प्रयागराज…पांटून पुल बना रहा श्रमिक डूबा:पैर फिसलने पर हुआ हादसा, नहीं मिला शव, खोजने में जुटे गोताखोर

प्रयागराजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जल पुलिस व गोताखोरों की मदद से शव को खोजना शुरू किया, पर अभी तक शव का कुछ पता नहीं चल सका है। - Dainik Bhaskar
जल पुलिस व गोताखोरों की मदद से शव को खोजना शुरू किया, पर अभी तक शव का कुछ पता नहीं चल सका है।

माघ मेले की तैयारी चल रही है। इसी के तहत पीपा पुल का निर्माण भी चल रहा है। गंगोली शिवाले पीपा पुल निर्माण के दौरान एक मजदूर का पैर फिसल गया, जब तक वह संभलता नदी में गिर गया। पानी का बहाव तेज होने की वजह से पानी में बह गया। वहीं सूचना पर पहुंच दारागंज पुलिस ने जल पुलिस व गोताखोरों की मदद से शव को खोजना शुरू किया, पर अभी तक शव का कुछ पता नहीं चल सका है।

घटना की जानकारी होने पर मौके पर पहुंचे पुलिस के आलाधिकारी।
घटना की जानकारी होने पर मौके पर पहुंचे पुलिस के आलाधिकारी।

झूंसी का रहने वाला था मजदूर

झूंसी थाना के नई झूंसी निवासी लल्लू निषाद का 28 वर्षीय पुत्र अरुण निषाद पीपा पुल निर्माण का काम कर रहा था। उसी दौरान उसका पैर फिसल गया। वह जबतक संभलता गंगा नदी में गिर गया। तेज बहाव की वजह से वह ज्यादातर देर तक नहीं तैर नहीं सका और नदी में समा गया। हादसे की जानकारी मिलने पर अरुण की पत्नी कुंजन भी रोते रोते-बिलखते पहुंची। अरुण की दो बेटियां नन्हा और जिया हैं। हादसे के बाद श्रमिकों ने पांटून पुल का काम बंद कर दिया है। दारागंज पुलिस का कहना है कि एसडीआरएफ की टीम डूबे श्रमिक काे ढूंढने का प्रयास कर रही है। पर अभी तक सफलता नहीं मिल सकी।

खबरें और भी हैं...