पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Allahabad High Court Rejected Vijay Mishra's Bail Application Again, None Of The Lawyer's Arguments Workedइलाहाबाद हाईकोर्ट से विजय मिश्रा की जमानत अर्जी फिर खारिज की, वकील की कोई भी दलील काम न आई

बाहुबली विधायक को फिर झटका:इलाहाबाद हाईकोर्ट से विजय मिश्रा की जमानत अर्जी फिर खारिज की, काम न आई वकील की दलील

प्रयागराज4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बाहुबली विधायक विजय मिश्रा को एक बार फिर तगड़ा झटका दिया है। हाईकोर्ट ने विजय मिश्र को जमानत पर रिहा करने से इनकार कर दिया है। उनकी जमानत अर्जी खारिज कर दी गई है। यह आदेश न्यायमूर्ति ओम प्रकाश ने दिया है।

रिश्तेदार ने ही लिखा रखा है मुकदमा
विजय मिश्र के विरुद्ध उनके रिश्तेदार कृष्ण मोहन तिवारी ने भदोही के गोपीगंज थाने में मकान पर कब्जा करने, जान से मारने की धमकी देने और अपने बेटे के नाम वसीयत करने का दबाव डालने के आरोप में 4 अबस्त 2020 को एफआईआर दर्ज करा रखी है। कोर्ट ने आरोपों की गंभीरता व अपराधों में संलिप्तता को देखते हुए विजय मिश्र की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

वकील ने कहा- विजय सम्मानित व्यक्ति
बाहुबली विधायक के वकील की एक भी दलील काम नहीं आई। वकील का कहना था कि वह सम्मानित व्यक्ति हैं, वे अधिकांश केस में बरी हो चुके हैं और कई मुकदमे वापस ले लिए गए हैं। बाकी राजनीतिक प्रतिद्वंदिता के कारण दर्ज कराए गए हैं। इस मामले में जो आरोप लगाए हैं वे निराधार हैं। कोई वसीयत नहीं की गयी है। लिहाजा विधायक को बेल ग्रांट की जाए।

दबंगई के कारण कोई एफआईआर दर्ज नहीं कराता
विजय मिश्रा के वकील की दलील के जवाब में सरकार की तरफ से कहा गया कि याची की दबंगई के चलते कोई एफआईआर दर्ज कराने की हिम्मत नहीं जुटा पाता है। विजय मिश्र पर हत्या, दुराचार जैसे जघन्य आरोपों के केस दर्ज हैं। गवाह डर के मारे घर में बैठ जाते हैं। उन्हें जान का खतरा बना रहता है। अगर विजय को जमानत दी गयी तो वह गवाहों पर दबाव डालेगा। उन्हें नुकसान भी पहुंचा सकता है।

दो सप्ताह पहले पत्नी को भी नहीं मिली थी जमानत
विधायक विजय मिश्र की एमएलसी पत्नी रामलली मिश्रा को भी अदालत से झटका लगा था। दो सप्ताह पहले विशेष न्यायाधीश (भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम) पुष्कर उपाध्याय की अदालत ने आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में रामलली मिश्रा की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी थी। जमानत अर्जी का विरोध एडीजीसी विनय कुमार सिंह ने किया था। सतर्कता अधिष्ठान ने विधायक विजय मिश्रा और उनकी पत्नी एमएलसी रामलली मिश्रा के खिलाफ प्रयागराज के हंडिया थाने में 17 जनवरी 2021 को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था।

खबरें और भी हैं...