते थे इसलिए बच्ची को मार डाला:प्रयागराज में 7 साल की बेटी की हत्या से उठा पर्दा, आरोपी गिरफ्तार

प्रयागराजएक महीने पहले
मऊआइमा में 7 साल की बच्ची के मर्डर केस में आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

प्रयागराज में 7 साल की बच्ची की हत्या का मंगलवार को पुलिस ने खुलासा किया। हत्या पड़ोसी बच्चा लाल मुसहर ने ही की थी। पुलिस ने हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि बच्ची 30 नवंबर से लापता थी, जिसका शव 5 दिसंबर को झाड़ियों में मिला था।

परिवार से अकेले नहीं निपट पाया तो बच्ची को मार डाला
पुलिस अधीक्षक गंगापार अभिषेक अग्रवाल ने बताया कि बच्चा लाल मुसहर और श्रीराम मुसहर पड़ोसी हैं। दोनों के बच्चे आपस में खेलते-कूदते थे। दोनों परिवारों के बच्चों के बीच अक्सर किसी न किसी विवाद पर मारपीट होती रहती थी। बच्चा ने पुलिस को बताया कि बच्चों के विवाद में उसे और उसके बच्चों को अक्सर मारा-पीटा जाता था। घर से जलील कर भगा दिया जाता था। 30 नवंबर को जब वह काम से अपने घर लौटा तो उसके बच्चों ने बताया कि आज फिर श्रीराम मुसहर के घर वालों ने उनके साथ गाली-गलौज और मारपीट की है। यह सुनते ही बच्चा लाल गुस्से में बदला लेने की ठान ली।

दावत से लौट रही थी बच्ची तभी दबोच लिया

30 नवंबर की रात जब 7 साल की मासूम गांव के एक भोज में शामिल होकर अकेले लौट रही थी तो उसे पकड़ लिया और उसका मुंह दबाकर झाड़ियों में ले गया। दारू के नशे में उसने 7 साल की बच्ची का गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद लाश को झाड़ियों में छिपा दिया। इसके बाद चुपचाप घर आकर बैठ गया। बच्ची पिता श्रीराम मुसहर की तहरीर पर जब उससे कड़ाई से पूछताछ की गई तो बच्चा लाल ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया। पुलिस ने उसे जेल भेज दिया है। थानाध्यक्ष सुरेश सिंह ने बताया कि आरोपी बच्चा लाल मुसहर को मंगलवार की सुबह करीब नौ बजे कहली चौराहे से गिरफ्तार किया गया है।

30 नवंबर से लापता थी बच्ची, 5 दिन बाद मिला शव

बच्ची के पिता ने बताया कि 30 नवंबर को बच्ची घर के बाहर खेल रही थी। उसी समय अचानक लापता हो गई। काफी देर जब बच्ची घर नहीं लौटी तो उसकी तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चल पाया। इसके बाद अगले दिन सुबह पुलिस को सूचना दी। पिता ने बताया कि उनका पड़ोसी से जमीन का विवाद चल रहा है। उन्होंने उसी पर बच्ची की हत्या करके शव को झाड़ियों पर फेंकने का आरोप लगाया था। शक इसलिए भी हुआ कि जिस दिन बच्ची लापता हुई थी उसी दिन से आरोपी परिवार समेत फरार था।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर मारने की बात

बच्ची का शव क्षत-विक्षत था और चेहरा बुरी तरह से झुलसा हुआ था। ग्रामीणों का कहना है कि उसके चेहरे पर तेजाब डाला गया था। हालांकि, मऊआइमा इंस्पेक्टर सुरेश सिंह का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर हत्या करने की बात सामने आई है। बच्ची के साथ दुष्कर्म की बात सामने नहीं आई है। बच्ची की जब डेड बॉडी मिली थी तब इस बात की आशंका जताई जा रही थी कि उसके साथ रेप भी हो सकता है हुआ हो। हालांकि पुलिस इस बात से इनकार करती रही है।

खबरें और भी हैं...