अनुपम श्याम से किया वादा भूले आमिर खान:प्रतापगढ़ में डायलिसिस सेंटर स्थापित करने का दिया था अश्वासन, बाद में फोन उठाना बंद कर दिया

प्रयागराज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काश! आमिर खान ने अपना वादा निभा दिया होता तो अनुपम श्याम की अंतिम इच्छा पूरी हो जाती। - Dainik Bhaskar
काश! आमिर खान ने अपना वादा निभा दिया होता तो अनुपम श्याम की अंतिम इच्छा पूरी हो जाती।
  • डायलिसिस सेंटर न होने से प्रतापगढ़ में अपनी मां के अंतिम दर्शन न कर पाने का अफसोस लेकर चले गए अनुपम श्याम

अभिनेता आमिर खान ने अनुपम श्याम से प्रतापगढ़् में एक डायलिसिस सेंटर स्थापित करने का किया गया अपना वादा नहीं निभाया। अनुपम श्याम के छोटे भाई अनुराग श्याम का कहना है कि आमिर खान से मुलाकात में उन्होंने प्रतापगढ़ में चार डायलिसिस मशीनें स्थापित करने का आश्वासन दिया था पर बाद में आमिर ने अनुपम श्याम का फोन ही उठाना बंद कर दिया।

ऐसे में प्रतापगढ़ में डायलिसिस सेंटर न होने से अपनी मां के अंतिम दर्शन न कर पाने का दर्द समेटे अनुपम श्याम इस दुनिया से चले गए।

आमिर खान के घर मिलने गए थे अनुपम श्याम

अनुपम श्याम के पिता पंडित राधेश्याम ओझा रेलवे में गार्ड थे। पिता के निधन के बाद उनकी मां शांति ओझा छोटे भाई अनुराग श्याम के साथ यूपी के प्रतापगढ़ शहर में रहती थीं। विछले कुछ महीनों से वह बीमार चल रही थीं। उधर, अनुपम श्याम भी पिछले कुछ सालों से किडनी की बीमारी से ग्रस्त चल रहे थे। वे डायलिसिस पर थे। मुंबई में ही उनका इलाज चल रहा था। दो माह पहले जब उनकी मां की तबियत ज्यादा खराब हुई तो अनुपम श्याम अभिनेता आमिर खान से मिलने गए। अनुपम श्याम के साथ उनके छोटे भाई अनुराग श्याम भी थे।

अपने बिंदास और बेलौस अंदाज के लिए अनुपम श्याम जाने जाते रहे हैं।
अपने बिंदास और बेलौस अंदाज के लिए अनुपम श्याम जाने जाते रहे हैं।

डायलिसिस सेंटर स्थापित करने को मांगे थे पैसे, कहा था लौटा देंगे

अनुराग श्याम ने दैनिक भास्कर से बातचीत में बताया कि अनुपम श्याम ने आमिर खान से मिलकर प्रतापगढ़ में एक डायलिसिस सेंटर बनाने में मदद मांगी। यह भी कहा कि अभी आप बनवा दो बाद में मैं धीरे-धीरे पेसे लौटा दूंगा। इसपर आमिर खान ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं। मैं अपने पीए से कहता हूं। वहां चार मशीनें लगवा देते हैं, जिसमें से दो गरीबों का मुफ्त में डायलिसिस करेंगी और दो पेड होंंगी। इसके बाद अनुपम श्याम को उम्मीद हो गई कि अब प्रतापगढ़ में भी डायलिसिस सेंटर खुल जाएगा और मैं अपनी मां से मिलने जा पाऊंगा।

बाद में आमिर ने फोन ही उठाना बंद कर दिया

उधर, मां की तबियत दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही थी और इधर आमिर खान का एक सप्ताह बाद भी कोई रिस्पांस नहीं आया। अनुपम श्याम ने आमिर को फोन कर वादा याद दिखाने की कोशिश की पर उनका फोन नहीं उठा। लगातार कई दिनों तक अलग-अलग समय पर फोन करने के बाद भी जब आमिर ने फोन नहीं उठाया तो अनुपम श्याम निराश हो गए।

अनुपम श्याम के साथ प्रतिज्ञा फेम एक्ट्रेस पूजा गोर।
अनुपम श्याम के साथ प्रतिज्ञा फेम एक्ट्रेस पूजा गोर।

...और एक दिन खबर आई मां नहीं रहीं

प्रतापगढ़ में डायलिसिस सपोर्ट न हो पाने के अनुपम श्याम अपनी मां शांति ओझा से मिलने नहीं जा पा रहे थे। वो मुंबई में थे और मां प्रतापगढ़ में। यह भौतिक मजबूरी उन्हें अंदर ही अंदर साल रही थी कि तभी 18 जून 2021 की मनहूस खबर आई… मां नहीं रहीं। अनुपम श्याम खतरा मोल लेकर अपनी मां के अंतिम दर्शन करना जाना चाह रहे थे पर डॉक्टरों ने सख्ती से मना कर दिया। बोला अगर गए तो जिंदा वापस नहीं आओगे।

मां के बेहद करीब थे अनुपम श्याम, अंतिम दर्शन न कर पाने से टूट गए

अनुराग श्याम ने बताया कि भैया को मां के अंतिम दर्शन न कर पाने का बेहद दुख था। वो मां के बेहद करीब थे। मां के निधन और अंतिम सस्कार में न शामिल हो पाने के दर्द ने उनकी जीने की जैसे इच्छा ही खत्म कर दी। उन्होंने खाना-पीना बेहद कम कर दिया। धीरे-धीरे उनकी तबियत बिगड़ती गई और 8 अगस्त 2021 की रात 1:20 पर मुंबई के एक निजी अस्पताल में मां से मिलने की अधूरी इच्छा लिए इस दुनिया से विदा हो गए।

काश! मेरे भाई की अंतिम इच्छा पूरी हो पाती

अनुराग कहते हैं कि मेरे भाई अनुपम श्याम ने आमिर खान के साथ आशुतोष गोवारिकर की लगान में काम किया था। प्रतिज्ञा जैसे सीरियल को अपने अभिनय से नई ऊंचाई दी। उनके सधे अभियन के कारण ही आमिर खान भैया को मानते भी थे पर पता नहीं क्यों उन्होंने अपना वादा नहीं निभाया। अगर प्रतापगढ़ में डायलिसिस की सुविधा मिल जाती तो मेरे भाई मां के अंतिम दर्शन कर पाए होते। इस बात का हम सभी को बहुत अफसोस है।

अनुपम ने अपने सधे अभिनय से लोगों के दिलों में हमेशा के लिए जगह बना ली थी।
अनुपम ने अपने सधे अभिनय से लोगों के दिलों में हमेशा के लिए जगह बना ली थी।
खबरें और भी हैं...