पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भगोड़े IPS पाटीदार की संपत्ति होगी कुर्क:IPS मणिलाल के गांव राजस्थान पहुंची प्रयागराज से दो टीमें, पैतृक आवास पर कुर्की की कार्रवाई शुरू

प्रयागराज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भगोड़े IPS मणिलाल पाटीदार पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया है। - Dainik Bhaskar
भगोड़े IPS मणिलाल पाटीदार पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया है।
  • IPS मणिलाल पाटीदार 2020 के सितंबर माह से चल रहा है फरार
  • महोबा के क्रेशर प्लांट संचालक इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत के प्रकरण के आरोपी है पाटीदार
  • रंगदारी, भ्रष्टाचार व आत्महत्या के लिए उकसाने का भी आरोप

हत्या के आरोपी भगोड़े और एक लाख के इनामी IPS मणिलाल पाटीदार की राजस्थान में स्थित पैतृक घर पर संपत्ति की कुर्की की कार्रवाई सोमवार से शुरू कर दी गई है। संपत्ति कुर्क करने के लिए प्रयागराज से दो टीमें रवाना हो गई हैं। कोर्ट से IPS मणिलाल की संपत्ति कुर्क करने की अनुमति मिलने के बाद दोनों टीमें यहां से भेजी गई हैं, जो राजस्थान पुलिस की मदद से कुर्की की कार्रवाई कर रही हैं। बता दें, मणिलाल पाटीदार 2020 के सितंबर माह से फरार हैं।

विवेचक ने चिन्हित कर रखी हैं भगोड़े IPS की 6 से ज्यादा संपत्तियां
महोबा के क्रेशर प्लांट संचालक इंद्रकांत त्रिपाठी की गोली लगने से हुई मौत के प्रकरण के आरोपी IPS मणिलाल पाटीदार के मुकदमे के विवेचक ने जांच में उसकी 6 से ज्यादा संपत्तियां चिन्हित की हैं। जिसमें उसके राजस्थान में बने आलीशान दो मंजिला मकान, अहमदाबाद में फ्लैट, दुकान और जमीन आदि शामिल हैं। इन्हीं संपत्तियों को कुर्क करने की कार्रवाई होनी है। पिछले साल से फरार मणिलाल पाटीदार ने अपने घरवालों और पत्नी के बैंक खाते में अपने बैंक एकाउंट से तकरीबन 17 लाख रुपए का ट्रांसफर किया था। SIT (स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम) के विवेचक और एसपी क्राइम आशुतोष मिश्र ने बताया कि मणिलाल पाटीदार इस मामले में जांच टीम कानूनी दायरे में लीगल कार्रवाई कर रही है।

दो भगोड़े IPS को पकड़ेंगे सुपरकॉप:एक लाख के इनामी IPS मणिलाल पाटीदार और अभिषेक दीक्षित के पीछे लगी STF टीम, विजिलेंस भी कस रही शिकंजा

एसपी क्राइम के नेतृत्व वाली SIT कर रही है मणिलाल मामले की जांच
जनवरी 2021 में IPS के खिलाफ दर्ज मामले की विवेचना कर रही SIT (स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम) के विवेचक ने कोर्ट से परमिशन लेकर संपत्ति कुर्क करने की नोटिस जारी करने के लिए धारा 82 की कार्रवाई की थी। परमिशन मिलने के बाद राजस्थान के डूंगरपुर जिले में स्थित पैतृक घर पर कुर्की की कार्रवाई के संबंध में नोटिस चस्पा की गई थी। तय समय बीतने के बाद भी उसके हाजिर न होने पर पुलिस ने कोर्ट में कुर्की की धारा 83 की कार्रवाई के लिए अर्जी दी थी। जिस पर बीती 3 जुलाई को कोर्ट से परमिशन मिल गई थी। बीती 4 जुलाई को कुर्की की कार्रवाई के लिए पुलिस व प्रशासन की दो टीमें राजस्थान के लिए रवाना कर दी गईं।

खबरें और भी हैं...