• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Allahabad University Fee Hike Case: Administration's Entry In AU Fee Hike Case, Commissioner, DM Talked To The Students, There Will Be Round Table Talk With The University Administration On The Issues On 4th

AU फीस वृद्धि मामले में प्रशासन की एंट्री:कमिश्नर, DM ने की छात्रों से बात, मुद्दों पर विश्वविद्यालय प्रशासन से 4 को होगी राउंड टेबल टॉक

प्रयागराज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छात्र संगठनों के साथ हुई बैठक के बाद छात्र प्रतिनिधियों के साथ वार्ता करते कमिश्नर विजय विस्वास पंत। - Dainik Bhaskar
छात्र संगठनों के साथ हुई बैठक के बाद छात्र प्रतिनिधियों के साथ वार्ता करते कमिश्नर विजय विस्वास पंत।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में 400% फीस वृद्धि के मामले को लेकर लगातार आंदोलन और बवाल के चलते प्रयागराज के जिला प्रशासन के माथे पर बल ला दिया है। यही कारण है कि रविवार को कमिश्नर की अध्यक्षता में जिला प्रशासन ने विभिन्न छात्र संगठनों को बुलाकर उनकी समस्याएं सुनीं हैं।

प्रशासन ने छात्र संगठनों को आश्वासन दिया है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन से 4 अक्टूबर को विभिन्न मुद्दों पर राउंड टेबल टॉक होगी। छात्रों की समस्याएं सुनी जाएंगी।

आंदोलनकारियों को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस। (फाइल फोटो)
आंदोलनकारियों को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस। (फाइल फोटो)

छात्रों पर दर्ज फर्जी मुकदमे वापस होंगे

छात्र नेता अजय यादव सम्राट ने बताया कि कमिश्नर, डीएम, आईजी और एसएसपी के साथ संगम सभागार में हुई वार्ता में फीस वृद्धि, छात्रसंघ बहाली, छात्रों पर दर्ज फर्जी मुकदमें वापस लेने को लेकर विस्तार से चर्चा हुई। इसमें समाजवादी छात्रसभा, आईसा, एबीवीपी, एनएसयूआई के छात्र प्रतिनिधि शामिल रहे।

वार्ता में डीएम और कमिश्नर ने छात्रों की एक-एक बात ध्यान से सुनी और नोट की। छात्र नेता अजय यादव सम्राट ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय पर संवादहीनता का आरोप लगाते हुए कहा कि छात्र समस्याओं को लेकर के विश्वविद्यालय प्रशासन गंभीर नहीं है।

कुल पद छात्रों के बीच नहीं दिखाई देती हैं। छात्रों की समस्याओं को लेकर के विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्र संगठनों के बीच बात नहीं होती है। संवादहीनता के कारण विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्रों के बीच कम्युनिकेशन गैप हो गया है। छात्रों की मांगे विश्वविद्यालय प्रशासन नहीं सुनता है। कुलपति अपनी हठधर्मिता पर अड़ी रहती हैं। यही कारण है विश्वविद्यालय के छात्र आंदोलन को मजबूर हैं।

इस पर डीएम संजय खत्री ने छात्रों से कहा कि छात्र संगठनों की विभिन्न मांगों को लेकर के विश्वविद्यालय प्रशासन के साथ 4 अक्टूबर को एक बैठक निर्धारित की गई है। राउंडटेबल इस बैठक में छात्र संगठनों की समस्याओं को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन से सीधे वार्ता होगी। छात्र समस्याओं का हल निकालने की कोशिश की जाएगी।

तबियत बिगड़ने के बाद अनशनकारियों को टीबी सप्रू चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।
तबियत बिगड़ने के बाद अनशनकारियों को टीबी सप्रू चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।

छात्रों के ऊपर दर्ज फर्जी मुकदमे वापस लेने की मांग

प्रयागराज पुलिस प्रशासन की तरफ से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेश पांडेय व आईजी डॉ. राकेश सिंह मौजूद रहे। इस दौरान छात्र संगठनों ने छात्रों पर दर्ज मुकदमों को वापस लेने की मांग की। इसपर पुलिस प्रशासन ने छात्रों को आश्वासन दिया है कि मुकदमों की जांच कराकर निर्दोष छात्रों को बरी किया जाएगा।

फीस वृद्धि पर रास्ता निकालने का आश्वासन

इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्र संगठनों से फीस वृद्धि को लेकर आश्वासन दिया है कि इसपर विचार किया जाएगा। विश्वविद्यालय प्रशासन से फीस वृद्धि को लेकर वार्ता की जाएगी। 4 अक्टूबर को विस्तार से चर्चा की जाएगी।

फीस वृद्धि को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्र को उठाकर ले जाती पुलिस। (फाइल फोटो)
फीस वृद्धि को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्र को उठाकर ले जाती पुलिस। (फाइल फोटो)

6 अगस्त से फीस वृद्धि के खिलाफ चल रहा आंदोलन

इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने विभिन्न पाठ्यक्रमों में 400% फीस वृद्धि कर दिया है। इसके बाद विश्वविद्यालय के छात्रों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। छात्र छात्रसंघ भवन के सामने 6 अगस्त से आमरण अनशन पर बैठ गए। वह प्रतिदिन अलग अलग अंदाज में आंदोलन करते रहे।

यहां तक कि छात्रों ने अपने शरीर पर मिट्‌टी का तेल छिड़ककर आत्मदाह का प्रयास किया तो किसी ने कुलपति कार्यालय के छत पर चढ़कर सुसाइड करना चाहा। यही कारण रहा है कि लगातार पुलिस यहां मुस्तैद है। एबीवीपी, एनएसयूआई, छात्र सभा और अपना दल (एस.) छात्र मंच के बैनरतले यहां अनशन पर बैठे हैं।